अंतरिक्ष में जाने वाली प्रथम महिला

महिलाओं की ऊँची उड़ान से अंतरिक्ष भी अछूता नहीं रह पाया है और अंतरिक्ष में भी महिलाओं ने अपनी सामर्थ्य का परचम लहराया है। अंतरिक्ष में सबसे पहले कदम रखने वाले व्यक्ति यूरी गागरिन थे वहीं अंतरिक्ष में जाने वाली प्रथम महिला थी वेलनटिना तेरेश्कोवा। ऐसे में आप भी वेलनटिना की इस सफल उड़ान के बारे में जानना चाहते होंगे। तो चलिए, आज जानते हैं अंतरिक्ष में जाने वाली प्रथम महिला के बारे में।

Visit Jagruk YouTube Channel

रशिया की वेलनटिना तेरेश्कोवा ने अंतरिक्ष की पहली यात्रा में 3 दिन में पृथ्वी के 48 ऑर्बिट पूरे किये। अंतरिक्ष यात्री कोर में शामिल होने के लिए वेलनटिना को पहले सोवियत वायु सेना में शामिल किया गया और उसके बाद अंतरिक्ष में उड़ान भरने वाली पहली महिला के तौर पर उन्हें चुना गया।

उसके बाद वेलनटिना ने ट्रेनिंग के दौरान सभी तरह के शारीरिक और मानसिक दबाव को पीछे छोड़ दिया और एक सफल उड़ान भरकर दुनियाभर की महिलाओं को प्रेरित किया। 1963 में वोस्ताक 6 में बैठकर वेलनटिना अंतरिक्ष पहुंची और उन्होंने स्पेस में 3 दिन बिताये।

वेलनटिना को पायलट के तौर पर कोई अनुभव प्राप्त नहीं था लेकिन वो यूरी गागरिन से इतनी प्रेरित और प्रभावित हुई थी कि उन्हें भी अंतरिक्ष का सफर तय करना था और उन्हें इस स्पेस प्रोग्राम का हिस्सा भी बना लिया गया क्योंकि उन्होंने 126 पैराशूट जम्प किये थे। उनकी इस स्किल ने उन्हें प्रोग्राम का हिस्सा बना दिया और आगे उनकी मेहनत और जज़्बा उन्हें अंतरिक्ष की सैर पर ले गया।

वेलनटिना के इस सफल अभियान के बाद उन्हें बहुत से सम्मानों से नवाज़ा गया। उन्हें आर्डर ऑफ लेनिन, आर्डर ऑफ द नील जैसे अवार्ड्स मिले और दुनियाभर में ख्याति हासिल करने वाली इस साहसी अंतरिक्ष यात्री ने अपना नाम इतिहास में दर्ज करवा लिया।

दोस्तों, अगर जज़्बा और प्रेरणा हो तो कोई भी मुकाम हासिल करना नामुमकिन नहीं है। उम्मीद है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपको प्रेरित भी कर पायी होगी।

“आँख का वजन कितना होता है?”