भारत के प्रधानमंत्री (1947 से 2018)

फरवरी 24, 2018

1947 में भारत आजाद हुआ और तब से लेकर अब तक 15 लोग भारत के प्रधानमंत्री की गद्दी संभाल चुके हैं। इनमे से कुछ को 2 बार देश का प्रधानमंत्री बनने का अवसर मिला तो किसी को चंद दिनों में ही गद्दी छोड़नी पड़ी। आइये आपको भी बताते हैं अब तक भारत के कितने और कौन कौन प्रधानमंत्री पद संभाल चुके हैं और उनका कार्यकाल कितना था।

जवाहर लाल नेहरू (15 अगस्त 1947 – 27 मई 1969) – जवाहर लाल नेहरू को देश आजाद होने के बाद पहले प्रधानमंत्री बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। नेहरू को बच्चों से बेहद लगाव था और इसी लिए इन्हें चाचा नेहरू का दर्जा मिला। जवाहर लाल नेहरू ने 16 साल और 286 दिनों तक देश की बागडोर संभाली और 15 अगस्त 1947 से 27 मई 1969 तक देश के प्रधानमंत्री रहे।

गुलजारीलाल नंदा (27 मई 1964 – 9 जून 1964) – जवाहर लाल नेहरू के बाद देश के दूसरे प्रधानमंत्री के तौर पर गुलजारीलाल नंदा ने कार्यभार संभाला लेकिन ये सिर्फ 13 दिनों के लिए ही इस पद पर रहे। वह भारत के पहले ‘अंतरिम प्रधानमंत्री’ थे।

लाल बहादुर शास्त्री (9 जून 1964 – 11 जनवरी 1966) – गुलजारीलाल नंदा के बाद लाल बहादुर शास्त्री ने भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर कार्यभार संभाला जो 1 साल और 216 दिनों तक देश के प्रधानमंत्री रहे।

इंदिरा गाँधी (24 जनवरी 1966 – 24 मार्च 1977) – लाल बहादुर शास्त्री के बाद जवाहर लाल नेहरू की बेटी इंदिरा गाँधी देश की प्रधानमंत्री बनी जिन्होंने 11 साल और 59 दिनों तक ये पद संभाला। इंदिरा गाँधी भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री थीं।

मोरारजी देसाई (24 मार्च 1977 – 28 जुलाई 1979) – मोरारजी देसाई से पहले जो भी प्रधानमंत्री बने वो कांग्रेस पार्टी के थे लेकिन मोरारजी देसाई भारत के पहले गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री बने जिनका कार्यकाल 2 साल और 126 दिनों का रहा। मोरारजी देसाई 24 मार्च 1977 से 28 जुलाई 1979 तक भारत के प्रधानमंत्री रहे।

चरण सिंह (28 जुलाई 1979 – 14 जनवरी 1980) – मोरारजी देसाई के बाद भारत के प्रधानमंत्री बने चरण सिंह जिन्होंने 170 दिनों तक देश की बागडौर संभाली। चरण सिंह 28 जुलाई 1979 से 14 जनवरी 1980 तक भारत के प्रधानमंत्री रहे।

इंदिरा गाँधी (14 जनवरी 1980 – 31 अक्टूबर 1984) – चरण सिंह के बाद एक बार फिर इंदिरा गाँधी को देश का प्रधानमंत्री पद मिला। इंदिरा गाँधी का ये कार्यकाल 4 साल और 291 दिनों का रहा।

राजीव गाँधी (31 अक्टूबर 1984 – 2 दिसंबर 1989) – इंदिरा गांधी की हत्या के बाद इनके बेटे राजीव गांधी ने देश की बागडौर संभाली और देश के अगले प्रधानमंत्री बने। राजीव गाँधी 5 साल और 32 दिनों तक देश के प्रधानमंत्री रहे।

वी.पी. सिंह (2 दिसंबर 1989 – 10 नवंबर 1990) – जनता दल के पहले नेता विश्वनाथ प्रताप सिंह राजीव गाँधी के बाद देश के प्रधानमंत्री बने। भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर इनका कार्यकाल 343 दिनों तक रहा।

चंद्रशेखर (10 नवंबर 1990 – 21 जून 1991) – वी.पी. सिंह के बाद चंद्रशेखर ने देश की बागडौर संभाली। चंद्रशेखर 223 दिनों के लिए भारत के प्रधानमंत्री रहे।

पी.वी. नरसिम्हा राव (21 जून 1991 – 16 मई 1996) – चंद्रशेखर के बाद पी.वी. नरसिम्हा राव को देश की बागडौर सँभालने का अवसर मिला। पीवी नरसिंहा राव वकील, राजनेता और स्वतंत्रता सेनानी थे। भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर इनका कार्यकाल 4 साल और 330 दिनों का रहा।

अटल बिहारी वाजपेयी (16 मई 1996 – 1 जून 1996) – भारतीय जनता पार्टी के नेता अटल बिहारी वाजपेयी ने नरसिम्हा राव के बाद देश की बागडौर संभाली लेकिन इनका कार्यकाल 16 दिनों का ही रहा।

एच.डी.देवगौड़ा (1 जून 1996 – 21 अप्रैल 1997) – वाजपेयी के बाद एच.डी.देवगौड़ा भारत के प्रधानमंत्री बने। देवगौड़ा 1 जून 1996 से 21 अप्रैल 1997 तक देश के प्रधानमंत्री रहे। प्रधानमंत्री के तौर पर इनका कार्यकाल 324 दिनों का रहा।

आई. के. गुजराल (21 अप्रैल 1997 – 19 मार्च 1998) – एचडी देवेगौड़ा के बाद आई. के. गुजराल देश के अगले प्रधानमंत्री बने। प्रधानमंत्री के पद पर इनका कार्यकाल 332 दिनों का रहा।

अटल बिहारी वाजपेयी (19 मार्च 1998 – 22 मई 2004) – आई.के.गुजराल के बाद एक बार फिर अटल बिहारी वाजपेयी को देश की बागडौर सँभालने का अवसर मिला और इस बार ये 6 साल और 64 दिनों तक देश के प्रधानमंत्री रहे और जनता ने भी इन्हें बहुत पसंद किया।

मनमोहन सिंह (22 मई 2004 – 26 मई 2014) – अटल बिहारी वाजपेयी के बाद डॉ मनमोहन सिंह ने प्रधानमंत्री पद संभाला और 22 मई 2004 से 26 मई 2014 तक देश की बागडौर संभाली। मनमोहन सिंह अब तक के इकलौते ऐसे व्यक्ति है जो लगातार 2 बार देश के प्रधानमंत्री बने।

नरेंद्र मोदी (26 मई 2014 से अब तक) – मनमोहन सिंह के लम्बे कार्यकाल के बाद नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने और अब तक वो ही देश के प्रधानमंत्री पद को संभाले हुए हैं।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“नरेंद्र मोदी की सफलता का राज”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें