आपका जीवन नरक बना सकती हैं ये 5 बुरी आदतें

529

बेशक आपके पास खूब पैसे हों, गाड़ी हो, बंगला हो और दुनियाभर के ऐशोआराम हो। लेकिन आज जिन पांच चीजों पर हम इस आर्टिकल में चर्चा करने वाले हैं, अगर उनमें से एक की भी चपेट में आप हैं, तो आपके जीवन को नरक बनने से कोई नहीं रोक सकता है। दुनिया में ऐसा कौन व्यक्ति है, जो यह नहीं चाहता है कि उसका जीवन सुखमय हो। लेकिन कुछ बुरी आदतें आपके सुखमयी जीवन को तबाह कर सकती हैं। बेवजह गुस्सा करना, कड़वे बोल बोलना, बुरी संगत में रहना आदि ऐसी बुरी आदतें हैं, जो आपको परेशानी में डाल सकती हैं। अगर आप चाहते हैं कि आपका और आपके परिवार का जीवन सुखी बना रहे, तो आपको किसी भी कीमत पर इन पांच चीजों से दूर रहना चाहिए

1) ज्यादा गुस्सा करना
गुस्सा एक ऐसी चीज होती है, जो परिस्थितियों के मुताबिक दिमाग में पैदा होती है। इसमें कोई शक नहीं है कि गुस्सा करने से अपना ही नुकसान होता है। गुस्सा आपकी सेहत का सबसे बड़ा दुश्मन है। इससे कई बार रिश्ते भी टूटने की कगार पर आ जाते हैं। अध्ययनों के अनुसार, गुस्सा होने से दिमाग में कई तरह के केमिकल बनते हैं जिससे आपका ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है और सोचने समझने की क्षमता पर भी असर पड़ता है। इतना ही नहीं इससे आपका पाचन तंत्र भी खराब हो सकता है। इसके अलावा गैस की समस्या, भूख में कमी और कब्ज की समस्या भी हो सकती है। गुस्सा करने वाले इंसान को कभी शांति नहीं मिलती है, वो हमेशा परेशान रहता है। गुस्सा करने वाले इंसान से सभी लोग दूर रहना पसंद करते हैं। सबसे बड़ी बात गुस्सा करने से कभी-कभी बनी बनाई बात भी बिगड़ जाती है। इसलिए अगर आपको जीवन में खुश रहना है और दूसरे लोगों को भी खुश रखना है, तो गुस्से पर कंट्रोल करना सीखें।

2) दरिद्रता का होना
दरिद्रता एक ऐसा अभिशाप है जो इंसान को हमेशा मजबूरियों और परेशानियों से घेरकर रखता है। अगर आप हमेशा छोटी-छोटी चीजों की अनदेखी करते हैं, तो आप भी दरिद्रता की चपेट में आ सकते हैं। जाहिर है इससे पीड़ित व्यक्ति कभी कभी खुश नहीं रह सकता है। ऐसे व्यक्ति सिर्फ नाम के लिए जीते हैं। कुछ लोग जन्मजात दरिद्र होते हैं लेकिन कुछ लोग अपने जीवन क खुद दरिद्र बना लेते हैं। ऐसे लोगों के पास पैसा और इज्जत तो हो सकते हैं लेकिन अपने बुरी आदतों और कामों से अपना नुकसान कर कर लेते हैं। आमदानी भी होती है लेकिन खर्चे उससे ज्यादा होते हैं। दरिद्रता के कारणों में घर के लोगों की इज्जत न करना, समय पर अपना काम न करना, साफ-सफाई पर ध्यान न देना और घर में पूजा पाठ का माहौल न होना शामिल हैं।

3) कड़वी भाषा बोलना
कबीरदास के एक दोहा है, जिसे आपने जाने कितनी बार पढ़ा और सुना होगा। ‘ऐसी बानी बोलिए, मन का आपा खोय, औरन को शीतल करै, आपहु शीतल होय’। इसका मतलब यह है कि आपको ऐसी भाषा बोलनी चाहिए जिसमें अहंकार ना हो बल्कि उससे दूसरों के साथ आपको भी खुशी मिले। कुल मिलाकर बात यह है कि आप मीठी भाषा से हर किसी का दिल जीत सकते हैं। लेकिन आजकल लोगों के पास प्यार से बात करने का संस्कार खत्म हो गया है। ज्यादातर मामलों में लोग बात बाद में करते हैं गाली पहले देते हैं। आपको बता दें कि आपकी इस कड़वी भाषा के कारण आपकी कई शत्रु बन सकते हैं। जाहिर है कड़वी भाषा सुनना किसी को पसंद नहीं होता है, जिससे लोग आपसे दूरी बनाने लगते हैं।

4) बुरे लोगों को साथ रहना
एक कहावत बहुत मशहूर है ‘जैसी संगत, वैसे रंगत’, यानि आप जिस तरह के लोगों के साथ रहेंगे आपका व्यवहार, काम, आदतें आदि भी वैसी ही हो जाएंगी। इसलिए जो इंसान बुरे लोगों के साथ रहता है, उसका आचरण भी बुरा हो जाता है। जाहिर है ऐसे बुरे आचरण वाले लोगों से सभी लोग दूर रहना पसंद करते हैं। इसलिए हमेशा बुरे दोस्तों से दूरी बनाकर रखें। बुरे लोगों के साथ रहकर आप भी बुरे काम करने लगते हैं। अगर आपने समय पर समझदारी से फैसला नहीं लिया, तो आप अपने बुरे साथियों के साथ ऐसे काम में फंस सकते हैं, जहां आपका जीवन नरक बन सकता है। मसलन अगर आप चोरी, नशा, छेड़छाड़ जैसी गंदी आदतों में पड़ गए, तो आपका जीवन बर्बाद होना तय है।

5) रिश्तेदारों से बैर रखना
बेशक आप ऐसा मानते होंगे कि इस दुनिया में कोई किसी का नहीं होता है, सब मतलबी होते हैं। लेकिन आपको बता दें कि जीवन में किसी मोड़ पर कोई आपके काम आए या ना आए, लेकिन आपके रिश्तेदार हमेशा काम आएंगे। पारिवारिक रिश्ते एक ऐसे चीज हैं, जिन्हें आप चाहकर भी नहीं तोड़ सकते हैं। क्योंकि आप जन्म से इन रिश्तों से बंधे होते हैं। जीवन का सुख लेने के लिए रिश्तेदारों का होना जरूरी है। कई लोग छोटी-छोटी बातों की वजह से रिश्तेदारों से झगड़ा कर लेते हैं और उनको नुकसान पहुंचाने की सोचते हैं। लेकिन आपको एक बात ध्यान में रखनी चाहिए कि उनको नुकसान पहुंचाने के मतलब, खुद को नुकसान पहुंचाना है। ऐसे लोग रिश्तेदारों से दुश्मनी करके कभी खुश नहीं रह सकते हैं। जाहिर है, जो लोग संतुष्ट और खुश नहीं है, उनके लिए यह दुनिया नरक जैसी ही है। इसलिए रिश्तेदारों के साथ मोहब्बत से रहें। किसी भी मसले को प्यार से सुलझाएं।

“इन ख़राब आदतों से मानसिक स्वास्थ्य पर होता है बुरा असर”
“बच्चों को झूठ बोलने की आदत से बचाए”
“कुछ ऐसी आदतें जो हमे बनाती है लूजर”

Add a comment