बच्चों को इस उम्र में दें सेक्स की शिक्षा और ऐसे करें शुरुआत

793

बच्चों को सेक्स के बारे में जानकारी देना हर मां-बाप के लिए एक बड़ी चुनौती है। लेकिन यह एक ऐसा विषय है, जिसके बारे में बच्चों को सही समय पर जानकारी देना जरूरी है। इससे बच्चों के व्यवहार और विकास में मदद मिलती है। अगर आप अपने बच्चों से इस विषय पर बात नहीं करना चाह रहे हैं, तो समझ लीजिए कि आप उसे गलत रास्ते पर चलने पर मजबूर कर रहे हैं। बच्चों को इस विषय पर सही समय पर जानकारी नहीं मिलने से उनके दिलों-दिमाग में इसे लेकर गलत धारणा बन सकती है, जिससे उनके जीवन पर गलत प्रभाव पड़ सकता है। अगर आपने बच्चों को सही जानकारी नहीं दी, तो संभव है उन्हें कहीं और से इसकी जानकारी मिल सकती है, जोकि अधूरी हो सकती है या गलत।

आजकल ज़माना तेजी से बदल रहा है। अब लोग सेक्स जैसे संवेदनशील विषय पर चुप-चुपके बात नहीं करते हैं। आजकल आपको हर जगह कुछ कपल हाथों में हाथ या बाहों में बाहें डालकर घूमते मिल जाएंगे। यही वजह है कि अब बच्चे सेक्स जैसे मामले में उम्र से पहले ही दिलचस्पी लेने लगे हैं। समाज चाहे, जितना ओपन माइंड क्यों ना हो जाए, लकिन आपको एक बात ध्यान रखनी चाहिए कि बच्चों को सेक्स से जुड़ी सही जानकारी देना जरूरी है। अन्यथा वो ऐसा कदम उठा सकते हैं, जिसका खामियाजा बच्चों के साथ आपको भी उठाना पड़ सकता है।

छोटे बच्चों को ऐसे दें सेक्स की शिक्षा
सबसे पहली बात कि परिजन को इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि बच्चा इस बारे में कितनी समझ रखता है। इसलिए उससे उतनी ही बात करें, जितना उसे समझ आए। उसे सरल भाषा में बताएं और बहुत गहराई में ना समझाएं। उदाहरण के लिए अगर आपका बच्चा थोड़ा बड़ा है, तो उसे शारीरिक रचना और विभिन्न अंगों के बारे में बताएं।

कैसे करें शुरुआत
पेरेंट्स के सामने यह एक बड़ी चुनौती है कि वो बच्चे से इस विषय पर बात कैसे शुरू करें। वैसे आप रोजाना की घटनाओं को लेकर उनसे बात कर सकते हैं। मसलन अगर बच्चा किसी प्रेगनेंट महिला को देखता है, तो आप उसे बताएं कि यह कैसे मुमकिन है।

सरल और सही जवाब दें
अगर आपका बच्चा सेक्स को लेकर कोई जानकारी चाहता है, तो उसे सरल भाषा में और सही जवाब दें। अगर उसे शक हो गया, तो वो इस बारे में अपने में मन गलत विचार पाल सकता है। उसके सवाल को नजरंदाज करने से बचें बल्कि उसे सही जवाब देकर उसे संतुष्ट करें।

बच्चों को सेक्स शिक्षा देने की सही उम्र
यह एक बड़ा सवाल है जिसे लेकर लगभग सभी पेरेंट्स दुविधा में होते हैं। दुर्भाग्य से स्कूल और कॉलेज में सेक्स शिक्षा नहीं दी जाती है। इसका परिणाम यह होता है कि बच्चों में इसे लेकर कई गलत भ्रांतियां फैल जाती हैं। कई बार इसका परिणाम बच्चों को कई सेक्स समस्याओं के रूप में भुगतना पड़ता है। इसलिए बच्चों को सेक्स शिक्षा देने की शुरुआत पेरेंट्स को ही करनी चाहिए। सवाल यह है कि इसकी सही उम्र क्या है? वास्तव में जब आपका बच्चा फैसले लेने में सक्षम हो जाए, सेक्स के फायदे और नुकसान समझने लगे या वो शारीरिक रूप से तैयार हो जाए, तो उसे इस विषय पर जानकारी देना शुरू कर देना चाहिए।

इन बातों का रखें ख्याल
1) सेक्स एक संवेदनशील है, इसलिए इस विषय पर बच्चों से बात करते समय कुछ ऐसी बात ना कह दें जिससे आपको या बच्चे को शर्मिंदगी हो। बेहतर है आप उसे अकेले में शांत भाव से बात करें।

2) अपने बच्चे को असुरक्षित सेक्स और उसके साइड इफेक्ट्स के बारे में बताएं। ताकि उसके दिमाग में डर बैठ सके और उसे इस तरह की गतिविधि में शामिल होने से बचने में मदद मिल सके।

3) अगर आपको अपने बच्चे से इस विषय पर बात करने में असुविधा महसूस होती है, तो उसे किसी विशेषज्ञ के पास ले जाएं, वो आपकी मदद कर सकते हैं।

“विद्यार्थियों में योग शिक्षा का महत्व”
“एक पेंसिल क्या शिक्षा देती है हमें ?”
“पेरेंट्स कैसे करे अपने बच्चे की पढ़ाई मे मदद”

Add a comment