पहलवानों के कान ऐसे क्यों होते हैं?

618

भारत में कुश्ती एक लोकप्रिय खेल है और यह बात किसी से छुपी हुई नहीं है। पूरे विश्व में भारत के पहलवानों का डंका बोलता है। लेकिन आपने क्या यह बात सोची है कि पहलवानों के कान बाहर की तरफ उभरे हुए क्यों होते हैं ?? यह हमने देखा तो कई बार है लेकिन शायद ही कोई होगा जो इस बारे में जानता हो तो चलिए आपको इस बारे में तफसील से बताते हैं।

thequint%2F2016-08%2F7f4e2757-2e8f-4fed-8a8d-e3f0d3f9a0df%2Fbabita

Image Source

 

पहलवान को पहलवान बनने के लिए बहुत ही मेहनत कठिन परिश्रम और एक बहुत ही कठिन जीवन जीना होता है। जो कान आप देख रहे हैं यह स्थिति कोली फ्लावर ईयर के नाम से जानी जाती है। दरअसल यह स्थिति तब उत्पन्न होती है जब कानों पर जोरदार घर्षण हो जाए। यह बात किसी से छुपी हुई नहीं है की पहलवानी में शरीर बहुत ही विकट परिस्थिति से गुजरता है।

इस खेल का इस खेल की प्रकृति ही कुछ ऐसी है जिसमें एक इंसान दूसरे इंसान पर हावी होना चाहता है जिस के दौरान वह दूसरे इंसान पर कुछ ऐसे भीषण प्रहार करता है जिससे उसे चोट पहुंचे। कान शरीर का सबसे नाजुक हिस्सा है इस पर हल्का सा प्रहार होने से खाल का एक गुच्छा सा बन जाता है। इसी कारण यह कान बाहर की तरफ निकल आते है।

कई बार तो यह भी पाया गया है की इस वजह से पहलवानो के सुनने की क्षमता भी चली जाती है। सिर्फ कान ही नहीं शरीर के और भी कई हिस्सों में इस खेल की वजह से बहुत दुष प्रभाव पड़ता है।

 

Featured Image Source 1Featured Image Source 2

शेयर करें
पिछला लेखयह तथ्य आपको हैरान कर देंगे
अगला लेखभारत के जानवर भी स्मार्ट है

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment