एक ऐसा तैराक जिसके हाथ नहीं है

आज हम आपको एक ऐसे तैराक के बारे में बताने जा रहे हैं जोकि एक दिव्यांग है लेकिन उन्होंने अपनी परेशानियों को कभी भी अपने जज़्बे के आगे नहीं आने दिया। जी हां हम बात कर रहे हैं विश्वास की जिन्होंने अपने दोनों हाथों को मात्र 10 साल की उम्र में खो दिया था लेकिन इस अक्षमता ने उन्हें कभी भी वह करने से नहीं रोकने दिया जो करना चाहते थे। उन्होंने अभी हाल ही में भारत के लिए तीन मेडल जीते हैं और उनकी तैराकी इतनी सुद्रढ़ है कि अच्छे खासे तैराक भी गश खा जाएं।

वह बताते हैं कि बचपन में एक इमारत पर पानी देने के दौरान वह तारों पर जा गिरे जिससे उनके दोनों हाथ जाते रहे। उनके पिता उनको बचाने के दौरान मारे गए लेकिन उन्होंने तब तक प्रयास किया जब तक उन्होंने अपने बेटे को बचा ना लिया।

विश्वास दो महीने तक कोमा में रहे जब उन्हें होश आया तो उनके दोनों हाथ नहीं थे लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी। उन्होंने B.Com किया और खुद को अपनी रुचि के अनुसार व्यस्त रखा। उनको डांस करना Kung फु खेलना और स्विमिंग करना बहुत पसंद है। वह कहते हैं कि स्विमिंग उनका पहला प्यार है और अभी एक NGO उनकी इस चीज में बहुत मदद कर रहा है।

हम आशा करते हैं की विश्वास भारत का नाम आने वाले दिनों में और भी रोशन करेंगे।

शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment