आंखें कमजोर क्यों हो जाती है?

नवम्बर 2, 2017

दुनिया की खूबसूरती को देखने के लिए आपकी आँखों का स्वस्थ बने रहना बेहद ज़रूरी होता है लेकिन अपनी दिनचर्या में आप ऐसी कई आदतें विकसित कर लेते हैं जो आँखों की रोशनी पर बुरा प्रभाव डालती हैं और लम्बे समय तक रहने वाली इन आदतों के चलते आंखें कमजोर होने लगती हैं। ऐसे में अगर आप आंखें कमजोर करने वाले कारणों और आदतों के बारे में जान लें तो इन्हें दूर करके अपनी आंखें कमजोर होने से बचाया जा सकता है। तो चलिए, आज बात करते हैं आंखें कमजोर होने के कारणों के बारे में।

लेटकर टीवी देखने की आदत – दिनभर टीवी देखने की आदत आपके स्वास्थ्य पर बुरा असर डालती है और अगर टीवी लेटकर देखा जाए तो आपकी आँखों को ज़्यादा नुकसान पहुँचता है क्योंकि टीवी से निकलने वाली हानिकारक किरणें आँखों की रोशनी को कम करने लगती है इसलिए लेटकर टीवी देखने की आदत को समय रहते बदल लीजिये।

ज़्यादा समय धूप में रहना – सूरज की हानिकारक किरणें कॉर्निया को जला सकती हैं जिससे आँखों की रोशनी भी जा सकती है इसलिए सूरज की किरणों के सीधे संपर्क में रहने से बचिए और तेज़ धूप में सनग्लासेस लगाकर निकलिये।

मोबाइल का ज़्यादा समय तक इस्तेमाल करना – दिन के अधिकांश समय मोबाइल में व्यस्त रहना आज एक आम बात हो गयी है लेकिन इसके कारण सिर दर्द और आँखों में दर्द जैसी समस्याएं भी बढ़ी हैं क्योंकि लगातार मोबाइल के इस्तेमाल से उसकी स्क्रीन से निकलने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक किरणें आँखों के रेटिना और कॉर्निया पर हानिकारक प्रभाव डालती है।

कम रोशनी में पढ़ना – कम रोशनी में पढ़ते रहने से आँखों की पुतलियां फ़ैल जाती हैं और इससे आँखों के फोकस में दूर और पास की चीज़ों के बीच फर्क कम हो जाता है इसलिए पढ़ते समय रोशनी का विशेष ध्यान रखिये।

कंप्यूटर से सीधे संपर्क में रहना – कंप्यूटर पर काम करने के दौरान कंप्यूटर और आँखों के बीच दूरी कम रहती है जिसके कारण कंप्यूटर से निकलने वाली नीली रोशनी आँखों को कमज़ोर कर देती है और आँखों की नमी कम हो जाने से ड्राई आई सिंड्रोम भी हो जाता है। इसके अलावा कंप्यूटर पर काम करते समय आँखों को कम झपकाना भी आँखों में दर्द, खुजली पैदा करता है और आँखों की कमज़ोरी का कारण बनता है।

धूम्रपान करना – धूम्रपान शरीर के जिन अंगों को क्षति पहुंचाता है उनमें से आँखे भी एक अंग है। ज़्यादा धूम्रपान करने से आँखों में लाल धब्बे होने लगते हैं और आँखों की रोशनी कम होने के साथ आँखों से जुड़े कई रोग भी हो जाते हैं।

एलकोहल का सेवन ज़्यादा करना – ज़्यादा मात्रा में एलकोहल का सेवन करने से लीवर के साथ-साथ आँखें भी ख़राब हो जाती है। आँखों की रोशनी कम होने के अलावा आँखों में लालिमा रहने लगती है और रंगों के प्रति संवेदनशीलता रहने लगती है।

आप ये तो जानते हैं कि आँखें शरीर का एक नाजुक अंग है जिसका ख़ास ख्याल रखने की ज़रूरत होती है लेकिन बदली लाइफस्टाइल में हमने जाने-अनजाने ऐसी कई आदतों को अपना लिया है जो हमारी आँखों पर बहुत ही बुरा असर डाल रही हैं। लेकिन अब आप जान चुके हैं कि इन आदतों में थोड़ा बदलाव करके और अपनी आँखों का ज़्यादा ख्याल रखकर आप आंखें कमजोर होने से बचा सकते हैं और अपनी रोशन आँखों से दुनिया की खूबसूरती को बड़ी ही आसानी से देख सकते हैं।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“आँखों के बारे में कुछ बेहद रोचक तथ्य”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें