भारत है रिश्वतखोरी में सबसे आगे

241

वैसे तो आमतौर पर हम यह बात जानते हैं कि भारत में भ्रष्टाचार का बोलबाला है लेकिन दुनिया के भ्रष्टाचार पर नजर रखने वाली ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में यह पाया गया कि भारत में 10 में से करीबन 7 भारतीय किसी ना किसी प्रकार से घूस लेते या देते हैं। इस सर्वेक्षण में यह बात भी पाई गई कि भारत एशियाई प्रांत क्षेत्र में सबसे शीर्ष पर है।

इस सर्वेक्षण में यह पाया गया कि भारत में 69 % लोग घूस लेते या देते हैं इसके बाद जिस देश का नाम आता है वह है वियतनाम, वियतनाम में 65 प्रतिशत लोग भ्रष्टाचार में लिप्त हैं, पाकिस्तान में 40 प्रतिशत और चीन में 26 प्रतिशत लोग भ्रष्टाचार में लिप्त हैं।

इस सर्वेक्षण के मुताबिक रिश्वत देने की दर जापान में सबसे कम है। जापान में मात्र 0.2 प्रतिशत लोग ही रिश्वत लेते या देते हैं। इसके बाद दक्षिण कोरिया में 3% लोग हैं जो रिश्वत देते हैं। सर्वेक्षण में यह भी पाया गया कि भारतीय पुलिस सबसे ज्यादा भ्रष्ट डिपार्टमेंट है।

लेकिन चीन के लिए इसमें एक चिंता का विषय यह है कि वहां पर कराए गए सर्वेक्षण में 73 प्रतिशत लोगों ने यह कहा कि उनके देश में रिश्वत का चलन बढ़ता जा रहा है। जिससे यह बात साबित होती है कि चीन में भी भ्रष्टाचार अपने पैर फैला रहा है। रिश्वत के मामले में पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया, जापान मयनमार, श्रीलंका और थाईलैंड जैसे देश भारत से नीचे हैं भारत का स्थान सातवां है। इस सर्वेक्षण में एशिया के करीब 90 करोड़ की आबादी वाले 16 देशों के 20000 लोगों ने कहा कि पिछले 1 साल में कम से कम एक बार तो उन्हें रिश्वत देनी पड़ी है।

इस सर्वेक्षण में मात्र 14% लोगों ने यह कहा कि कोई धार्मिक नेता भ्रष्ट नहीं है। जबकि 15% लोग इस बात से सहमत हैं कि सारे धार्मिक नेता भ्रष्ट हैं। पुलिस के बाद 5 सर्वाधिक भ्रष्ट श्रेणियों में सरकारी अधिकारी, कारोबारी, स्थानीय पार्षद और सांसद आते हैं जबकि टैक्स अधिकारी छठे स्थान पर हैं।

जिन लोगों को सर्वेक्षण में शामिल किया गया उनमें से 38 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उन्होंने खुद ने भी रिश्वत दी है। सर्वेक्षण में लोगों से यह भी पूछा गया कि उन्होंने कितनी बार और किस रूप में रिश्वत दी है। ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल के अध्यक्ष जोश उगार ने कहा कि सरकारों ने अपनी भ्रष्टाचार निरोधक प्रतिबद्धताओं की हकीकत जनता के सामने पेश ही नहीं की और अब समय आ गया है कि जनता को इस बारे में पूर्ण रुप से पता चल जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि सर्वेक्षण के नतीजे बताते समय वह इस बात का पूरा ध्यान रखेंगे कि भ्रष्टाचार का भंडाफोड़ हो और इसके निर्माताओं को अधिक से अधिक सजा मिले।

Add a comment