कृष्ण नगरी के बारे में यह सब आपको जानलेना चाहिए

204

आज श्री कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर हम आपको कृष्ण जन्मभूमि से जुड़े कुछ तथ्य और वहां होने वाली गतिविधियों के बारे में बताएंगे। श्री कृष्ण के जन्म स्थान पर आज रात्रि ब्रिज के हर घर में कृष्ण जन्म लेंगे श्री कृष्ण की जन्माष्टमी जन्मोत्सव को मनाने के लिए सारी तैयारियों को पूर्ण रूप दे दिया गया है।

इस मंदिर को आज रोशनी से सजा दिया गया है और यहां के लोग अपने इष्ट देव के जन्मोत्सव के लिए आतुर है। यहां पर प्रभु के दर्शन के लिए लंबी- लंबी कतारें लगती हैं और जन्मोत्सव से पहले शुरू होने वाले सभी कार्यक्रम 25 अगस्त को सुबह से ही शुरू कर दिए जाएंगे।

इस बार श्री कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर रात्रि 2:00 बजे तक दर्शन की व्यवस्था की गई है। जन्मस्थान सेवा संस्थान के मुख्य सचिव कपिल शर्मा में जानकारी देते हुए यह बात बताई की रात्रि करीब 1:30 बजे तक दर्शन खुले रहते थे लेकिन उसे अब 2:00 बजे तक किया गया है।

आप यह जानकर हैरान हो जायेंगे कि इस बार कृष्ण जन्मोत्सव के लिए 11000 किलोग्राम से अधिक का प्रसाद तैयार किया जा रहा है। जन्मोत्सव के दौरान श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की परेशानी ना हो इसके लिए तत्काल चिकित्सा सुविधा मुहैया कराई जाएगी।

भगवान के लिए हर घर में बनाया जाएगा पांच मेवे का प्रसाद – कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर हर घर में पांच मेवे का प्रशाद चढ़ाया जायेगा। आप यह जान के हैरान हो जायेंगे की आज के दिन यहाँ के हर घर में खीरे से कृष्ण भगवन की परिकाष्ठा की जाती है जिस कारण आज यहाँ खीरे के भाव आसमान छू रहे है।

आज यहाँ क्या कुछ होगा उसका ब्यौरा –

(श्री केशवदेव मंदिर, श्रीराधाकृष्ण मंदिर भागवत भवन)

सुबह 5:30 बजे – मंगला आरती
सुबह 6:30 बजे – ठाकुरजी का पंचामृत अभिषेक
सुबह 8:30 बजे – ठाकुरजी को बाल भोग अर्पण
सुबह 9:00 बजे – लीलामंच पर महंत नृत्यगोपाल दास और कार्ष्णि गुरु शरणानंद द्वारा पुष्पांजलि
सुबह 11:40 बजे – राजभोग आरती
शाम 4:00 बजे – लीलामंच पर भजन संध्या
शाम 5:00 बजे – फल भोग
शाम 6:30 बजे – श्री केशवदेव और श्रीराधाकृष्ण को पोशाक धारण कराई जाएगी
शाम 7:40 बजे – आरती
रात्रि 8:00 बजे – श्री केशवदेव और श्रीराधा-कृष्ण को भोग अर्पण
रात्रि 11:00 बजे – श्रीगणेश, नवग्रह आदि पूजन के साथ
रात्रि 11:58 बजे – 1008 कमल पुष्पों से ठाकुरजी का सहस्त्रार्चन
मध्यरात्रि 12 बजे – भगवान श्रीकृष्ण के प्राकट्य के दिव्य दर्शन, कमल पुष्प में विराजमान होंगे प्रभु
रात्रि 12.10 बजे – कमल पुष्प में विराजमान चल विग्रह महाभिषेक चौकी पर होंगे विराजमान
रात्रि 12:40 बजे – भगवान की शृंगार आरती, इसके बाद पीतांबर धारण कर पुष्पाम्बुज में विराजमान होंगे ठाकुरजी, भागवत भवन में ही
‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ का संकल्प दोबारा दिलाया जाएगा
रात्रि 2:00 बजे तक श्रीकेशवदेव मंदिर, गर्भगृह और भागवत भवन में श्रीराधा-कृष्ण के दर्शन होंगे।

News Source

शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment