जानिए सेहत के लिए कितना हानिकारक है मांसाहार

113

आज के समय में बहुत से लोग अपनी सेहत का ख्याल रखने के लिए मांसाहार छोड़ रहे हैं और शाकाहारी बन रहे हैं। इसमें कोई शक नहीं है कि मीट का नाम सुनते ही बहुत से लोगों के मुंह में पानी आ जाता है। यह खाने में जितना स्वादिष्ट होता है, उतने ही सेहत के लिए हानिकारक भी होता है। सारी दुनिया में भारत ही एक ऐसा देश है, जहां सबसे ज्यादा शाकाहारी लोग रहते हैं। इसकी एक वजह हमारे शास्त्र द्वारा इसकी इजाजत ना देना है। हिंदू धर्मग्रंथ के अनुसार मांस खाना इंसान के शरीर के लिए नुकसानदेय है। वहीं कुछ वैज्ञानिक कारण भी हैं जो बताते हैं कि शरीर के लिए मांसाहार कितना बुरा है। आज हम आपको मांसाहार के नुकसान बता रहे हैं।

चलिए सबसे पहले आपको बताते हैं कि शास्त्रों के अनुसार मासांहार क्यों निषेध है। श्रीमद् भगवत गीता के अनुसार, मांसाहार खाना राक्षसी गुण है। मांस और शराब का सेवन करना तामसिक भोजन कहलाता है। इस तरह का भोजन करने वाले लोग पापी, कुकर्मी, दुखी, आलसी और रोगी हैं।

महाभारत में कहा गया है कि कोई शख्स अगर 100 अश्वमेध यज्ञ करता है और वहीं दूसरा शख्स पूरी जिंदगी मांस को हाथ नहीं लगाता है, तो दोनों में से बिना मांस खाने वाले शख्स को सबसे ज्यादा पुण्य मिलता है।

अब हम आपको मांसाहार के नुकसान का वैज्ञानिक दृष्टिकोण बताते हैं जिसके अनुसार मांस हमारे शरीर के लिए नुकसानदेय होता है।

1. मांस खाने वाले ज्यादातर लोगों के अंदर चिड़चिड़ापन और ज्यादा गुस्सा होने के लक्षण पाए जाते हैं। ऐसे लोग स्वभाव से बहुत ज्यादा उग्र होते हैं। मांस खाने से आपके शरीर और मन दोनों अस्वस्थ बन जाते हैं।

2. मांसाहारी खाने वाले लोग शाकाहारी की तुलना में गंभीर बिमारियों की चपेट में ज्यादा आते हैं। इन बीमारियों में हाई ब्लड प्रशेर, डायबिटिज, दिल की बीमारी, कैंसर, गुर्दे का रोग, गठिया और अल्सर शामिल हैं।

3. विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट के अनुसार मांसाहार का सेवन करना हमारे शरीर के लिए उतना ही नुकसानदायक होता है जितना कि धूम्रपान असर करता है। इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि पका हुआ मांस खाने से कैंसर का खतरा बना रहता है।

4. मांसाहार की तुलना में शाकाहारी भोजन सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है। शाकाहारी भोजन करने से इंसान स्वस्थ, दीर्घायु, निरोग और तंदरुस्त बनाता है।

5. आप सभी ने बर्ड फ्लू और स्वाइन फ्लू का नाम सुना होगा। यह बीमारी मुर्गे और सुअरों के जरिए इंसानों तक पहुंचती है। यह बीमारी हमारे शरीर तक तभी पहुंचती है जब हम इस बीमारी से ग्रस्त जीव को खाते हैं। हर साल इसकी वजह से लाखों लोग मौत की चपेट में आ जाते हैं।

6. दुनिया के एक चौथाई प्रदूषण का कारण मांस है। अगर दुनिया के लोग मांस खाना छोड़ दें तो 70 प्रतिशत तक प्रदूषण कम हो जाएगा।

7. मांस खाने से इंसान की उम्र भी कम होती है।

8. मांस खाना छोड़ने से काफी पैसों की बचत हो जाएगी जिसका इस्तेमाल आप किसी और काम में कर सकते हैं।

9. विज्ञान के अनुसार शाकाहारी लोग मासांहार करने वालों की तुलना में डिप्रेशन का शिकार कम बनते हैं।

10. मांसाहारी भोजन में गरम मसालों को स्वाद बढ़ाने के लिए डाला जाता है। इसे पचाने के लिए शरीर के अंगों पर ज्यादा दबाव पड़ता है।

“जानिए सावन माह में क्यों मना है शराब और मांस का सेवन”
“धरती के मांसाहारी पौधे”
“कुपोषण के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय”

Add a comment