ऐसे दोस्तों से हमेशा दूर ही रहें

350

हमारे दोस्तों और संगत का हमारे जीवन में बहुत महत्व होता है जितना अनुभव का ज्ञान हमे माँ बाप और बड़ों का जरूरी होता है उतना ही जरुरी दोस्तों का साथ होता है ! लेकिन संगत का हमारे जीवन पर बहुत प्रभाव पड़ता है और अगर हमारे आस पास बुरे दोस्तों हैं तो हमारी सोच और जीवन भी वैसी ही बन जाती है और हम सफलता से दूर हो जाते हैं ! लेकिन सबसे जरुरी है अच्छे और बुरे दोस्तों को पहचानना ! हम जितना समय अपने परिवार के साथ बिताते हैं उससे ज्यादा समय हम दोस्तों के साथ गुजरते हैं ऐसे में ये जानना बेहद जरुरी है की जिसे हम अपना कीमती समय दे रहे हैं वो उस लायक है या नहीं ! तो आइये जानते हैं कुछ ऐसी बातें जिनसे हम पता लगा सकते हैं हमारे दोस्तों में कौन अच्छा है और कौन बुरा !

हमेशा आलोचना करने वाले दोस्त
कुछ दोस्तों की ये आदत होती है की आप या कोई और चाहे कितनी भी मेहनत कर लें और कितना भी अच्छा मुकाम हासिल कर लें वो हमेशा आलोचना ही करेंगे क्योंकि वो किसी दूसरे को प्रगति करते हुए नहीं देख सकते उनके अंदर हमेशा ईर्ष्या की भावना रहती है ! तो जो दोस्त आपकी तरक्की से खुश नहीं वो आपके लिए एक अच्छा दोस्त कैसे हो सकता है !

हमेशा अपनी बात मनवाने वाले दोस्त
कुछ दोस्तों को आपने देखा होगा जब तक आप उनके कहे अनुसार चलते रहेंगे और उनकी बात मानते रहेंगे वो आपसे खुश रहेंगे लेकिन कभी आपकी बात मानना उन्हें गवारा नहीं होता तो ऐसे दोस्त कभी आपके लिए भला नहीं सोच सकते तो ऐसे दोस्तों को दूर ही रखना बेहतर है !

स्वार्थी दोस्त
कुछ लोग हमेशा दोस्ती सिर्फ अपने स्वार्थ के लिए ही करते हैं और जब स्वार्थ पूरा हो जाता है तो वो आपसे दूरी बना लेते हैं और फिर से संपर्क में तभी आते हैं जब उन्हें आपसे फिर से कोई काम पड़े ! हालाँकि ऐसे लोगों का शुरुआत में पता लगाना बेहद मुश्किल है लेकिन कुछ समय उनके साथ रहने पर पता चलता है की वो आपके साथ सिर्फ इसलिए थे ताकि उनका स्वार्थ पूरा हो सके ! लेकिन ऐसे दोस्तों को पहचानकर उनसे दूरी बनाना ही बेहतर हैं क्योंकि ऐसे दोस्तों के साथ रहना सिर्फ अपने समय की बर्बादी है और कुछ नहीं !

नकारात्मक सोच वाले दोस्त
कुछ दोस्त ऐसे होते हैं जो कभी सकारात्मकता की दृष्टि से किसी चीज़ को नहीं देखते बल्कि हमेशा उसमे नकारात्मकता ही ढूंढते हैं ! ऐसे दोस्तों के साथ रहने पर हम भी नकारात्मक सोच वाले बन जाते हैं जो हमे कभी सफलता की राह पर नहीं जाने देती ! तो ऐसे दोस्तों का साथ छोड़ देना ही उचित उपाय है !

जी हुजूरी या हाँ में हाँ मिलाने वाले दोस्त
कुछ दोस्त ऐसे होते हैं जो हमेशा आपकी हाँ में हाँ ही मिलते हैं आप चाहे कोई भी बात kahen या कोई विचार रखें वो उस पर विचार किये बिना बस आपकी बात का समर्थन करते हैं ! ऐसे दोस्तों की संगती हमारे लिए समय व्यर्थ करने के बराबर है क्योंकि उनकी खुद की कोई सोच या मत नहीं होता तो वो आपकी मदद क्या करेंगे !

समय पर साथ छोड़ देने वाले दोस्त
आपने कुछ दोस्तों की आदत देखि होगी की वो वैसे तो अक्सर आपके साथ होते हैं लेकिन जब आपको कोई काम पड़े या कोई मुसीबत आये तो वो बहाना मार के दूर हो जाते हैं ! ऐसे दोस्त बेहद खतरनाक हो सकते हैं जो सिर्फ आपका समय व्यर्थ करते हैं और काम के समय आपसे किनारा कर लेते हैं ! जो दोस्त आपकी सहायता ना कर सके उसके साथ समय व्यर्थ करना बेकार है ! ऐसे दोस्तों को पहचानने का एक ही का तरीका की किसी न किसी बहाने से उनकी परीक्षा लें और देखें की वो आपकी मुसीबत में आपके साथ खड़े रहते हैं या किनारा कर लेते हैं !

कैसा हो सच्चा दोस्त
जरुरी नहीं की हम ज्यादा संख्या में दोस्त बनाये बल्कि जरूरी ये है की हम जो दोस्त बनाये तो ऐसे हो जो हमारी तरक्की से खुश हों, हमें हमेशा सही रास्ता दिखाएं, सुख दुःख में साथ निभाएं और हमारी कठिन परिस्थितियों में हमारी मदद करें ! सच्चा दोस्त वही है तो आपके अच्छे बुरे को समझे और हमेशा सही सलाह दे !

“सच्ची दोस्ती (कहानी)”
“क्या आपके फेसबुक के दोस्त वाकई में आपके दोस्त है ??”
“बच्चों को डे-केयर में भेजने से पहले फायदे और नुकसान को जानें”

Add a comment