किडनी खराब होने के प्रमुख लक्षण

753

आज की इस भाग-दौड़ भरी ज़िन्दगी में हमने अपनी रफ़्तार भले ही बढ़ा ली हो लेकिन साथ में हमने अपनी सेहत को बिगाड़ने की गति भी तेज़ कर दी है। जंक फूड खाने की आदतें, अनियमित दिनचर्या, दूषित हवा और दूषित पानी का सेवन हम करते हैं और इन सब का हर्ज़ाना हमारे शरीर को उठाना पड़ रहा है। इस तरह की जीवनशैली ने किडनी फेलियर के मामलों में काफी बढ़ोतरी भी कर दी है।

किडनी हमारे शरीर का बहुत महत्वपूर्ण अंग है जो खून को साफ करती है और शरीर में जमा होने वाले हानिकारक पदार्थ जैसे यूरिया, क्रिएटिनिन और कई तरह के अम्लों को मूत्रमार्ग से बाहर निकालने का कार्य करती है।

हमारे शरीर में मुट्ठी के बराबर 2 किडनियाँ पायी जाती हैं जो शरीर के बीचों-बीच कमर के पास स्थित होती हैं।

किडनी के बारे में ख़ास बात ये है कि अगर एक किडनी फेल भी हो जाए तो भी शरीर अपना काम सही से करता रहता है और इसी किडनी के बारे में मुश्किल बात ये है कि किडनी फेल होने का पता इसकी फर्स्ट स्टेज में नहीं चल पाता है। ऐसे में ज़रूरी है कि हम हमारे शरीर के उन संकेतों को तुरंत समझ सके जो किडनी फेलियर की ओर इशारा कर रहे हों। तो चलिए, आज आपको बताते हैं किडनी खराब होने के लक्षणों के बारे में –

मूत्र सम्बन्धी विषमताएं –

1. मूत्र के साथ झाग आना – मूत्र त्यागने के बाद उसमें झाग पैदा होना किडनी फेलियर के शुरूआती लक्षणों का संकेत है।

2. मूत्र की मात्रा में बदलाव – किडनी खराब होने के शुरुआती स्तर पर मूत्र की मात्रा में बदलाव आने लगता है और इसके आने के समय में भी बदलाव देखा जा सकता है।

3. मूत्र के रंग में परिवर्तन – यूरिन के रंग में बदलाव आ जाना और यूरिन का गाढ़ा हो जाना भी खराब किडनी का लक्षण है।

4. मूत्र की मात्रा ज़्यादा या कम हो जाना – अचानक मूत्र की मात्रा का बढ़ जाना या एकदम कम हो जाना भी किडनी की खराबी का संकेत देता है।

5. मूत्र त्याग के समय दर्द और दबाव महसूस होना – मूत्र मार्ग में किसी इन्फेक्शन के कारण मूत्र त्याग के समय दर्द और दबाव महसूस हो तो ये भी किडनी की मुश्किल अवस्था की ओर ध्यान दिलाता है।

6. बार-बार मूत्र आने का अहसास होना – बार-बार मूत्र आने का सिर्फ अहसास हो लेकिन मूत्र ना आये तो ये भी किडनी यानि गुर्दों की ख़राब स्थिति की ओर इशारा है।

7. मूत्र के साथ रक्त का आना – मूत्र के साथ रक्त का आना, मूत्र त्यागने के समय जलन महसूस होना भी किडनी की खराबी की जानकारी देता है।

किडनी खराब होने के अन्य दुष्प्रभाव –

एनीमिया –
शरीर में नई लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण करने वाले हार्मोन को नियंत्रित करना किडनी के कार्यों में से एक है लेकिन किडनी के खराब हो जाने की स्थिति में नई लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण कम होने लग जाता है जिससे कारण खून की कमी होने से एनीमिया रोग हो जाता है जिसके कारण हर मौसम में ठण्ड भी लगने लगती है।

पीठ में तेज़ दर्द होना –
पीठ में दर्द रहने को भले ही सामान्य माना जाता हो लेकिन अगर ये दर्द बहुत तेज़ हो और केवल शरीर के एक ओर के पिछले हिस्से में ही हो रहा हो तो इसे किडनी की खराबी का संकेत समझिये। पीठ में होने वाला ये दर्द कमर और अंडकोष तक भी जा सकता है।

पैरों में सूजन आना –
किडनी खराब होने की स्थिति में शरीर से पानी बाहर नहीं निकल पाता और शरीर में पानी भर जाने के कारण पैरों में सूजन दिखाई देने लगती है।

त्वचा पर चकत्ते और खुजली का होना –
त्वचा पर रैशेस होना कई बीमारियों की ओर इशारा करता है और उन्हीं में से एक बीमारी किडनी के फेल होने की भी है, जिसमें त्वचा पर रैशेस हो जाते हैं क्योंकि किडनी की खराबी के कारण विषैले पदार्थ शरीर से बाहर नहीं निकल पाते और शरीर में जमा होते जाने से शरीर पर पड़ने वाला दुष्प्रभाव त्वचा पर चकत्तों के रूप में दिखाई देने लगता है।

भूख कम लगना –
अगर भूख लगना अचानक से कम हो गया है तो इस लक्षण पर तुरंत गौर किया जाना जरुरी है। ऐसा शरीर में विषाक्त पदार्थों की मात्रा बढ़ जाने से होता है और इसी वजह से उल्टी और मतली आने जैसे लक्षण भी देखे जा सकते हैं।

मुँह से बदबू आना –
मुँह से बदबू आने के कई कारण हो सकते हैं जिनमें से एक कारण किडनी का ख़राब होना भी हो सकता है क्योंकि किडनी खराब होने पर खून में यूरिया का लेवल बढ़ जाता है जिससे मुँह से दुर्गन्ध आने लगती है और मुँह का स्वाद भी बिगड़ जाता है।

एकाग्रता में कमी-
किडनी द्वारा सही तरीके से कार्य नहीं कर पाने की स्थिति में मस्तिष्क में ऑक्सिजन की कमी हो जाती है जिसके कारण एकाग्रता में कमी आ जाती है और स्वभाव में चिड़चिड़ापन बढ़ जाता है।

शरीर के किसी अंग की खराबी के संकेत खुद शरीर हमें देता है लेकिन हम उन्हें अनदेखा करते जाते हैं और इस कारण आखिरी स्टेज पर आकर हमें हमारे शरीर की तकलीफों का पता लग पाता है। लेकिन अब आप जान चुके हैं कि शरीर में होने वाले कौनसे बदलाव आपको किडनी की सेहत के बारे में संकेत देना चाहते हैं इसलिए अभी से अपने शरीर के प्रति जागरूक हो जाइये और स्वस्थ बने रहने में खुद की मदद कीजिये।

“किडनी संबंधी समस्याओं से कैसे बचा जाये?”
“वैज्ञानिकों ने बनाई कृत्रिम किडनी, अब सस्ते में होगा इलाज”
“किडनी खराब होने की बड़ी वजहें, आप ना करें ये गलतियां”

Add a comment