बाबा रामदेव की सफलता का राज

देश और दुनिया को योग शिक्षा देने वाले बाबा रामदेव किसी परिचय के मोहताज नहीं है। रामकृष्ण यादव भारत के योग गुरु हैं जिन्हें हम बाबा रामदेव के नाम से जानते हैं। इनके प्रयासों के दम पर ही भारत में योग की अलख फिर से जगी और ना केवल भारत, बल्कि दुनिया के कई कोनों में योग के प्रति जागरुकता लाने वाले बाबा रामदेव ने, आयुर्वेद का ज्ञान भी दुनिया तक पहुँचाया और इनकी बदौलत आयुर्वेद और योग जैसी प्राचीन धरोहरें वर्तमान जीवनशैली का अंग बन गयी हैं।

बाबा रामदेव ना केवल योग गुरु हैं बल्कि उन्होंने साल 2006 में स्वदेशी उत्पादों की कंपनी ‘पतंजलि आयुर्वेद’ की स्थापना भी की है, जिसने मार्केट में उतरने के बाद, बहुत ही कम समय में अपनी पहचान बना ली है लेकिन पतंजलि की ये सफलता रातों-रात मिलने वाली सफलता नहीं है, बल्कि तीन दशकों के रिसर्च वर्क के बाद पतंजलि ने सफलता का ये मुकाम हासिल किया है। शुरुआत में इस कंपनी का लक्ष्य आयुर्वेदिक दवाएं बनाना था लेकिन देखते ही देखते इस कंपनी ने घरेलु सामानों का निर्माण भी शुरू कर दिया और इसमें भी इस कम्पनी को भारी सफलता मिली।

बाबा रामदेव की इस स्वदेशी कंपनी ‘पतंजलि आयुर्वेद’ की सफलता के पीछे बाबा रामदेव के अनगिनत और अथक प्रयास थे, जिन्होंने देशी-विदेशी कंपनियों को बहुत ही कम समय में पीछे छोड़ दिया और मार्केट में सबसे ज्यादा विश्वसनीय ब्रांड के तौर पर अपनी साख बना ली। ऐसे में बाबा रामदेव की इस सफलता का राज जानना आपके लिए भी काफी फायदेमन्द साबित हो सकता है। तो चलिए, आज जानते हैं बाबा रामदेव की सफलता का राज –

बिजनेस की बारीक समझ – किसी भी बिजनेस को स्थापित करने के लिए उसके बारे में बारीक से बारीक जानकारी और समझ होना ज़रूरी होता है, तभी बिजनेस को मजबूती के साथ स्थापित किया जा सकता है। बाबा रामदेव को योग और आयुर्वेद की इतनी अच्छी समझ है कि उन्होंने लोगों की जरुरत के अनुसार प्राकृतिक रूप से ऐसे प्रोडक्ट्स बनाये, जो पहले से मार्केट में नहीं थे और ग्राहकों को इनकी सख्त जरुरत थी। बिजनेस की ऐसी समझ ने ही पतंजलि को इतने ऊँचे मुकाम पर पहुंचा दिया है।

मार्केट पर पैनी नज़र – बिजनेस में सफल होने के लिए सिर्फ अपने प्रोडक्ट्स पर ही ज़ोर नहीं दिया जाना चाहिए बल्कि इसके साथ-साथ मार्केट की डिमांड का भी पता होना चाहिए। ऐसा ही बाबा रामदेव ने किया। जब कुछ प्रोडक्ट्स के सैम्पल्स फेल हो गए तो पतंजलि ने तुरंत अपने प्रोडक्ट्स मार्केट में लांच कर दिए, जिन्हें ग्राहकों ने भी हाथों-हाथ लिया और खूब सराहा भी।

ग्राहकों की जरुरत की समझ – स्वदेशी वस्तुओं का इस्तेमाल करने की जो चाह अधिकांश भारतीयों के मन में रहा करती थी, उसे भांपकर उस इच्छा को पूरा करने की समझ बाबा रामदेव में थी। जिसके चलते उन्होंने स्वदेशी और शुद्ध, प्राकृतिक रूप से निर्मित ‘मेड इन इंडिया’ प्रोडक्ट्स मार्केट में उतारे, जिसे भारतीय जनता ने खुले दिल से अपनाया।

वाजिब दाम – आज महंगे प्रोडक्ट्स की तो मार्केट में भरमार है लेकिन फिर भी निश्चित तौर पर ये नहीं कहा जा सकता कि ये महंगा सामान अच्छा, सुरक्षित और नेचुरल है। ऐसे में पतंजलि के प्रोडक्ट्स ना केवल नेचुरल तरीके से बनाये गए हैं बल्कि उनके दाम भी इतने वाजिब हैं कि इन दामों पर जब बेहतरीन प्रोडक्ट्स ग्राहकों को मिले तो उन्होंने दूसरी कंपनियों के महंगे और आर्टिफिशियल प्रोडक्ट्स की बजाये पतंजलि के सेफ एंड नेचुरल प्रोडक्ट्स को चुनना ही फायदेमंद समझा।

प्रमोशन का तरीका – वैसे तो हर बड़ी कंपनी अपने प्रोडक्ट्स का प्रमोशन करने के लिए किसी नामी व्यक्ति को अपना ब्रांड एम्बेसडर बनाती है लेकिन बाबा रामदेव ने ऐसा नहीं किया। उन्होंने अपने प्रोडक्ट्स का प्रचार तो किया, लेकिन किसी नामी व्यक्ति को अपने प्रोडक्ट्स से नहीं जोड़ा । उन्होंने विज्ञापनों में पतंजलि की क्वालिटीज़ पर ज़ोर दिया और इसका नतीजा ये हुआ कि आज हर घर में पतंजलि अपनी खास जगह बना चुका है। आज मीडिया को विज्ञापन देने वाली पहली फास्ट मूविंग कंज्यूमर कंपनी (FMCG) पतंजलि है।

बिजनेस का उद्देश्य – बाबा रामदेव के अनुसार पतंजलि का उद्देश्य समाज की सेवा करना है, ना ही बाकी सभी बिजनेस की तरह मुनाफा कमाना। ऐसे में नेक इरादों के साथ, समाज की सेवा करने का उद्देश्य लेकर चलने वाले पतंजलि आयुर्वेद को सफल तो होना ही था।

तो दोस्तों, अब आप जान चुके हैं कि कोई भी बिजनेस शुरू करने से पहले उससे जुड़ा रिसर्च करना ज़रूरी है और उस बिजनेस की बारीक समझ और मार्केट की डिमांड का अंदाज़ा लगा पाना भी बेहद ज़रूरी होता है। इसके अलावा इस बिजनेस को अगर जनहित से जोड़ कर शुरू किया जाए तो क्या कहने ! और हर बेहतर काम की शुरुआत के लिए नीयत और इरादे नेक होना कितना ज़रूरी होता है, ये तो आप जानते ही हैं।

तो बस, अपना बिजनेस शुरू करने से पहले आप इन सारी बातों का ख्याल रखिये और बाबा रामदेव की तरह, अगर समाज के लिए कुछ कर सकें तो ज़रूर करिये।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“मुकेश अंबानी की सफलता का राज”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

Featured Image Source

अगर आप किसी विषय के विशेषज्ञ हैं और उस विषय पर अच्छे से लिख सकते हैं तो जागरूक पर जरुर शेयर करें। आप अपने लिखे हुए लेख को info@jagruk.in पर भेज सकते हैं। आपके लेख को आपके नाम, विवरण और फोटो के साथ जागरूक पर प्रकाशित किया जाएगा।
शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment