ऐसे शख्स जिन्होंने असफलताओं को चुनौती दी और पाई अपार सफलता

सफल होने के लिए काबिल और आत्मविश्वासी होना जितना ज़रूरी होता है उतना ही जरुरी होता है प्रेरणा लेते रहना। हर व्यक्ति के लिए कोई ना कोई शख्स प्रेरणा का स्रोत होता है जिसका अनुसरण करके आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती रहती है लेकिन ऐसे लोगों से ली गयी प्रेरणा बहुत प्रभावी होती है जिन्होंने सफल होने के लिए बहुत बार असफलता का सामना किया, उससे सीख ली और कई बार असफल होते जाने के बाद भी सफलता के लक्ष्य को नहीं छोड़ा। ऐसे में क्यों ना हम भी ऐसे ही कुछ ख़ास सफल लोगों से प्रेरणा लें जिन्होंने लगातार प्रयास करके सफलता हासिल की है। तो चलिए, आज बात करते हैं ऐसी ही कुछ चुनिंदा शख्सियतों के बारे में –

थॉमस एडिसन – अपने स्कूल में एक कमज़ोर स्टूडेंट समझे जाते थे थॉमस एडिसन। उनके टीचर उनसे कहा करते थे कि ‘तुम जीवन में कभी भी कुछ भी नहीं सीख सकते क्योंकि तुम बेवकूफ हो।’ लेकिन इस कमजोर और नासमझ समझे जाने वाले बच्चे ने आगे चलकर सबसे ज़्यादा चीज़ों का आविष्कार करने का रिकॉर्ड अपने नाम किया।

ओपरा विनफ्रे – गरीबी में अपना बचपन बिताने और लैंगिक उत्पीड़न को सहने वाली ओपरा विनफ्रे ने इतने कठिन सफर के बाद ऐसी सफलता हासिल की जिसे देखकर पूरी दुनिया चौंक गयी। अपने टेलीविज़न टॉक शो के लिए मशहूर हुयी ओपरा विनफ्रे आज एक सफलतम सेलिब्रिटी के रूप में पहचानी जाती हैं।

आर.एच. मैसी – आर.एच. मैसी की कंपनी के पास आज दुनिया का सबसे बड़ा डिपार्टमेंट स्टोर चेन है लेकिन यहाँ तक पहुंचना आसान नहीं था। अपने करियर के शुरुआती दौर में रिटेल कंपनी के क्षेत्र में मैसी को काफी असफलता झेलनी पड़ी थी।

सोयचिरो होंडा – जब सोयचिरो होंडा को जापानी बिजनेस कम्यूनिटी से बाहर निकाल दिया गया था तब शायद वो स्वयं भी अपनी आगामी सफलता का अनुमान नहीं लगा पाये होंगे क्योंकि इन विपरीत हालातों के बाद होंडा ने जापानी ऑटोमोटिव के क्षेत्र में क्रांति ला दी थी।

न्यूटन – न्यूटन अपने स्कूल में एक होनहार विद्यार्थी नहीं थे इसलिए उनकी माँ ने उन्हें स्कूल भेजना बंद कर दिया था लेकिन स्कूल में एक कमज़ोर स्टूडेंट रहने वाले न्यूटन ने आगे चलकर विज्ञान के क्षेत्र में क्रांति ला दी।

successful-men1 ऐसे शख्स जिन्होंने असफलताओं को चुनौती दी और पाई अपार सफलता

सिडनी पोइटियर – हॉलीवुड के सुपरस्टार सिडनी पोइटियर को अपनी पहली फिल्म के ऑडिशन के दौरान काफी मुश्किल उठानी पड़ी। डायलॉग सही से नहीं बोल पाने पर फिल्म के डायरेक्टर ने उन्हें काफी डांटा और ये कहा कि एक्टिंग करना तुम्हारे बस की बात नहीं हैं।

आइंस्टीन – बचपन में अपनी बात सही से नहीं कह पाने और लोगों को अपनी बातें समझाने में मुश्किल महसूस करने वाले आइंस्टीन ने अपनी थ्योरी से भौतिक विज्ञान को एक नयी दिशा दे दी।

स्टीफन किंग – स्टीफन किंग ‘कैरी’ नॉवेल लिखने के दौरान काफी मुश्किल दौर से गुज़रे। इस दौरान उन्होंने लिखे गए सारे ड्राफ्ट फाड़ डाले लेकिन इसके बाद उन्होंने नॉवेल की दुनिया में कितनी सफलता अर्जित की है, इसका अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि उनके इस नॉवेल की लगभग 350 मिलियन प्रतियां अब तक बिक चुकी हैं।

हेनरी फोर्ड – फोर्ड मोटर ने भले ही आज दुनिया में अपनी ख़ास पहचान बना ली है लेकिन इसे शुरू करने वाले हेनरी फोर्ड की ये राह आसान नहीं रही। उन्हें भी अपने शुरुआती दौर में ऑटोमोबाइल के बिजनेस में असफलता ही हाथ लगी थी।

सर जेम्स डायसन – किसी भी नए प्रयास को सफल बनाने के लिए अक्सर लम्बा सफर तय करना पड़ता है। ऐसा ही हुआ वैक्यूम क्लीनर को विकसित करने वाले सर जेम्स डायसन के साथ। शुरुआत में उन्हें भारी नुकसान उठाना पड़ा लेकिन बाद में उन्हें अपने इस बिजनेस में सफलता मिल ही गयी।

वॉन गाग – चित्रकला के क्षेत्र में वॉन गाग का नाम आज पूरी दुनिया में सम्मान और आदर से लिया जाता है लेकिन अपनी ख्याति का ये दौर वॉन गाग अपनी आँखों से नहीं देख सके। वो ऐसे चित्रकार रहे जो अपने पूरे जीवन में केवल एक चित्र ही बेच पाए और वो भी अपनी मृत्यु से कुछ महीने पहले ही।

वॉल्ट डिज्नी – वॉल्ट डिज्नी ने मनोरंजन के क्षेत्र में अपना अद्वितीय योगदान दिया है लेकिन उनके न्यूज़ एडिटर का कहना था कि – तुम्हारे पास न तो कल्पना करने की क्षमता है और न ही कोई अच्छा आइडिया। लेकिन ऐसा सुनने के बाद भी डिज्नी का मनोबल कमजोर नहीं पड़ा और ये उनकी मेहनत का ही कमाल था कि ‘स्नो व्हाइट’ फिल्म ने प्रीमियर से पहले ही कई बड़े बिजनेसमैन को पीछे छोड़ दिया।

हारलैंड डेविड सैंडर्स – आज केएफसी एक जाना-माना नाम है लेकिन एक दौर ऐसा भी था जब हारलैंड डेविड सैंडर्स को अपने इस नॉन-वेज फूड के लिए खरीददार नहीं मिल रहे थे। काफी मेहनत के बाद सैंडर्स केएफसी का इतना बड़ा बिजनेस खड़ा कर पाए।

फ्रेड एस्टेयर – हॉलीवुड के लीजेंड फ्रेड एस्टेयर को अपने पहले स्क्रीन टेस्ट के दौरान काफी अपमान सहना पड़ा था। उनसे कहा गया कि तुम न गा सकते हो और न ही अभिनय कर सकते हो।

जे.के. राउलिंग – अपनी ज़िन्दगी में ख़राब दौर देखने के बाद जे.के. राउलिंग ने हैरी पॉटर किताब लिखी जिसने उन्हें अरबपति बना दिया और वो एक खास शख्सियत के तौर पर पहचानी जाने लगी।

चार्ल्स डार्विन – चार्ल्स डार्विन पढ़ाई में औसत दर्जे के विद्यार्थी समझे जाते थे और उन्होंने मेडिसिन के क्षेत्र का करियर भी छोड़ दिया और पादरी बनने के लिए स्कूल जाने लगे। लेकिन उनकी थ्योरी ऑन द ओरिजिन ऑफ द स्पीसीज ने प्राकृतिक रहस्यों पर प्रकाश डाला और उनके नाम को एक विशेष पहचान मिल गयी।

अब आप जान चुके हैं कि भले ही सबके जीवन की कहानी अलग-अलग हो, लेकिन सफल होने का जज़्बा सभी का एक जैसा होता है। जिसे सफल होना होता है उसका ध्यान रास्ते की मुश्किलों के बजाए मंज़िल पर होता है लेकिन जो रास्ते की मुश्किलों में उलझकर रह जाते हैं वो कभी सफल नहीं हो पाते। ऐसे में आप कैसे लोगों से प्रेरणा लेना चाहेंगे – सफलता का प्रयास करके, असफल होने पर हार मान लेने वालों से या हर हाल में सफल होने की जिद रखने वालों से- ये चुनाव आपका है।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

“दुनिया के 10 सबसे ज्यादा शिक्षित देश”