अंतरिक्ष पर्यटन क्या है?

घूमने-फिरने के शौकीन लोग हर बार किसी नयी और रोमांचक जगह का आनंद लेना पसंद करते हैं। भले ही कुछ समय पहले तक उनकी ये सैर धरती तक ही सीमित थी लेकिन आपको ये जानकर हैरानी और रोमांच होगा कि अब इस सैर का दायरा ज़मीन से आसमान तक हो गया है यानी अब अंतरिक्ष की सैर करना भी संभव है और इसके लिए कई देशों के वैज्ञानिक और स्पेस एजेंसियां लगातार प्रयासरत हैं ताकि अंतरिक्ष पर्यटन को शुरू किया जा सके। ऐसे में लगता है कि बहुत जल्द ये संभव हो सकेगा कि आप भी अंतरिक्ष की सैर करने जा सकेंगे।

ऐसे में क्यों ना आज, ये जाने कि अंतरिक्ष पर्यटन क्या है और ये किस प्रक्रिया से होकर गुजरता है ताकि हमारा उत्साह और बढ़ सके और हम खुद को भी उन लोगों में शामिल करने का सोच सके जो इस हैरतअंगेज यात्रा का हिस्सा बनने को उत्सुक हैं। तो चलिए, आज करीब से देखते हैं अंतरिक्ष पर्यटन को-

साल 2001 में हुयी थी अंतरिक्ष पर्यटन की शुरुआत – अंतरिक्ष में सैर पर जाने वाले पहले पर्यटक अमेरिका के व्यवसायी डेनिस टीटो थे जिनका टिकट 2 करोड़ डॉलर का था। उन्हें अमेरिका की कंपनी स्पेस एडवेंचर लिमिटेड ने रुसी अंतरिक्ष एजेंसी के सहयोग से स्पेस में भेजा था।

यात्रा के लिए आवेदन – अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने साल 2016 में, अंतरिक्ष यात्रा के इच्छुक लोगों से मंगल ग्रह पर जाने के लिए आवेदन मांगे थे। ये जानकर आपको भी ऐसा ही लग रहा होगा कि किसी सामान्य यात्रा के लिए आवेदन मांगे गए हों। इससे ये स्पष्ट होता है कि विज्ञान ने कितनी तरक्की कर ली है कि बहुत जल्द अंतरिक्ष में जाकर ग्रहों को करीब से देख पाना भी संभव हो जाएगा।

अंतरिक्ष को करीब से देखने की हमारी तमन्ना इतनी बड़ी है कि कुल आवेदन 18,300 आये जिनमें से केवल 8 से 14 यात्री चुने जाना तय हुआ है। 2018 में संभावित इस यात्रा के लिए उन्हें पूरा प्रशिक्षण दिया जाएगा जिसमें अंतरिक्ष विमान तंत्र, स्पेस वॉकिंग और टीम वर्क की कड़ी ट्रेनिंग शामिल होगी।

यात्रा के लिए आवश्यक शर्तें – मंगल ग्रह की यात्रा के लिए जाने वाले यात्री की उम्र 26 से 46 वर्ष के बीच होना जरुरी है और यात्री को जेट विमान में कम से कम 1,000 घंटे तक उड़ान प्रशिक्षण का अनुभव होना जरुरी है। इसके अलावा यात्री का ब्लड प्रेशर 140/90, हाइट 62 से 75 इंच के बीच और आईसाइट हर आँख के लिए 20/20 होनी चाहिए।

एयर टैक्सी से सैर – स्पेस में सैर करने के लिए आधुनिक सुविधाओं वाले अंतरिक्ष यान- शटल को विशेष तरीके से डिजाइन किया गया है। ये स्पेस टैक्सी अंतरिक्ष यात्रियों को ‘इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन’ तक लाने और ले जाने का काम भी करेंगी और उन्हें जरुरी सामान भी उपलब्ध कराएंगी।

अंतरिक्ष यात्रा के लुभावने पोस्टर – किसी भी यात्रा को बढ़ावा देने के लिए उसका प्रचार करना जरुरी होता है। ऐसा ही नासा द्वारा भी किया जा रहा है। अंतरिक्ष पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए नासा ने 14 विंटेज यात्रा के आकर्षक पोस्टर जारी किये हैं जिसके स्लोगन और तस्वीरें देखकर हर व्यक्ति अंतरिक्ष की सैर के लिए उतावला हो जाएगा। पहले इसे कैलेंडर के रूप में केवल नासा के कर्मचारियों में ही बांटा गया था लेकिन बहुत जल्द हर व्यक्ति तक इसकी पहुँच हो जाएगी।

दोस्तों, कुछ वक्त पहले तक हम सभी अपने घर की छतों से उस आसमान को देखा करते थे और सोचा करते थे कि ‘वहां आसमान में क्या-क्या होता होगा, काश हम भी उसे देख पाते।’

लेकिन कहते हैं ना, कि अगर सच्ची चाहत हो और पक्का इरादा कर लिया जाए तो कुछ भी हासिल किया जा सकता है। उसी का नतीजा है कि अब हम ज़मीन से आसमान का सफर तो तय करते ही हैं, साथ ही हम उस अंतरिक्ष के अंदर की दुनिया में भी झाँक सकते हैं जिसे अब तक हमने सिर्फ किताबों में और अपनी कल्पनाओं में देखा है इसलिए आप भी अपने इरादे बुलंद रखिये और अपनी चाहतों की ऊँची उड़ान भर लीजिये।

उम्मीद है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपका मन रोमांच से भर गया होगा।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“अंतरिक्ष यात्रा करने के बाद क्या प्रभाव पड़ते हैं शरीर पर”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।