अपने काम और जीवन में संतुलन रखने के 5 सरल तरीके

446

जॉब हो या बिज़नस आजकल काम का बोझ इतना ज्यादा होता है की इससे हमारा निजी जीवन भी अव्यवस्थित हो जाता है। जॉब से आने के बाद हम थोड़े चिड़चिड़े हो जाते हैं और हमारे जीवन में खुशहाल नहीं रह पाते। लेकिन कुछ उपायों से हम अपने काम और निजी जीवन में संतुलन बनाये रख सकते हैं ताकि हमारे काम के तनाव और बोझ से हमारे निजी जीवन पर कोई असर ना हो।

1. प्राथमिकता तय करें

सबसे पहले आप अपने जीवन में जो काम और जो चीजें ज्यादा महत्वपूर्ण हैं उनकी एक प्राथमिकता की लिस्ट बनाये जैसे परिवार, दोस्त, आपकी जॉब या बिज़नस, आपके शौक इत्यादि। अब आप जिसको सबसे ज्यादा प्राथमिकता देते हैं उसके लिए हर रोज समय जरूर निकालें।

2. अपने हर मिनट का हिसाब रखें

आप जब भी कोई काम करें तो अपने हर मिनट का हिसाब रखते हुए काम करें और परखें की कहीं आप उस दौरान किसी और काम में समय तो बर्बाद नहीं कर रहे। ऐसे में आपकी कार्यकुशलता बढ़ेगी और समय रहते आप अपने काम को पूरा कर लेंगे। जैसा की अक्सर देखा जाता है की कुछ लोग अपनी जॉब में देर तक समय से ज्यादा बैठकर रात तक अपना काम पूरा करते हैं और वो इसी लिए होता है क्योंकि वो समय रहते अपने काम को पूरा नहीं कर पाते और अपने समय को कहीं और बर्बाद करते हैं। ऐसे में ना तो जॉब में कार्यकुशलता आ पाती है और ना ही निजी जीवन संतुलित रह पाता है।

3. ना कहना सीखें

अपने काम के दौरान अगर कोई दूसरा काम आ जाये या कोई आपको मिलने को कहे जिससे आपका काम बाधित हो रहा हो तो ऐसे में ना कहना सीखें। ऐसा करने से आपकी कार्यकुशलता बढ़ेगी और आप अपने काम को सही रूप दे पाएंगे और अगर आपने अपने काम के बीच किसी और को समय दे दिया तो आपके काम में वो निखार नहीं आ पायेगा।

4. अपने काम, निजी जीवन और सामाजिक जीवन में संतुलन बनायें

कई बार हम हमारी जॉब की वजह से निजी जीवन के प्लान खराब कर लेते हैं तो कई बार हमारे निजी जीवन के प्लान हमारे सामाजिक जीवन की वजह से बिगड़ जाते हैं। इसलिए खुद तय करें की आपके लिए पहले क्या महत्वपूर्ण है उसे ही समय दें। मान लीजिये आपने परिवार के साथ कहीं घूमने की प्लानिंग की है और अचानक आपके जानकार के यहाँ कोई समारोह के लिए न्योता आ गया तो आप तय करें की आपके लिए क्या ज्यादा जरुरी है और उसे ख़ुशी ख़ुशी स्वीकार करें।

5. परिवार के साथ हों तो काम से दूर रहें

परिवार के साथ बिताये गए २ घंटे उन ३ घंटों से भी ज्यादा महत्वपूर्ण होते हैं की जब आप परिवार के साथ तो हैं लेकिन अपने काम में व्यस्त हैं अपनी ईमेल चेक कर रहे हैं इत्यादि। इसलिए जब आप जॉब पर जाएं तो परिवार की तरफ ध्यान ना दें लेकिन जब आप परिवार के साथ समय बिताएं तो पूरा समय परिवार को ही दें उस समय अपने जॉब से ध्यान हटा लें।

“अगर डिसीजन लेने में हो रही है परेशानी तो आजमायें ये तरीके”
“घर बैठे ऑनलाइन पैसे कमाना चाहते हैं तो ये तरीके अपनाएं”
“सिगरेट छोड़ना चाहते हैं तो ये आसान तरीके अपनाएं”

Add a comment