6 ऐसे प्राकर्तिक रंग जो आपने देखे तो हैं पर वो असलियत में नहीं हैं

हमारी पृथ्वी अत्यंत ही खूबसूरत एवं प्राकर्तिक है और इसी प्रकृति के कई ऐसे रंग हैं जो आपने देखे तो हैं पर उनका कोई भी अस्तित्व नहीं है। शायद जो हम आपको बताने जा रहे हैं वो आपको हैरान कर सकता है। मगर असलियत तो यही है तो आइये इन तथ्यों को विश्लेषित करते हैं ।

1. आसमान नीला नहीं है – जी हाँ आसमान का रंग नीला नहीं है या सही शब्दों में कहें तो आसमान का कोई रंग ही नहीं है सुबह के समय में आसमान नीला इसलिए दिखता है क्योँकि आसमान में फैले हुए कण सूर्य की रोशनी पड़ते ही नीला प्रकाश फैलाते हैं जिस कारण आसमान नीला दिखता है।

2. सूर्य की रौशनी पीली नहीं है – क्या आपने सूर्य की रौशनी को कभी किसी त्रिभुजा आकर कांच में से देखा है। तब आपको सतरंगी रंगों का अनुभव होता है। सही मायनो में सूर्य की रौशनी में हर रंग समाहित है मगर जब यह पृथ्वी के सुरक्षा परत से टकराता है तो पीला प्रतीत करता है जो की सफ़ेद होने के कारण पीला रंग दिखाती है।

3. चन्द्रमा का रंग भी भूरा है – चन्द्रमा भी पूर्ण चन्द्रमा की स्थति में पीला नज़र आता है मगर अगर आप इसे टेलिस्कोप की मदद से देखेंगे तो यह आपको भूरा नज़र आएगा जो की इसका असली रंग है। पर मनुष्य की ऑंखें इन रंगों को बारीकी से पहचानने में असमर्थ है। जिस वजह से हमें यह पीला प्रतीत होता है.

4. काला कोई रंग नहीं है – यह बात वैज्ञानिकों द्वारा सिद्ध की जा चुकी है की हमें प्रतीक रूप से काला रंग तभी दिखता हैं जब कोई रंग उपस्थित नहीं होता है यानी अँधेरा होता है। इसलिए काले रंग को रंग कहना उचित नहीं होगा।

5. ब्रह्माण्ड का रंग भी काला नहीं है – वैसे हम सभी ने ब्रह्माण्ड को बस फिल्मों में ही देखा है। मगर अनुसंधानकर्ताओं के अनुसार ब्रह्माण्ड का रंग काला नहीं है।

6. नसों का रंग भी नीला नहीं है – यह बात भी गौर फरमाने लायक है की हमारी नसों का रंग भी नीला नहीं है जो देखने से प्रतीत होता है। यह सब हमें हमारी खाल की वजह से लगता है क्योँकि जब हमारी खाल रौशनी को रिफ्लेक्ट करती है तो हमें इनका रंग नीला दिखाई देता है । लेकिन अगर आपने कभी गौर फ़रमाया हो तो जहाँ हमारी खाल हल्की होती है वहां हमारी नसों का रंग लाल दीखता है और यही इनका असली रंग भी है।

शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment