शतरंज के यह तथ्य आप नहीं जानते होंगे

545

यह माना जाता है कि शतरंज दिमाग का खेल है और इसे खेल ना हर किसी के बस की बात नहीं है और यह भी कह सकते हैं कि हर इंसान इसमें दिलचस्पी भी नहीं दिखता। लेकिन आज हम आपको इससे जुड़े कुछ ऐसे तथ्य बताएंगे जिन्हें जानकर आप हैरान होजाएंगे तो चलिए इन तथ्यों को विस्तारपूर्वक जानते हैं।

इस खेल की शुरुआत भारत के गुप्त साम्राज्य द्वारा की गई थी। यह माना जाता है कि इस खेल को पहली बार नवी शताब्दी में खेला गया था। हालांकि तब से लेकर अब तक किस खेल में कई बदलाव किए गए हैं 1280 में प्यादों को दो कदम बढ़ाने का नियम शुरू हुआ था।

chess1

Image Source

आपको यह बात सुनकर बहुत अजीब लगेगा कि शतरंज की मशीन का भी अविष्कार किया गया था। यह मशीन तुर्की में 1770 में बनाई गई थी इस मशीन कि यह खासियत थी कि इसमें आपके चेहरे के भाव के अनुसार मोहरे हिला करते थे। लेकिन इस मशीन को चलाना हर किसी के बस की बात नहीं थी इसीलिए इस मशीन का एक्सपर्ट ही इसको चलाता था।

chess2

Image Source

यह माना जाता है कि जब इस खेल की शुरुआत हुई थी तब इस खेल में एक वर्ग ऐसा था जो पहला कदम तिरछा बढ़ाता था और दो कदम सीधा बढ़ाता था। इस मोहरे को परामर्शदाता भी कहा जाता था लेकिन जब गोरे लोगों ने इस खेल में रूचि बढ़ाई तो उन्होंने इस मोहरे का नाम रानी रख दिया उसके बाद से ही इस खेल में रानी का महत्व बढ़ गया।

chess3

Image Source

यह बात तो जगजाहिर है कि शतरंज एक बहुत ही जटिलतम खेल है। यह खेल तब तक खत्म नहीं होगा जब तक दोनों प्रतिभागी इस में अपना पूर्ण दिमाग नहीं लगाएंगे। या यह भी कहा जा सकता है कि यह चालों का गेम नहीं बुद्धिमत्ता का गेम है।

chess4

Image Source

आप शतरंज के खेल की तुलना मुक्केबाजी के खेल से भी कर सकते हैं क्योंकि इसमें भी दोनों धावक एक दूसरे के ऊपर प्रहार करते हैं और दूसरे को दबाने की कोशिश करते हैं।

chess5

Image Source

आज के इस टेक्नोलॉजी के युग में थ्रीडी शतरंज स्टार ट्रेक के टीवी पर सबसे ज्यादा लोकप्रिय माना जाता है।

chess7

Image Source

यह बात तो मानने वाली है कि अगर शतरंज में अपनी मर्जी के मुताबिक चालें होती तो यह खेल कब का लुप्त हो गया होता। चालों पर रखे गए नियम के कारण ही यह जटिल खेल बना और लोगों की रूचि इस खेल में बढ़ी। यह बात जानकर आप हैरान हो जाएंगे कि इस खेल में हजार से भी ज्यादा चले हो सकती हैं।

chess8

Image Source

शतरंज के खेल में एक खेल होता है जिसका नाम होता है मूर्ख दोस्त। इस खेल में एक सदस्य दूसरे सदस्य को हराकर यह साबित करता है कि वह दिमागी रुप में उस से श्रेष्ठ है और उसके बाद उस दोस्त को मूर्ख कहा जाता है।

chess9

Image Source

आप यह बात जानकर हैरान हो जाएंगे कि शतरंज के बोर्ड का अविष्कार एक पुजारी ने किया था क्योंकि उस समय में पादरियों ने इस खेल को खेलने से मना कर दिया था। तो पुजारी ने अपने चतुर दिमाग से एक शतरंज का बोर्ड बनाया और जब भी बस समय मिलता था तो वह इस खेल को खेलता था। इस बोर्ड को पुस्तक की भर्ती बनाया गया था ताकि आसानी से कहीं भी ले जाया जा सके।

chess10

Image Source

Add a comment