दोस्तों के ना होने पर कैसे दूर करें अपना अकेलापन

103

जीवन में दोस्तों की अहमियत बहुत ज्यादा होती है। एक अच्छा दोस्त सिर्फ दोस्त ही नहीं बल्कि वह हमारे भाई और गुरू की भी भूमिका निभाता है। इसलिए लोग अपने जीवन में बहुत सारे दोस्त बनाते हैं उनसे अपनी खुशी और गम बांटते हैं और उनसे बहुत कुछ सीखते हैं। जीवन में कई बार ऐसा भी होता है कि हम जब अपना स्कूल-कॉलेज बदलते हैं तो हमारे पुराने दोस्त छूट जाते हैं और फिर नए दोस्त बनते हैं। नई जॉब लगने या किसी दूसरे शहर में ट्रांसफर होने पर भी हमारे पुराने दोस्त छूट जाते हैं। लेकिन दुनिया में कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनके पास कोई दोस्त नहीं हैं। अगर आप भी उनमें से एक हैं जिनके पास कोई दोस्त नहीं है और दोस्तों के बिना आपको अकेलापन महसूस होता है तो हम आपको बता रहे हैं कि आपको क्या करना चाहिए।

सबसे बातें करें- अगर आपके पास कोई दोस्त नहीं है तो अधिक चुप रहने की आदत मत डालें। अपने आसपास और ऑफिस के लोगों से मुस्कुराकर बातें करें। इससे आपको अकेलापन नहीं लगेगा। जैसे ही आप खुद लोगों से बात करने की पहल करेंगे लोग भी उतनी ही गर्मजोशी से आपसे भी बातें करेंगे। इससे आपको दोस्तों की कमी नहीं खलेगी और क्या पता ऐसे ही लोगों से मिलते-जुलते और बातें करते हुए एक दिन कोई सचमुच में आपका दोस्त बन जाए।

हॉबी डेवलप करें- अगर आप अकेले रहते हैं और आपका कोई दोस्त नहीं है तो खाली समय में अपना पसंदीदा काम करें। अपनी पसंद के अनुसार जैज, ओपेरा और हिन्दुस्तानी संगीत सुने। अपने लिए पूरे मन से खाना बनाएं, डायरी और ब्लॉग लिखें। बागवानी और जानवरों को पालने के नए तरीके सीखें। किताबें पढ़े और दुनिया के महान हस्तियों के बारे में जानें जिन्होंने बिना किसी दोस्तों की मदद के बड़े-बड़े काम किए। हर पल खुद को मोटिवेट करते रहें।

सोशल साइट्स- वैसे तो सोशल साइट्स का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल हमारे लिए हानिकारक साबित हो सकता है। लेकिन अगर निजी जिंदगी में आपका कोई दोस्त नहीं है तो आप सोशल साइट्स पर एक्टिव रहें। यहां आप लोगों से कनेक्ट होकर उनसे जान-पहचान बढ़ा सकते हैं। इससे आपको जब भी दोस्तों की कमी महसूस होगी तो आप सोशल साइट्स के जरिए ही सही लेकिन आभासी दुनिया के दोस्तों से बातें करके अपना अकेलापन दूर कर सकते हैं।

अकेले घूमने निकलें- हालांकि कुछ लोगों को अकेले कहीं भी जाना काफी मुश्किल काम लगता है। लेकिन अगर आपके पास कोई दोस्त नहीं है तो आप इसे सकारात्मक रूप में लें। वीकेंड पर घर से बाहर निकलें और अकेले घूमने या मूवी देखने जाएं। आसपास कोई पार्क हो तो वहां जाएं। पार्क में बच्चों के साथ खेलें और उनसे बातें करें। आप जितना ज्यादा सकारात्मक रहेंगे उतना ही ज्यादा आत्मविश्वास आएगा और आपको दोस्तों की कमी कभी महसूस नहीं होगी।

योगा और मेडिटेशन करें- जीवन में सकारात्मक और नकारात्मक विचार हमारे दिमाग और मन से जुड़े होते हैं। इसलिए योगा और मेडिटेशन करने के लिए समय निकालें। योग से आप चुस्त-दुरुस्त और स्वस्थ रहेंगे। मेडिटेशन करने से आपको मानसिक शांति और सूकून मिलेगा। इससे आप बेवजह परेशान नहीं होंगे। इन आदतों को अपनी रूटीन में शामिल करें। धीरे-धीरे आप बिना दोस्तों के भी खुश रहना सीख लेंगे।

“सच्चे दोस्तों को होती है आपकी चिंता, वो कभी नहीं कर सकते ये 8 गलत काम”
“असली और नकली दोस्तों के बीच होते हैं यह 10 बड़े अंतर”
“ऐसे दोस्तों से हमेशा दूर ही रहें”

Add a comment