कारगिल में शहीद हुए जवान की बेटी का देश के नाम सन्देश जरूर पढ़ें

भारत और पाकिस्तान के बीच कई बार युद्ध लड़े गए है जिनमे कई जवानों की जाने गयी है। मगर क्या कभी आपने सोचा है की उन परिवारों पर क्या बीतती होगी। ऐसा ही एक भावनात्मक वडीओ सामने आया है जिसमे कैप्टन मंदीप सिंह (जो की करगिल में शहीद हो गए थे) की बेटी ने एक वडीओ में अपने भावों को प्रकट किया है।

जब वह छोटी थी, वह पाकिस्तान से, मुसलमानों से नफरत किया करती थी क्योंकि उसे लगता था कि उसके पापा को इन्होने मारा है। लेकिन बाद में उसे एहसास हुआ कि उसके पापा की मौत के पीछे की वजह यह है ही नहीं।

गुरमेहर बताती है कि अपने पिता को महज 2 साल की उम्र में खोने के बाद पाकिस्तान के लिए मेरे दिल में नफरत भर गई थी। यहाँ तक कि गुरमेहर जब 6 साल की थी, उसने एक मुस्लिम महिला को चाकू मारने की कोशिश की थी। क्योंकि उसका मानता था कि उसके पिता की मौत के पीछे वो ही जिम्मेदार है।

भारत और पाकिस्तान के बीच तनावपूर्ण रिश्तों पर अपनी बात रखते हुए गुरमेहर ने दोनों देशों के बीच युद्ध की गतिविधियों, और एक-दूसरे के प्रति नफरत को ख़त्म करने की अपील की है।

 

All Image Source

अगर आप किसी विषय के विशेषज्ञ हैं और उस विषय पर अच्छे से लिख सकते हैं तो जागरूक पर जरुर शेयर करें। आप अपने लिखे हुए लेख को info@jagruk.in पर भेज सकते हैं। आपके लेख को आपके नाम, विवरण और फोटो के साथ जागरूक पर प्रकाशित किया जाएगा।
शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment