अनार में स्वास्थ्य का खजाना है – जानिए अनार के आश्चर्यजनक फायदे

2394

शरीर को चुस्त और दुरुस्त बनाये रखने के लिए वैसे तो सभी फलों का सेवन लाभकारी है। लेकिन स्वास्थ्य की दृष्टि से अनार के फायदे अतुल्य है। अनार को सेहत के लिहाज से सबसे ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक और पोषक तत्वों से भरपूर फल माना जाता है जो स्वाद और जायके दोनों में लाजवाब होता है। भारत में अनार की अधिकतर पैदावार महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु और गुजरात में है। शोधकर्ताओं के अनुसार यह फल लगभग 300 साल पुराना है। रोमन भाषियों ने सबसे पहले अनार का पता लगाया था। आइए जानते हैं अनार के फायदे –

अनार में प्रचुर मात्रा में लाभदायक प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, पोटेशियम, मैग्नीशियम, मिनरल फास्फोरस, फाइबर, विटामिन – ए, सी, ई, फोलिक एसिड, खनिज, एंटी वाइरल और एंटी ऑक्सीडेंट बहुत अधिक मात्रा में पाए जाते है। अनार में कैलोरी भरपूर मात्रा में होती है। 100 ग्राम अनार खाने पर हमारे शरीर को लगभग 65 कैलोरी ऊर्जा प्राप्त होती है। अनेक आयुर्वेदिक दवाएं बनाने में भी अनार का प्रयोग किया जाता है। अनार को आयुर्वेद में रोग नाशक और सुंदरता को बढ़ाने वाला फल कहा गया है।

अनार के पेड़ की लकड़ी बहुत मजबूत होती है इसलिए इसकी लकड़ी से टहलने की छड़ी बनाई जाती है। अनार पर किए गये अध्ययनों के अनुसार अनार रक्तसंचार वाली बीमारियों से लड़ता है, उच्च-रक्तचाप को कम करता है, इसका रस वजन कम करने में बहुत मदद करता है, पेट के आसपास की चर्बी को कम करता है, हेपेटाइटिस सी को रोकने में सहायक, लिवर संबंधी समस्या दूर करता है, तनाव दूर करता है, सूजन और जलन से राहत दिलाता है, दिल से जुड़ी बीमारियों में बचाव करता है, इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है, एनीमिया को दूर करता है, गठिया व वात रोग की आशंका को घटाता है, जोड़ों के दर्द को कम करता है, कैंसर की रोकथाम में सहायक है, शरीर में बुढ़ापे की गति को धीमा करता है, महिलाओं में मातृत्व की संभावना और पुरुषों में पुंसत्व बढ़ाता है।

अनार को स्किन कैंसर, स्तन-कैंसर, प्रोस्टेट ग्रंथि के कैंसर और पेट में अल्सर की संभावना कम करने की दृष्टि से भी विशेष उपयोगी माना गया है। एंटी-एजिंग गुण होने के कारण अनार सुंदरता को बढ़ाता है और झुरियों को कम करता है। अमेरिका के डॉक्टरों की एक पत्रिका में लिखा हुआ है कि अनार का रस वृद्धावस्था में सठिया जाने के एलजाइमर रोग की संभावना को भी घटाता है।

अनार के इतने गुणों और अनार के फायदे को देखते हुए इसको हम स्वास्थ्य का खजाना कह सकते हैं। इसलिए आपको अपनी आहार शैली में अनार को अवश्य शामिल करना चाहिए। अनार के छोटे-छोटे दानों में रस के साथ गुण भी भरा होता है, लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि यह एक ऐसा फल है जिसके बीज और छिलके दोनों ही कई गुणों से भरपूर हैं। अनार या अनार जूस के सेवन से बहुत सारे स्‍वास्‍थ्‍य लाभ होते है। तो आइये जानें अनार के फायदे और अनार के स्‍वास्‍थ्‍य लाभों के बारे में –

1. अनार के छिलकों का पावडर बनाकर उसमें ब्राउन शुगर और शहद मिलाकर स्क्रब बना लें और चेहरे पर लगाएं। इससे चेहरे पर निखार आयेगा, मृत त्वचा निकल जाएगी और ब्लैक व व्हाइट हेड्स भी दूर होंगे। अनार के छिलकों में सन-ब्लॉकिंग एजेंट्स होते हैं जो प्राकृतिक तरीके से त्वचा को सुरक्षित रखता है। अनार के रस को चेहरे पर लगाने से चेहरे से पिंपल भी गायब हो जाते हैं।

2. अनार त्वचा को हाइड्रेटेड रखने का काम करता है। अनार के बीजों से निकले तेल का प्रयोग करने से त्वचा कोमल और मुलायम बनी रहती है। अनार त्वचा को मॉइश्चर करने में सहायक है।

3. अनार या अनार का जूस हडि्डयों को मजबूत करने, ब्लड सर्कुलेशन को सही रखने, दिल की बीमारियों के लिए, खून की कमी को दूर करने, वजन कम करने में भी बहुत लाभकारी होता है।

4. नियमित अनार के सेवन से शरीर में रक्त-संचार सुचारू रूप से होता है जिससे हार्ट-अटेक और हार्ट-स्ट्रोक जैसी तकलीफ भी आसानी से ठीक हो जाती है।

5. अगर गर्भवती महिला अनार के जूस का सेवन करती रहें तो उसका बच्चा स्वस्थ और तंदुरुस्त पैदा होता है। उसके होने वाले बच्चे को कम वजन जैसी बीमारी का सामना नहीं करना पड़ता।

6. कम ब्लड प्रेशर वाले लोगो के लिए अनार का जूस बहुत ही लाभकारी है। साथ ही यह शरीर में बेकार कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है।

7. एक शोध के अनुसार नियमित रूप से एक गिलास अनार का जूस पीने से 30-40 उम्र तक के लोग और बुजुर्ग अपनी याददाश्त को बेहतर बना सकते है। अनार जूस याददाश्त को बेहतर बनाएं रखने के लिए बेहद कारगर है जिस कारण अनार को एक बेहतर ब्रेन टोनिक भी माना जाता है।

8. अनार के जूस में न्युरो-प्रोटेक्टिव गुण होने के कारण इसे ब्रेन की सेहत के लिए बेहतरीन माना जाता है। इसके नियमित सेवन से ब्रेन हैमरेज जैसी घातक समस्याएं होने की संभावनांए बहुत ही कम हो जाती है। शौध के आधार पर यह माना जाता है कि ब्रेन से जुडी समस्याओं से ग्रस्त रोगियों को अनार का जूस जरूर पिलाते रहना चाहिए। इसके अलावा यह एलजाइमर रोग में भी फायदा करता है।

9. अनार का इस्‍तेमाल मंजन के तौर पर भी किया जाता है। मंजन बनाने के लिए अनार के फूल को छाया में सुखाकर बारीक पीस लें। फिर इसे मंजन की तरह दिन में 2-3 बार दांतों पर मलने से दांतों से खून आना बंद हो जाता है और दांत मजबूत हो जाते हैं। अनार के प्रतिदिन सेवन से दाँतों संबंधी सारी समस्याओं से छुटकारा मिल जाता है।

10. आधे कप खट्टे-मीठे अनार के रस में 2 चम्मच मिश्री मिलाकर रोजाना दोपहर के समय पीने से गर्मी के मौसम की नकसीर ठीक हो जाती है। अनार के रस को नाक में डालने से भी नाक से खून आना बंद हो जाता है। ऐसे रोगी को नियमित अनार का रस पिलाना चाहिए।

11. अनार के रस में शहद मिलाकर चाटने से उल्टी आना तुरंत बंद हो जाती है। सूखे अनारदाने को पानी में भिगो दें, कुछ देर पश्चात इस पानी को पीने से उल्टी आने के रोग मे लाभ होता है।

12. 200 ग्राम खट्टे-मीठे अनार के रस में 25-25 ग्राम मुरमुरे का आटा और शर्करा मिलाकर सेवन करने से मस्तिष्क की गर्मी, शारीरिक गर्मी, पित्तज्वर, लू से आई बुखार की जलन, व्याकुलता, उल्टी और प्यास भी इसके सेवन शांत हो जाती है।

13. छाया में सूखे हुए अनार के पत्तों को बारीक पीसकर छान लें और 6 ग्राम की मात्रा में सुबह गाय के दूध की छाछ या ताजे पानी के साथ लेने से पेट के सभी कीड़े नष्ट हो जाते हैं।

14. अनार के रस को शरीर के छिले व कटे हुए हिस्सों पर लगाने से घाव जल्दी भर जाते है और चोट आदि के निशान भी गायब हो जाते हैं.

15. अनार का सेवन सफेद दाग में बहुत ही लाभदायक है. इसके पत्तों के रस को शहद के साथ मिलाकर लेने से लाभ मिलता है. 10-10 ग्राम लाल चंदन और अनारदाना को पीसकर सहदेवी के रस में मिलाकर गोलियां बना लें. इन गोलियों को पानी की सहायता से घिसकर लेप बना लें और सफेद दाग वाली त्वचा पर लगाने से बहुत लाभ होता है। छाया में सूखे अनार के पत्तों को बारीक पीस लें और कपड़े से छान लें। इस चूर्ण की 8-8 ग्राम मात्रा सुबह-शाम ताजे पानी से फांकी लेने से भी सफेद दाग ठीक होते है।

इसके अलावा अनार के नियमित सेवन से सिर चकराना, मिरगी, पेट दर्द, कब्ज, हृदय की दुर्बलता, बेहोशी, अम्लपित्त, स्त्रियों का प्रदर रोग, बवासीर, जुकाम, दस्त, रतौंधी, गंजापन, दमा, मोटापा, खुजली, खाँसी, मुंह के छाले, हैजा, खून की उल्टी, बालों का झड़ना, गले की समस्या, अनिद्रा, आँखो के रोग, मुंह की दुर्गन्ध, पीलिया, अरुचि, छाती का दर्द आदि अनेकों बीमारियों में अनार के छिलके, अनार का रस, अनार के पत्ते और अनार के पेड़ की छाल से राहत मिलती है। इसके इतने बेशुमार लाभ है की हम लिख भी नही सकते इसलिए हम यही कहना चाहते है – आप अनार का सेवन नियमित तौर पर करते रहे, शारारिक समस्या अपने आप आपसे दूर हो जायेगी। इसके सेवन से शरीर में पानी की कमी नही रहती। अनार के फायदे और गुणों को देखते हुए इसे अपने फलों की सूची में शामिल करें और लंबे समय तक उर्जावान बने रहे।

अगर आपको किसी भी तरह के खट्टे फलों को खाने की मनाई है या खट्टे फलों से एलर्जी है तो अपने आहार चिकित्सक के संपर्क में रहकर अनार का सेवन करें। हमारा उद्देश्य आपका सामान्य ज्ञान बढ़ाना है। संपूर्ण अनार के फायदे जानने के लिए आप अपने आहार चिकित्सक से परामर्श ज़रूर करे।

“इन ख़राब आदतों से मानसिक स्वास्थ्य पर होता है बुरा असर”
“गर्मी में शहतूत खाने के 8 गजब के स्वास्थ्य लाभ”
“सुबह उठकर पानी पीने से होते हैं ये जबरदस्त स्वास्थ्य लाभ”

Add a comment