असली और नकली दोस्तों के बीच होते हैं यह 10 बड़े अंतर

730

किसी ने सच ही कहा है ‘सच्चे और अच्छे दोस्त बड़ी मुश्किल से मिलते हैं’। दोस्ती एक ऐसा रिश्ता होता है, जो पारिवारिक रिश्तों से कहीं बढ़कर होता है। यह आपकी चॉइस होती है। जीवन में बहुत लोगों से दोस्ती होती है। लेकिन इतने दोस्तों में से यह पता लगाना मुश्किल हो जाता है कि आपका असली दोस्त कौन है और कौन नकली है। वास्तव में सच्चे दोस्त वो होते हैं, जो आपके लिए कुछ भी करने को तैयार रहते हैं। वो हर स्थिति में आपके साथ होते हैं। हम आपको कुछ ऐसी बातें बता रहे हैं जिनसे आप अपने असली और नकली दोस्तों की आसानी से पहचान कर सकते हैं।

1. आपके हर प्रयास में आपका सपोर्ट करे – एक सच्चा दोस्त वो होता है, जो आप जो भी करना चाह रहे हैं, उसके लिए आपको प्रोत्साहित करता है। चाहे आप कुछ भी कर रहे हों वो हर कदम पर आपका साथ देता है।

2. आपके बेवकूफी वाले व्यक्तित्व से प्यार करे – हर इंसान नियमित रूप से कुछ बेवकूफी भरी हरकतें करता है। लेकिन एक सच्चे दोस्त को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है बल्कि वो इन चीजों से प्यार करता है। वास्तव में अगर वे आपके सच्चे दोस्त हैं, तो इन हरकतों में आपका साथ देते हैं।

3. आपकी हर हरकतों को माफ कर दे – कभी-कभी आपकी कुछ गलत हरकत से स्थिति बिगड़ सकती है। ऐसे में नकली दोस्तों के साथ आपको उसकी कीमत चुकानी पड़ सकती है। जबकि असली दोस्त आपको माफ कर देते हैं, क्योंकि वो आपकी दोस्ती को महत्व देते हैं।

4. हमेशा आपका साथ देता है – इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता है कि दूसरी तरफ कौन है, क्या मामला है या चाहे आप गलत ही क्यों ना हों। सच्चा दोस्त हमेशा आपका साथ देने के लिए आपके पीछे होता है। वो हमेशा आपकी ओर से होता है।

5. आपको अपनी रुचियां तलाशने दे – समय के साथ-साथ आपकी दिलचस्पी किसी दूसरी चीज में हो सकती है, ऐसे में आपकी दोस्तों में रूचि कम हो सकती है। इस स्थिति में नकली दोस्त आपका मजाक उड़ा सकते हैं। लेकिन सच्चे दोस्त आपको अपना काम करने देते हैं और आपको इस नए काम के लिए सपोर्ट करते हैं।

6. आपकी सभी गलत आदतों को जानते हैं – सभी लोगों में कुछ न कुछ बुरी आदतें होती हैं। उदाहरण के लिए सुबह के समय गुस्सा करना, नशे में इश्कबाज बन जाना आदि। लेकिन सच्चा दोस्त ही आपकी इन हरकतों को जानता है। तथ्य यह है कि अगर आपका दोस्त आपके बारे में इन छोटी-छोटी हरकतों को जानता है, तो यह अच्छा संकेत है।

7. वे आपके कॉन्टेक्ट में रहते हैं – नकली दोस्त आपसे तभी कॉन्टेक्ट करते हैं, जब उन्हें कुछ चाहिए होता है या कुछ गॉसिप करनी होती है। लेकिन सच्चे दोस्त आपसे कभी भी कॉन्टेक्ट कर सकते हैं क्योंकि वो जानना चाहते हैं कि आपकी लाइफ में क्या हो रहा है, क्योंकि वो इसमें दिलचस्पी रखते हैं।

8. वो आपके सीक्रेट्स छुपाकर रखते हैं – अगर आप इस बात को लेकर किसी पर भरोसा कर सकते हैं कि कोई आपके सीक्रेट्स किसी को नहीं बताएगा, तो वो आपका सच्चा दोस्त हो सकता है। नकली दोस्तों को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है और वो आपके सीक्रेट्स किसी को भी बता सकते हैं।

9. वो आपके लिए समय निकालते हैं – आजकल हर कोई इतना बिजी है कि किसी को किसी से मिलने का समय नहीं है। लेकिन एक सच्चा दोस्त आपके लिए अपने बिजी शेड्यूल में से समय निकाल ही लेता है।

10. उदासी के पलों में रोने के लिए अपने कंधे का सहारा देता है – असली और नकली दोस्तों के बीच एक बड़ा अंतर यह है कि वे आपके उतार-चढ़ाव के साथ कैसे निपटते हैं। यदि आप उदासी महसूस कर रहे हैं, तो एक नकली दोस्त आपका साथ नहीं देगा और विषय को बदलने का प्रयास करेगा। लेकिन असली दोस्त आप को अपनी बाहों में लपेट लेगा और सारी रात आप को सुनेगा। चाहे आप खुश हों या उदास हों।

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

“ऐसे दोस्तों से हमेशा दूर ही रहें”

Add a comment