हर मुकाम पर सफल होंगे अगर जान ली ये बातें

429

जीवन जीने के लिए रोटी, कपड़ा और मकान की ज़रूरत को तो आप जानते ही हैं लेकिन क्या कुछ और भी ज़रूरी होता है अपने जीवन को पूरा करने के लिए ? जी हाँ, सफ़लता है वो जरुरी चीज़ जो आपके जीवन को पूर्णता देती है और आप सफल होकर ही अपना एक अलग मुकाम बना पाते हैं। दुनिया में दो तरह के लोग मौजूद है, एक वो जो सफल है और दूसरे वो जो सफल नहीं है। आखिर इन दोनों तरह के लोगों में ऐसा क्या फर्क है जो इन्हें इतना अलग बनाता है। सफल लोग ऐसा क्या करते हैं जिससे वो लगातार सफल होते जाते हैं और असफल लोग कौनसी ग़लतियों को बार बार दोहराकर असफल होते चले जाते हैं। अगर आप सफल होना चाहते हैं तो कुछ बातों का ख़ास ख़्याल रखकर आप भी उन सफल लोगों की लिस्ट में अपना नाम जोड़ सकते हैं और सफलता की सीढ़ी चढ़ सकते हैं। तो चलिए, आज आपको बताते हैं कि सफल होने के लिए आपको क्या क्या करना होगा –

सही लक्ष्य का करें चुनाव –
कई बार अपने आसपास के माहौल से प्रभावित होकर आप अपने लिए ग़लत लक्ष्य का चुनाव कर बैठते हैं। आप ऐसे क्षेत्र को चुन लेते हैं जो ना आपको समझ आता है, ना ही उसमें आपकी रूचि होती है। ऐसी स्थिति में आप आगे बढ़ने की बजाए पिछड़ते चले जाते हैं इसलिए जरुरी है कि आप अपनी रूचि और समझ से जुड़ा क्षेत्र ही चुने जिसमें आप बड़ी आसानी से धीरे-धीरे आगे बढ़ सकें।

लक्ष्य प्राप्ति के लिए एकाग्रता है ज़रूरी –
अपनी रूचि और समझ के अनुसार आपने लक्ष्य तो निर्धारित कर लिया लेकिन इसके बाद लक्ष्य को पाने के लिए आप के अंदर एकाग्रता का होना बेहद ज़रूरी है। आपकी नज़र सिर्फ आपके लक्ष्य से जुड़े छोटे बड़े हर टारगेट को पूरा करने की तरफ ही होनी चाहिए, बिल्कुल अर्जुन की तरह। जब गुरु द्रोणाचार्य ने अर्जुन से पूछा कि तुम्हें पेड़ पर क्या क्या दिखाई दे रहा है? तब अर्जुन का जवाब था कि मुझे सिर्फ चिड़िया की आँख ही दिखाई दे रही है क्योंकि मुझे अपना लक्ष्य वहीं साधना है। इस तरह की गहरी एकाग्रता ही सफ़ल लोगों का एक ख़ास गुण होता है।

अपनी पूरी शक्ति लक्ष्य प्राप्ति में लगाना –
लक्ष्य की प्राप्ति में आचार्य चाणक्य की नीति को अपनाकर आप अपने लिए सफलता की राह खोल सकते हैं। इस नीति के अनुसार – हमें जो भी कार्य करना है वह पूरी ताकत से करना चाहिए। ठीक उसी प्रकार जैसे कोई शेर अपना शिकार करता है। कार्य चाहे जितना छोटा या बड़ा हो, हमें पूरी शक्ति लगाकर ही करना चाहिए, तभी हमारी कामयाबी निश्चित होती है। कार्य में ज़रा भी ढीलापन हुआ तो कामयाबी आपसे दूर हो जाएगी। इस नीति का अनुसरण करके आप अपनी पूरी शक्ति अपने कार्य में लगाएंगे तो सफल होना तो स्वाभाविक ही है।

अपने निर्णयों की ज़िम्मेदारी स्वयं लें –
सफल लोग अपने द्वारा उठाये गए हर कदम की ज़िम्मेदारी खुद लेते हैं, ऐसा करने से उनमें निर्णय के प्रति सतर्कता और सोच विचार कर किसी अंजाम तक पहुंचने के गुण विकसित हो जाते हैं जो उन्हें सफलता की सीढ़ियाँ चढ़ने में मददगार साबित होते हैं वहीँ असफल लोग अपने निर्णय बिना सोचे समझे जल्दबाज़ी में लिया करते हैं और अपेक्षा के विपरीत परिणाम आने पर उसका दोष दूसरों पर मढ़ देते हैं। उनका यही रवैया उन्हें सफल होने से रोकता है।

अपनी ग़लतियों को दोहराने से बचें –
ग़लतियाँ हर इंसान से होती हैं लेकिन विवेकशील इंसान अपनी ग़लतियों को दोहराने से बचता है। सफल होने के लिए अपनी ग़लतियों को ना दोहराना बहुत ज़रूरी होता है। एक ही ग़लती को बार बार करते जाना विफलता की ओर ले जाता है जबकि अपने बुरे अनुभवों और ग़लतियों से सीख लेकर आगे बढ़ना ही सफल होने में मदद करता है।

समय बेहद कीमती है –
सफल लोगों की निशानी होती है समय के हर क्षण का सही उपयोग करना। समय की रफ़्तार के साथ जो अपने कदम मिलाकर चलता है, वो सफल ज़रूर होता है जबकि असफल लोग समय का महत्व नहीं समझते और आज के काम को कल परसो पर टालने की उनकी यही प्रवृत्ति उन्हें असफलता की ओर ले जाती है।

सफल लोगों की संगत –
सफल लोगों के अनुभव आपको सफलता की सीढ़ियाँ चढ़ने में काफी मददगार साबित हो सकते हैं। उनके जीवन की घटनाएं आपके जीवन में भी सही राह दिखाने में सहायक हो सकती है इसलिए ऐसे लोगों की संगत अपनाइये जो सफल हो और जिनका जीवन आपको प्रेरणा से भर देता हो। अगर आपके पास ऐसे लोग मौजूद नहीं है तो आप सफल लोगों की जीवनी पढ़कर भी अपने लिए प्रेरणा अर्जित कर सकते हैं।

नज़रिया हो सकारात्मक –
सफल लोग सबसे पहले अपने नज़रिये को सकारात्मक बनाते हैं और आने वाले हर उतार चढाव में अपने इस नज़रिये और संयम रखने की प्रवृति को छोड़ते नहीं है। इसके अलावा ऐसे लोग गिरकर उठने की हिम्मत भी रखते हैं और बिना रुके चलते रहना भी इन्हीं लोगों का गुण होता है।

ख़ुद पर यकीन रखें –
अपने लक्ष्य की प्राप्ति के दौरान आपको कई तरह के हालातों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में मुश्किल आने पर हताश होने की बजाए खुद की काबिलियत पर यकीन बनाये रखिये और हर कदम आत्म विश्वास के साथ बढ़ाइए।

सफल और असफल लोगों के बीच ज़्यादा अंतर नहीं होता है। बस कुछ छोटी छोटी बातों का महत्व समझकर सफल भी बना जा सकता है और इन्हीं छोटी छोटी बातों को अनदेखा करके असफलता की ओर भी बढ़ा जा सकता है। अब ये आपको तय करना है कि आप किस राह पर कदम बढ़ाना चाहते हैं और किन लोगों की सूची में आप अपना नाम देखना चाहते हैं – सफल या असफल, ये चुनाव आपका है।

“5 बहाने जो आपको सफल होने से रोकते हैं”
“जिंदगी में वही लोग सफल होते हैं, जो गलतियां करते हैं”
“बिजनेस में सफलता पाने के लिए आप में होने चाहिए ये 6 गुण”

Add a comment