Download App

इस किले से दी जाती थी सबसे ज्यादा मौत की सजा जानिए क्या है खास

722

भारत में कई खूबसूरत और दुर्लभ किले पाए जाते हैं। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे किले के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बारे में शायद आपने सुना भी ना होगा। यह किला महाराष्ट्र में स्थित है इसके लिए को रायरी के नाम से जाना जाता है। यह किला रायगढ़ में काफी मशहूर है और यह अपने अंदर कई ऐतिहासिक घटनाएं समेटे हुए हैं। यह किला शिवाजी महाराज का किला था और उनके जीते जी कोई भी इस किले पर अपना अधिपत्य नहीं जमा सका। तो चलिए इस किले से जुड़ी कुछ और रोचक बातें जानते हैं।

shivaji-maharaj-raigarh-fort1

यह माना जाता है 1674 इसी में शिवाजी महाराज ने इस जगह को अपनी राजधानी बनाया था। 1680 में उन्होंने अपने प्राण भी इसी किले में त्याग दिए थे। यह किला महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले से महज 27 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह किला कुल 5.12 किलोमीटर में फैला हुआ है। यह माना जाता है कि शिवाजी महाराज का राज्यभिषेक भी इसी किले में हुआ था और यहीं पर उन्हें छत्रपति की उपाधि से सुशोभित किया गया था।

shivaji-maharaj-raigarh-fort2

इस किले के मुख्य तौर पर तीन हिस्से है पहला हिस्सा पश्चिम में हरिकरण की तरफ खुलता है दूसरा हिस्सा उत्तर में टकमक टोक की तरफ खुलता है और तीसरा पूर्व में भिवानी की तरफ खुलता है। इन तीनों हिस्सों से जुड़ी कई दिलचस्प कहानियां जुड़ी हुई है। टकमक टोक के बारे में यह बताया जाता है कि इस जगह से कैदियों को नीचे फेंक दिया जाता था यह एक प्रकार की मौत की सजा होती थी। असल में टकमक टोक किले की पहाड़ी का किनारा है जहां से नीचे की गहराई काफी ज्यादा है इसी वजह से मौत की सजा यही से दी जाती थी।

shivaji-maharaj-raigarh-fort3

रायगढ़ को पहले रायरी के नाम से जाना जाता था 1656 ईस्वी में इस किले पर शिवाजी ने कब्जा कर लिया था। उससे पहले यह किला चंद्रराव मोरे का था रायगढ़ पर इससे पहले कई शासकों ने शासन किया है शिवाजी ने रायरी को अपनी राजधानी चुनने के बाद इसका नाम रायगढ़ रख दिया था। उस समय रायगढ़ में करीबन 300 घर भी बनवाए गए थे शिवाजी के बाद 1679 में यहां का शासन संभाजी ने संभाला इसके बाद इस जगह पर मुगलों ने अपना कब्जा कर लिया।

shivaji-maharaj-raigarh-fort5

इस किले तक पहुंचने का मात्र एक ही रास्ता है। इस किले का एक रास्ता बनाने के पीछे उद्देश्य भी यही था कि दुश्मन सिर्फ एक जगह से ही आ सके। इस किले तक पहुंचने के लिए 1400 – 1450 सीढियां चढ़नी पड़ती है। लेकिन अब इस किले के लिए रोप वे भी बना दिया गया है।

shivaji-maharaj-raigarh-fort6

“इस किले को पहाड़ काट कर बनाया गया है जानिए क्या है खास”
“चीन की तरह भारत में भी मिली 1000 साल पुरानी सबसे लंबी दीवार”
“कुछ ऐसी खूबसूरत इमारतें हैं जिन्हें सात अजूबों में शामिल होना चाहिए”
“दुनिया का सबसे खतरनाक किला”

Featured Image Source1 – 2

All Image Source

शेयर करें
पिछला लेखये है विश्व की सबसे बड़ी सोने की खान
अगला लेखजानिए TV पर बार-बार क्यों आती है सूर्यवंशम

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment