आंखें फटी रह जाएंगी तुलसी के पत्तों के यह फायदे जानकर

1713

तुलसी के पौधे को एक औषधि के रूप में जाना जाता है। भारत में लोग इसे घर के आंगन में लगाते हैं और इसकी पूजा करते हैं। क्या आपने कभी सोचा है कि संसार में तमाम तरह के पौधे हैं लेकिन इसकी ही पूजा क्यों की जाती है? वास्तव में कई अध्ययनों में यह साबित हो गया है कि इस पौधे में कई रोगों को ठीक करने की क्षमता होती है।

अध्ययनों के अनुसार, तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल सर्दी-खांसी, पेट दर्द, पेशाब संबंधी रोगों, पाचन बेहतर करने, आंखों की समस्याओं, हिचकी, मतली, उल्टी, डायबिटीज, कोलेस्ट्रॉल, मुंह के छाले, माइग्रेन, कान का दर्द, अवसाद, अनिद्रा, शीघ्रपतन, अल्सर आदि समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए किया जाता है। इतना ही नहीं यह त्वचा से जुड़े रोगों के इलाज के लिए भी बेहतर चीज है। इसकी सबसे खास बात यह है कि इसके कोई साइड इफेक्ट्स नहीं है। हम आपको तुलसी के कुछ लाभ बता रहे हैं।

1. बुखार कम करते हैं तुलसी के पत्ते
तुलसी के पत्तों में एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीबायोटिक गुण होते हैं, जिस वजह से इसका इस्तेमाल सर्दी-जुकाम और बुखार के लक्षणों को कम करने के लिए किया जाता है। आयुर्वेद के अनुसार तुलसी का काढ़ा पीने से बुखार कम होता है। थोड़े पानी में तुलसी के पत्ते और दालचीनी डालकर उबाल लें। बुखार होने पर इस काढ़े को दिन मई कई बार पिएं।

2. डायबिटीज कंट्रोल करने में सहायक
तुलसी के पत्तों में एंटी-ऑक्सिडेंट्स गुण होते हैं, जिस वजह से यह पैनक्रियाटिक बीटा सेल्स के कामकाज में सुधार करते हैं। इससे इंसुलिन सेंसिटिविटी बढ़ती है। यह ब्लड शुगर को कम करके डायबिटीज को कंट्रोल करने में मददगार हैं।

3. दिल को स्वस्थ रखते हैं
जाहिर है तुलसी के पत्तों में एंटी-ऑक्सिडेंट्स गुण होते हैं जिस वजह से यह ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करके दिल को स्वस्थ रखने में सहायक हैं। अध्ययनों के अनुसार, रोजाना तुलसी के पत्ते चबाने से हृदय संबंधी रोगों से बचा जा सकता है।

4. तनाव कम करने में सहायक
एक अध्ययन के अनुसार तुलसी में तनाव वाले हार्मोन कॉर्टिसॉल को कम करने की क्षमता होती है। जाहिर है इस हार्मोन का लेवल कम होने से आपको तनाव से राहत मिलती है। इसके अलावा तुलसी ब्लूस सर्कुलेशन को कंट्रोल कर और फ्री रैडिकल डैमेज से बचाकर आपको तनाव से बचाती है। तनाव कम करने के लिए इससे नैचुरल तरीका क्या होगा भला।

5. किडनियों के स्वस्थ रखते हैं तुलसी के हरे पत्ते
तुलसी में ड्यूरेटिक और डिटॉक्सिफाइ गुण होते हैं जिस वजह से यह आपकी किडनियों को स्वस्थ रखने में सहायक है। यह खून में युरिक एसिड लेवल को कम करती है। इसके अलावा इसके एसिटिक एसिड और एस्सेंशल ऑयल गुण किडनी की पथरी को कम करते हैं।

6. स्मोकिंग की बुरी आदत छुड़ा सकते हैं तुलसी के चंद पत्ते
अगर आपको स्मोकिंग की बुरी लत है और आप इससे मुक्ति पाना चाहते हैं, तो जब भी आपको सिगरेट पीने की इच्छा करे, तो आप तुलसी के कुछ पत्ते चबा लें। तुलसी में एंटी-स्ट्रेस यौगिक होते हैं, जो स्मोकिंग छोड़ने के बाद महसूस होने वाले तनाव को कम करते हैं।

7. त्वचा के लिए भी फायदेमंद है तुलसी
तुलसी के पत्तों के रस में थाइमोल तत्व पाया जाता है, जो त्वचा संबंधी समस्याओं को ठीक करता है। इसके प्यूरीफाइ गुण खून को साफ करते हैं, जिससे आपके चहरे पर चमक आती है। इसके एंटी ऑक्सिडेंट्स और एंटी बैक्टिरीयल गुण आपको मुहांसों से बचाते हैं।

8. माइग्रेन के इलाज करते हैं तुलसी के पत्ते
तुलसी में पेनकिलर गुण होते हैं जिस वजह से यह माइग्रेन के कारण होने वाले सिर दर्द को कम करती है। रोजाना तुलसी के चार से पांच हरे पत्ते चबाने से माइग्रेन की समस्या में आराम मिलता है।

“सेहत के लिए बादाम है बेहद फायदेमंद”
“चॉकलेट से होने वाले फायदे और नुकसान”
“काजू के अद्भुत फायदे”

Add a comment