महाराष्ट्र का बैंक जहाँ लाखों रूपए होने के बाद भी नहीं लगता ताला

यह बात हम सब जानते हैं कि जहां पर पैसों की सिक्योरिटी सबसे ज्यादा हो सकती है वह जगह सिर्फ बैंक है। बैंक में करोड़ों रुपया रखा जाता है और बैंक भी अपनी सिक्योरिटी का पूरा ख्याल रखते हैं। लेकिन आज जो हम आपको बताने जा रहे हैं वह सुनकर आप हैरान रह जाएंगे।

हमारे देश में यूको बैंक की एक ऐसी ब्रांच भी है जिस में ताला नहीं लगाया जाता और इसे देश की पहली लोक लेस ब्रांच भी कहा जाता है। आपको बता दें कि इस बैंक की ब्रांच के लिए रिजर्व बैंक को भी अपने कानूनों में बदलाव करना पड़ा था। इस बैंक में दरवाजे पर लगाए गए हैं लेकिन उन पर ताला नहीं लगाया जाता भले ही छुट्टी हो या वर्किंग डे।

महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में स्थित इस यूको बैंक की ब्रांच की यह खासियत है कि यहां ताला नहीं लगता। यह बैंक यहां के एक छोटे से कस्बे शनि शिगनापुर में है। आपको बता दें 2011 से पहले किसी भी बैंक ने इस कस्बे में अपनी शाखा नहीं खोली थी और इसका कारण भी यही था कि शनि शिंग्नापुर में लोग अपने घरों से और दरवाजों में ताले नहीं लगाते लगाते और इसी कारण लोकल पुलिस और आरबीआई भी यहां बैंक खोलने के लिए राजी नहीं था।

बैंक में हर समय पैसा रहता है और उसकी सिक्योरिटी करना बहुत जरूरी है। इस बैंक की ब्रांच को यहां खोलने के बाद आरबीआई ने भी अपने नियमों में बदलाव किया सन 2011 में Uco बैंक ने यहां पर अपनी ब्रांच खोली।

शुरू के कुछ महीनों में बैंक मैनेजर और बाकी कर्मियों को यहां पर बहुत डर लगता था और रात में भी यहां पर कर्मचारियों की तैनाती की जाती थी ताकि कैश की सुरक्षा की जा सके। लेकिन धीरे धीरे यहां पर माहौल को देखते हुए कर्मचारियों की तैनाती को कम किया गया। यहां बस एक गिलास डोर लगाया जाता है जिससे कोई जानवर अंदर ना घुसे।

भारत में शनि शिगनापुर एक ऐसा कस्बा है कि यहां पर दुकानों पर भी ताले नहीं लगते और यहां रात भर दुकानें खुली रहती हैं। लेकिन यहां आज तक कभी चोरी नहीं हुई यहां तक कि कई घर ऐसे हैं जहां चौखट भी नहीं लगी है।

इसके पीछे का रहस्य कुछ इस प्रकार है

यह जगह शनि धाम के नाम से विख्यात है और यहां देश-विदेश से कई लोग हर साल आते हैं। यहां के स्थानीय लोगों का यह मानना है कि शनि महाराज उनके घरों की रक्षा करते हैं इसीलिए इस मंदिर के कई किलोमीटर के एरिया में कोई भी चोरी नहीं करता और अगर वह करता भी है तो अंधा हो जाता है। यही डर है कि लोग यहां पर चोरी नहीं करते और दरवाजा लगाने की प्रथा है ही नहीं।

Source

शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment