अंग्रेजों के राज के दौरान भारत में हुई कुछ अच्छी बातें

562

यह बात तो हम सब जानते हैं कि अंग्रेजों ने भारत को कई वर्षों तक अपना गुलाम बना के रखा इस गुलामी के दौरान भारत जो कि सोने की चिड़िया कहा जाता था यह गरीब देश में परिवर्तित हो गया। भारत का इतिहास और परंपरा बेहद ही पुरानी है इसके बारे में कई ग्रंथों में भी उल्लेख मिलता है लेकिन अगर आप यह सोच रहे हैं कि अंग्रेजों के राज के दौरान भारत में सिर्फ लूटपाट ही हुई तो शायद आप गलत है। आज हम आपको अंग्रेजों के राज के दौरान भारत में हुए कुछ विकास कार्यों के बारे में बताएंगे जोकि भारत को प्रगतिशील बनाने के लिए एक मील का पत्थर साबित हुए। तो चलिए इन्हें विस्तारपूर्वक जानते हैं।

अंग्रेजी भाषा का इस्तेमाल

ब्रिटिश काल के दौरान ही भारतीयों ने अंग्रेजी भाषा का इस्तेमाल शुरू कर दिया था। अब अगर आप यह सोच रहे हैं कि अंग्रेजी भाषा से भारतीयों को नुकसान हुआ है तो शायद आप गलत है। अंग्रेजी एक ऐसी भाषा है जो पूरे विश्व में कई देशों में बोली जाती है और इसके कारण ही भारतीय अपनी बात को आसानी से दूसरे लोगों के सामने रख पाते हैं और यही भाषा मूलभूत से व्यापार को बढ़ाने में भी लाभदायक है।

भारतीय रेलवे

भारतीय रेलवे का अविष्कार अंग्रेजों के शासन में ही हुआ था क्योंकि उस समय अंग्रेजों को माल को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने में काफी दिक्कत हुआ करती थी इसीलिए उन्होंने ऐसा इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलप किया जिसकी वजह से रेल के माध्यम से आसानी से सामान को एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा सके और इसी वजह से भारत का ट्रांसपोर्टेशन सिस्टम शुरू हुआ।

भारतीय सेना

भारतीय सेना का गठन भी ब्रिटिश शासनकाल में ही हुआ था और आज तक भी कई डिसिप्लिन और कलचर भारतीय सेना में ब्रिटिश काल के ही दोहराए जा रहे हैं।

वैक्सीनेशन

उन्नीसवीं और बीसवीं शताब्दी में भारत स्मॉलपॉक्स जैसी बीमारी की मार झेल रहा था उस समय ब्रिटिश काल के दौरान ही इनके टीके उपलब्ध कराए गए और भारतीय वैक्सीनेशन एक्ट को पास किया गया। 1892 में स्मॉल पॉक्स का टीका इजाद करके भारतीयों में इसे वितरित किया गया।

भारतीय जनगणना

भारत की पहली जनगणना 1871 में की गई थी इसे करने में 10 साल का समय लगा। इस जनगणना को उम्र, जेंडर, रिलीजन, कास्ट और ऑक्यूपेशन के हिसाब से किया गया। इस जनगणना को करने का मुख्य कारण यह था कि ब्रिटिश शासक यह जानना चाहते थे कि भारत में कितने पढ़े लिखे लोग हैं। यह जनगणना आज तक भी की जाती है आखरी जनगणना 2011 में की गई थी। अब तक जनगणना 15 बार की गई है।

सर्वे करना

ब्रिटिश काल में ही भारत सर्वे करने की प्रथा शुरू हुई थी ज्योग्राफिकल सर्वे 1851 से शुरू कर दिए गए थे जिसमें हर गांव शहर के नक्शे इत्यादि सब तैयार किए गए थे जिनके आधार पर ब्रिटिश शासक सेना और समाज को विभाजित करते थे।

Source

Add a comment