अस्थमा क्या है?

अस्थमा के बारे में कुछ जानकारी आपके पास भी जरुर होगी कि अस्थमा सांस से सम्बंधित रोग है जिसमें सांस लेने में बहुत तकलीफ होती है लेकिन इस बीमारी के बारे में ज्यादा जानकारी लेना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है इसलिए क्यों ना आज, इसी के बारे में बात की जाये। तो चलिए, आज बात करते हैं अस्थमा के बारे में और अस्थमा क्या है ये जानते हैं–

अस्थमा में श्वास नलियों में सूजन आ जाती है जिसके कारण श्वसन मार्ग सिकुड़ जाता है और साँस लेना मुश्किल हो जाता है। अस्थमा दो प्रकार का होता है – बाहरी और आंतरिक अस्थमा। बाहरी अस्थमा पराग और धूल जैसी एलर्जिक चीज़ों के कारण होता है जबकि आंतरिक अस्थमा केमिकल एजेंट्स जैसे सिगरेट के धुएं को सांस के साथ अंदर खिंचने से होता है।

अस्थमा के लक्षण-

  • सांस फूलना
  • सीने में जकड़न महसूस होना
  • बलगम या बिना बलगम के सूखी खांसी का होना
  • सांस लेते समय या बोलते समय घरघराहट की आवाज आना
  • ठंडी हवा में साँस लेने में ज्यादा तकलीफ महसूस होना

अस्थमा के कारण-

  • वायु प्रदूषण
  • सामान्य सर्दी, फ्लू, ब्रोंकाइटिस और साइनस इन्फेक्शन
  • अंडे, गाय का दूध, सोया, मूंगफली, गेहूं और मछली से होने वाली एलर्जी
  • धूम्रपान
  • शराब का सेवन
  • चिंता और डर से उत्पन्न होने वाला तनाव
  • क्षमता से अधिक शारीरिक श्रम करना
  • बहुत गर्म और बहुत ठंडे मौसम में सांस लेने में तकलीफ होना
  • परिवार में पहले से किसी को अस्थमा की समस्या होना

अस्थमा से बचाव के उपाय-

  • हरी पत्तेदार सब्जियां और एंटीऑक्सिडेंट्स युक्त फल और सब्जियों का सेवन करना
  • श्वसन अंग को मजबूत बनाने वाले आसन और प्राणायाम करना
  • धूल-मिट्टी, एलर्जी और प्रदूषण भरे वातावरण से दूरी बनाना
  • गर्म पानी का सेवन करना।

दोस्तों, अब आप जान चुके हैं कि अस्थमा क्या है, अस्थमा जैसे सांस सम्बन्धी रोग के क्या कारण होते हैं और इसके लक्षण और बचाव के उपायों से भी आप परिचित हो चुके हैं। उम्मीद है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमन्द भी साबित होगी।

“एंटीबायोटिक क्या होती हैं?”

जागरूक यूट्यूब चैनल पर हिन्दी वीडियो देखें