अश्लील फिल्में देखने के गंभीर नुकसान

837

अश्लील फिल्में देखना अब आम हो गया है। इंटरनेट और मोबाइल के बढ़ते प्रचलन ने इसे और ज्यादा आसान बना दिया है। सामाजिक रूप से देखा जाए, तो अश्लील फिल्में देखना बुरा है। लेकिन सवाल यह है कि व्यक्तिगत रूप से पोर्न फिल्में देखना अच्छा है या बुरा? बेशक पोर्न फिल्में देखने में आपको मजा आता हो लेकिन विशेषज्ञों की मानें, तो बहुत ज्यादा अश्लील फिल्में देखने से आपकी हेल्थ और सेक्स लाइफ पर बुरा असर पड़ सकता है। चलिए जानते हैं अश्लील फिल्में देखने से आपको क्या-क्या नुकसान हो सकते हैं-

1) दिमाग सिकुड़ सकता है- जामा साइकेट्री में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, जो लोग ज्यादा अश्लील फिल्में देखते हैं, उनका दिमाग सिकुड़ने लगता है। इतना ही नहीं ज्यादा पोर्न देखने से आपके दिमाग में हमेशा यही चलता रहता है, जो आपको डम्ब बना सकता है। विशेषज्ञ यह बताते हैं कि जिन लोगों के ब्रेन का स्ट्रेटम छोटा होता है, उन्हें पोर्न देखने से ज्यादा नुकसान होता है।

2) व्यवहार में बदलाव- जर्नल साइबरसाइकोलोजी में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, ज्यादा अश्लील फिल्में देखने से आपका व्यवहार भी प्रभावित होता है। चूंकि आपके दिमाग पर अश्लीलता हावी हो जाती है जिससे आप कई लोगों से साथ भी यौन संबंध बनाने के लिए तैयार रहते हैं। इतना ही नहीं आपकी बातों, विचारों और कामों पर भी अश्लीलता हावी रहती है।

3) यौन संबंध के मामले में असंतुष्ट- ज्यादा पोर्न देखने वाले लोग फिल्मों में दिखाए गए किरदार यानि पोर्नस्टार से ज्यादा प्रभावित होने लगते हैं। वे वास्तविक जीवन में भी वही करना और पाना चाहते हैं, जो पोर्न फिल्मों में दिखाया जाता है। यौन संबंध के मामले में संतुष्ट नहीं हो पाने का यह एक बड़ा कारण है। वे अपने पार्टनर से उसी तरह उम्मीद करते हैं। वास्तव में वे अपने पार्टनर की तुलना पोर्न फिल्म में दिखाए गए किरदार से करने लगते हैं, जिस वजह से वो कभी खुश नहीं रह पाते हैं।

4) ऑक्सीटोसिन हार्मोन में कमी- यह एक कुदरती हार्मोन है जिसे लव हार्मोन भी कहा जाता है। यह हार्मोन पुरुष और महिला को बांधने का काम करता है। जब आप अपने पार्टनर से खुश रहते हैं और खुशी से यौन संबंध बनाते हैं, तो यह हार्मोन आप दोनों को करीब लाता है और आप दोनों को बांधता है। लेकिन पोर्न फिल्म के किरदार सिर्फ एक्टिंग करते हैं, जिससे उनके बीच यह हार्मोन कहीं खो जाता है।

5) फोरप्ले में कमी- सेक्स के मामले में फोरप्ले का सबसे अहम रोल होता है। वास्तव में फोरप्ले के दौरान किसिंग जैसे एक्ट से दोनों पार्टनर के बीच प्यार बढ़ता है और दोनों कपल सेक्स का ज्यादा आनंद ले पाते हैं। लेकिन ज्यादा पोर्न फिल्में देखने वाले लोग बहुत जल्दी उत्तेजक हो जाते हैं और फोरप्ले को किनारे करते हुए सीधा इंटरकोर्स पर ध्यान देते हैं। इससे आपकी पार्टनर नाखुश हो सकती है।

6) सेक्स पोजीशन- ज्यादा अश्लील फिल्में देखने वाले लोग अपनी पार्टनर से उसी पोजीशन में सेक्स करने की कोशिश करते हैं, जो वो फिल्मों में देखते हैं। सेक्स के दौरान वे अपनी पार्टनर से हार्डकोर तरीके अपनाने लगते हैं। आपको बता दें कि अधिकतर महिलाओं को हार्डकोर सेक्स पोजीशन पसंद नहीं होती हैं।

“बच्चों को इस उम्र में दें सेक्स की शिक्षा और ऐसे करें शुरुआत”
“यौन इच्छा को नियंत्रित कैसे करें”
“काम वासना – भारत की सबसे बड़ी बीमारी”

Add a comment