जानिए कैसे दिया जाता है हाइवे को नाम

0
488

यह बात तो हम सभी जानते हैं कि एक राज्य से दूसरे राज्य जाने के लिए हमें राज्य मार्ग का इस्तेमाल करना पड़ता है। आम भाषा में इन्हें हाईवे भी कहा जाता है आपको बता दें कि भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण का गठन 1988 में संसद के अधिनियम द्वारा किया गया था। इस संस्था का काम भारतीय राष्ट्रीय राजमार्गों का डेवलपमेंट और उनकी पूर्ण रुप से देखभाल करना है।

यह प्राधिकरण पूर्ण रूप से 1995 से कार्यान्वित है भारत में अब तक 5,472,144 किलोमीटर की सड़कों का विकास प्राधिकरण द्वारा किया जा चुका है जिसमें राष्ट्रीय राजमार्गो का हिस्सा 97,991 किलोमीटर है।

भारत में सामान को एक जगह से दूसरी जगह भेजने के लिए 65 % और यातायात के लिए 80% सड़कों का इस्तेमाल किया जाता है और आप यह बात जानकर हैरान हो जाएंगे कि भारत का रोड नेटवर्क दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा रोड नेटवर्क है।

तो चलिए आपको बताते हैं कि भारत की राजमार्गों की संख्या का निर्धारण किस प्रकार किया जाता है। सभी उत्तर दक्षिण दिशा वाले राज्य मार्ग के लिए एक प्रकार की संख्या का उपयोग किया जाता है। इस संख्या का उपयोग पश्चिम की ओर बढ़ते हुए क्रम में किया जाता है। जैसे दिल्ली से मुंबई तक NH8 की संख्या को घटते से बढ़ते क्रम में दर्शाया जाता है।

delhi-to-mumbai जानिए कैसे दिया जाता है हाइवे को नाम

Image Source

सभी पूर्व से पश्चिम दिशा वाले राज्य मार्ग को विषम संख्या दी जाती है। इनका प्रयोग उत्तर से दक्षिण तक सिर्फ बढ़ते हुए क्रम में किया जाता है जैसे NH11 आगरा- जयपुर -बीकानेर।

bikaner-to-agra जानिए कैसे दिया जाता है हाइवे को नाम

Image Source

सभी प्रमुख राजमार्गों के लिए दो अंक की संख्या का प्रयोग किया जाता है। पूरब से पश्चिम की ओर बढ़ने पर उत्तर दक्षिण दिशा वाले राजमार्गों के लिए बढ़ती हुई संख्या का इस्तेमाल किया जाता है। आपको एक उदाहरण के तौर पर समझाएं तो अगर आप पूर्वी भारत में किसी उत्तर दक्षिण दिशा वाले राज्य मार्ग का इस्तेमाल कर रहे हैं तो संख्या 4 का प्रयोग किया जाएगा और मध्य भारत या पश्चिम भारत में एक विशेष उत्तर दक्षिण दिशा वाले राज्य मार्गों के लिए 4 से अधिक संख्या का इस्तेमाल किया जाता है।

3 अंकों की संख्या वाले राज्य मार्ग मुख्य राजमार्गों के सहायक राज्य मार्ग होते हैं। उदाहरण के लिए 144, 244, 344 यह मुख्य राजमार्ग 44 की शाखाएं मानी जाती हैं। अगर राज्य मार्ग के तीन अंको में यदि पहला अंक विषम संख्या है तो यह माना जाता है कि यह राज्य मार्ग पूर्व पश्चिम दिशा में स्थित है। यदि पहला अंक सम है तो यह माना जाता है कि यह राज्य मार्ग उत्तर दक्षिण दिशा में स्थित है।

Route-map जानिए कैसे दिया जाता है हाइवे को नाम

Image Source

भारत में सड़कों का नेटवर्क किस प्रकार दिया गया है जो हम आप को सूचीबद्ध तरीके से समझा रहे हैं।

national-highway-3 जानिए कैसे दिया जाता है हाइवे को नाम

Image Source

भारत के महत्वपूर्ण राष्ट्रीय राजमार्गों की सूचि

national-highway-6 जानिए कैसे दिया जाता है हाइवे को नाम

Image Source

शेयर करें
पिछला लेखखुशहाल जीवन जीने के 10 खास टिप्स
अगला लेखआँखों की रोशनी बढ़ाने के घरेलू उपाय

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment