अच्छा रिश्ता रखना चाहते हैं तो पहले खुद में लाएं ये 5 बदलाव

अगर आप खुद से एक नेगेटिव रिलेशनशिप रखते हैं, तो किसी दूसरे से अच्छा रिश्ता रखना आपके लिए मुश्किल हो सकता है। ऐसा होने से आप अपने पार्टनर पर इमोशनली डिपेंड रह सकते हैं। इससे आप जेलस और क्रेजी महसूस कर सकते हैं। इससे आपका रिश्ता और ज्यादा खटास भरा हो सकता है। इससे दोनों पार्टनर दुविधा और परेशानी महसूस कर सकते हैं। इतना ही नहीं साथ रहते हुए और शारीरिक रूप से साथ रहते हुए अकेलापन महसूस कर सकते हैं। अगर आप भी इस समस्या से जूझ रहे हैं, तो आपको सुधार करने की जरूरत है। इसका कारण यह है कि जब तक आप खुद से प्यार नहीं करते, तब तक कोई भी आपसे ठीक से प्यार नहीं कर पाएगा।

जब आप अपने भीतर सुधार लाना शुरू करते हैं, तो आपको महसूस होगा कि आप अधिक खुश रहने लग जाएंगे और आपका कॉन्फिडेंस बढ़ने लगेगा। लोग आपके दोस्ताना, सकारात्मक व्यक्तित्व के प्रति आकर्षित होने लगेंगे और वे इसके लिए आपको प्यार करेंगे। दूसरी तरफ, यदि आप अपने आप में सुधार नहीं करते हैं तो आप एक नकारात्मक और दुखी जीवन जीने लगेंगे, जिससे लोग आपसे दूरी बनाने लगेंगे।

अपने आपमें ऐसे लाएं सुधार-

1. पहले खुद के साथ प्यार से पेश आएं – अगर आपका खुद के साथ बेहतर रिश्ता नहीं है, तो संभावना है कि आप अपनी जरूरतों को नजरअंदाज करने लगेंगे। इसलिए अपनी जरूरतों को समझें और उन जरूरतों और इच्छाओं के बारे में अपने आपसे बात करें। उदाहरण के लिए, यदि आप किसी चीज़ के बारे में झिझक महसूस करते हैं, तो अपने विचारों को दबाएं नहीं, बल्कि अपने आपको समय दें और समझने की कोशिश करें कि आपको क्यों डर लगता है और उस भावना का सम्मान करें।

2. खुद को अपमानित न करें – एक अन्हेल्दी रिलेशनशिप आपको कमजोर कर सकती है जबकि हेल्दी रिलेशनशिप आपको उत्साह और सकारात्मक सोच से भर देती है। याद रखें कि आप दोनों दोस्त हैं, न कि दुश्मन। अपने आपको अपमानित करने की कोशिश ना करें, और यदि आप अपमान करते हैं तो उसके बाद सकारात्मक विचारों पर गौर करें। समय के साथ ये आंतरिक टिप्पणियों के साथ अपमान को बदलने में मदद करेगा। रिश्ते में सुधार के लिए यह सलाह मजाक लग सकती है, लेकिन यह बहुत प्रभावी है।

3. पॉजिटिव वर्ड्स यूज करें – अगर आपका अपने साथ अच्छा रिश्ता नहीं है, तो आपके मन में हमेशा नकारात्मक विचार आ सकते हैं। इससे जिस तरह से आप दुनिया और अपने आप को देखते हैं, उस पर असर पड़ेगा। इसलिए यह समय नेगेटिव वर्ड्स जैसे- अगली, बोर, लोनली, अनॉइड को पॉजिटिव वर्ड्स जैसे- यस, हैप्पी, कंटेंट, ग्रेटफुल, थैंक यू और लव में बदलने के प्रयास करें।

4. सकारात्मक सोच रखें – एक बार जब आप अपने बोलने का तरीका बदलना शुरू कर देंगे, तो यकीनन आप जो सोच रखते हैं उसमें में भी बदलाव आने लगेगा। अगर आपके दिमाग में किसी तरह की नकारात्मक सोच आती है, तो आप अपने दिमाग पर जोर डालें और सोचें कि क्या आप सही कर रहे हैं।

5. हेल्दी और हैप्पी रहने का सही कारण जानें – बहुत से लोग इसलिए स्वस्थ रहने की कोशिश करते हैं क्योंकि उन्हें ऐसा लगता है कि स्वस्थ रहना चाहिए। लेकिन स्वस्थ रहने का यह सबसे बुरा कारण है। इसका मतलब है कि आप स्वस्थ होने का मजा नहीं ले रहे हैं। जाहिर है अगर आप स्वस्थ रहने का मजा नहीं लेंगे, तो यह आपको धीरे-धीरे अधिक अस्वस्थ बना देगा। इसलिए हेल्दी रहने का सही कारण खोजें। अपनी पसंद का खेल खेलें, जो हेल्दी चीजें आपको पसंद है वो चीजें खाएं और हेल्दी रहने का अपना एक टारगेट सेट करें।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“कहीँ आपके रिश्ते को जला न दे ईर्ष्या”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।