5 बहाने जो आपको सफल होने से रोकते हैं

1020

जीवन में हर इंसान के पास कोई ना कोई लक्ष्य ज़रूर होता है लेकिन उस लक्ष्य को पाने के लिए कितने लोग जी जान से जुटते है ? किसी का लक्ष्य बड़ा होता है तो किसी का लक्ष्य छोटा लेकिन महत्व तो इस बात का है कि कौन अपने लक्ष्य को हासिल करने में सफल रहा और कौन असफल। क्या कारण है कि सफ़र में साथ चलने वाले लोग बहुत होते हैं लेकिन सफलता की मंज़िल तक चंद लोग ही पहुंच पाते हैं। कुछ ही लोग क्यों सफल होते चले जाते हैं और अधिकांश लोगों के असफल होने के पीछे क्या कारण होता है। ऐसे कौनसे बहाने हैं, ऐसा कौनसा नज़रिया होता है असफल लोगों का, जो उन्हें आगे नहीं बढ़ने देता। अगर ये नज़रिया समझ आ जाये तो स्वयं को असफलता की राह से सफलता की ओर मोड़ना आसान हो जाएगा। तो चलिए, आज आपको बताते हैं वो बहाने जो आपको सफल होने से रोकते आये हैं –

1. रिस्क लेने से लगता है डर –
सफल होने के लिए ये ज़रूरी है कि आप साहसी हो क्योंकि सफलता के इस मार्ग में आपको ढ़ेरों चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। अपनी क्षमता से आगे बढ़कर प्रदर्शन करना पड़ सकता है और किसी भी मोड़ पर रिस्क लेना पड़ सकता है। ये बिल्कुल ज़रूरी नहीं है कि रिस्क आपके लिए मुसीबत भरा ही हो। कई बार सफल होने के लिए आर या पार की स्थिति का सामना करना पड़ जाता है, ऐसे में अपने विवेक से सही दिशा को चुनना आपकी अपनी ज़िम्मेदारी ही तो है। इसे रिस्क का नाम देकर डरते रहने से कुछ नहीं होगा, सिवाय इसके कि आप अपने कदम पीछे खींच लेंगे और आगे बढ़ने से कतराने लगेंगे। इस तरह का नज़रिया केवल असफलता की ओर ही धकेलता है। आप ऐसा सोचिये कि जीवन में हर कदम पर रिस्क ही तो होता है क्योंकि आप जानते ही नहीं कि अगले पल क्या होने वाला है, फिर भी अपने तरीके से जीते है इसी जीवन को। तो बस, थोड़ा सा साहस और आत्मबल मज़बूत रखेंगे तो इस बहाने से अपना पीछा बड़ी आसानी से छुड़ा सकेंगे।

2. समय की कमी की शिकायत –
दुनिया में समय से जुड़ा, सबसे ज़्यादा लोकप्रिय बहाना अगर कोई है तो वो यही है कि इस काम के लिए मेरे पास टाइम नहीं है। अगर आप भी ऐसा ही विचार रखते हैं तो समझ जाइये कि आप भी बहाना बना रहे हैं और यही बहाना आपको सफल होने से रोक रहा है। अपनी अव्यवस्थित दिनचर्या के कारण आपको हर महत्वपूर्ण कार्य के लिए समय का अभाव महसूस होता है। जबकि असलियत ये है कि आप उस कार्य को करना ही नहीं चाहते और इस कार्य से बचने के लिए आप समय की कमी का बहाना बनाते आये है। हैरानी की बात ये है कि जब दुनिया के सफलतम लोगों के पास भी दिन के 24 घंटों का ही समय होता है, जो आपके पास भी है। तो फिर वो कैसे सफल होते चले गए और आप क्यों असफलता के अंधेरों से घिर गए। फर्क है तो सिर्फ सोच का, नज़रिये का। उन सफल लोगों ने समय के हर क्षण के महत्व को समझा और आपने समय का महत्व ही नहीं समझा। तो बताइये कैसे सफलता से आपकी मुलाकात हो सकती है। लेकिन अगर आप समय के हर पल के महत्व को समझ लें तो आज भी सफल होने की राह पर बढ़ सकते हैं और समय की कमी भी आपको अखरेगी नहीं क्योंकि आप समय की कमी का बहाना बनाना जो छोड़ चुके होंगे।

3. मैं ये काम नहीं कर सकता –
अपनी सामर्थ्य पर प्रश्नचिन्ह लगाने वालों में क्या आप भी शामिल है ? स्वयं की क्षमताओं पर अभिमान करना घातक होता है लेकिन अपनी काबिलियत को बिना परखे कम आंकना भी खुद को भारी क्षति पहुंचाने जैसा होता है। दुनिया का हर शख़्स अगर ऐसा सोच ले कि कोई लक्ष्य प्राप्त करना उसकी क्षमता से अधिक है तो आज ना कोई एवेरस्ट फतह कर पाता, ना ही कोई आविष्कार हुआ होता और ना ही कोई अमीर और सफल बन पाया होता। ये सच है कि अपनी क्षमता के स्तर से बड़े स्तर पर कार्य करने में थोड़ा डर तो लगता ही है क्योंकि ये आपका पहला अनुभव होता है लेकिन अगर इस कार्य को आप सोच-समझकर, पूरी योजना बनाकर विवेक से करेंगे तो आप जरूर सफल होंगे और आपकी क्षमताएं भी बढ़ती जाएंगी, बजाये इसके कि नया कार्य करने से आप कतराते रहें और धीरे धीरे अपनी मूल क्षमताओं को भी खो बैठे। हर इंसान में ये काबिलियत होती है कि वो ऐसा कार्य कर सके जैसा वो करना चाहता है। कोई भी लक्ष्य बड़ा नहीं होता जब आपका हौसला और साहस बड़ा हो। इसलिए अगर आप भी सफल होना चाहते हैं तो आज ही से खुद से कहिये – “मैं ये काम कर सकता हूँ। “

4. भाग्यवादी बने रहना –
क्या आप भी अपनी असफलता के लिए भाग्य को कोसते हैं ? क्या आपने ऐसा कोई शख्स देखा है जो कर्म विहीन रहकर भाग्य के भरोसे ही सफल हो गया हो। नहीं ना! क्योंकि कर्म ही जीवन है। आप जैसे कर्म करेंगे वैसे ही परिणाम आपको प्राप्त होंगे। सफल लोग कभी भी भाग्य के भरोसे नहीं बैठते, ना ही स्वयं की ग़लतियों के लिए भाग्य को कोसा करते हैं। ऐसे लोग निरंतर प्रयास करते हैं और हर प्रयास के बाद की गयी ग़लतियों का आंकलन करके उन्हें सुधारते हैं और फिर से जुट जाते हैं प्रयास करने में क्योंकि उन्हें ये ज्ञात होता है कि वो स्वयं ही अपने भाग्य के निर्माता है जबकि असफल लोग कोई भी कार्य मन से नहीं करते और उस आधे अधूरे कार्य से जो विपरीत परिणाम मिलते है वो भाग्य के माथे मढ़ देते हैं। ऐसा करने से वो स्वयं का ही नुकसान करते हैं और सफल होने के रास्ते स्वयं के लिए बंद करते जाते हैं। अब ये आपको तय करना है कि आप भाग्यवादी नज़रिया अपनाकर जीवनभर असफल ही बने रहना चाहते है या फिर कर्मवादी बनकर अपने लक्ष्यों को हासिल करके सफलता का आनंद उठाना चाहते हैं।

5. कभी मौका ही नहीं मिला –
आपने ये तो सुना होगा कि अवसर एक बार आपके दरवाज़े पर दस्तक ज़रूर देता है लेकिन जब आप उसके लिए अपना दरवाज़ा नहीं खोलते तो वो किसी और के दरवाज़े पर दस्तक देने चला जाता है। अब बताइये ग़लती अवसर की है या आपकी ? अक्सर ये बहाना बनाया जाता है कि मुझमें काबिलियत तो बहुत है और मैं करना भी बहुत कुछ चाहता हूँ लेकिन मुझे कभी कुछ करने का मौका ही नहीं मिला। आप ये तो जानते है ना कि मौके यानि अवसर सभी के लिए समान ही होते हैं, उन्हें पक्षपात करना नहीं आता। तो फिर ऐसा क्या होता है जिसके कारण आपके आसपास के लोगों को खुद को आज़माने के लिए और सफल होने के लिए ढ़ेरों अवसर मिल जाते हैं, लेकिन आपको आज तक एक भी अवसर नहीं मिला। इसके पीछे कारण है सोच का अंतर। आपके इर्द-गिर्द मौजूद सफल लोगों ने मौके को पहचाना भी और बिना देर किये तुरंत उसे अपना भी लिया जबकि आपका सारा ध्यान सिर्फ बहाना बनाने में ही लगा रहा और आप अवसर की उस दस्तक को सुन ही नहीं पाए, दरवाज़ा खोलना तो बहुत दूर की बात है। लेकिन अगर आज ही आप ये बहाना बनाना छोड़ दे, तो अभी भी ढ़ेरों अवसर बिखरे पड़े है आपके आसपास, आप उन्हें पहचान लीजिये और खोल लीजिये अपने लिए सफलता का दरवाज़ा।

इन बहानों के अलावा कुछ और बहाने बनाकर आप खुद को सफलता के लिए प्रयास करने से रोकते आये हैं जैसे – ये काम मेरे लिए एकदम नया है, मैं इसे कैसे कर पाऊंगा? लोग क्या कहेंगे? और मेरी उम्र इस काम के लिए अब बहुत ज़्यादा हो गयी है। ऐसे ही कई बहानों के साथ आप अब तक जीवन गुज़ार रहे थे लेकिन ये तो आपने सुना ही है ना कि जब जागो तभी सवेरा। तो बस, अभी इसी पल से इन बहानों का साथ छोड़ दीजिये और अपने साहस और हौसले के साथ नए और बड़े लक्ष्य बनाइये। इस लक्ष्य को कई छोटे हिस्सों में बाँटिये और हर हिस्सा पूरा कर लेने के बाद खुद को शाबाशी दीजिये। ऐसा करने से आप स्व-प्रेरित होंगे और उस बड़े से दिखने वाले लक्ष्य को बड़ी आसानी से पूरा करते जाएंगे क्योंकि सफल होना तो आप भी चाहते ही हैं।

“जिंदगी में वही लोग सफल होते हैं, जो गलतियां करते हैं”
“जल्दी सफलता हासिल करना चाहते हैं तो आज से ही शुरू कर दें ये 10 काम”
“बिजनेस में सफलता पाने के लिए आप में होने चाहिए ये 6 गुण”

Add a comment