जानिए भारत को अंग्रेजी में क्यों कहते हैं इंडिया

1581

भारत देश अपने आप में सबसे ख़ास और अनोखा देश है यहाँ जितनी संस्कृति, संस्कार और भाषाएँ मिलती हैं वो किसी और देश में देखने को नहीं मिलेंगी। भारत को हिन्दुस्तान के नाम से भी जाना जाता है लेकिन इसे अंग्रेजी में इंडिया कहा जाता है। क्या आपने कभी सोचा है भारत को अंग्रेजी में इंडिया क्यों कहा जाता है और ये शब्द किसने तय किया ? तो आइये आज आपको इसकी जानकारी देते हैं की आखिर भारत का अंग्रेजी में नाम इंडिया कैसे पड़ा और इसके क्या मायने हैं।

यूँ तो ना जाने कितने शब्द बोले जाते हैं लेकिन वो आपको डिक्शनरी में देखने को नहीं मिलेंगे लेकिन फिर भी हर शब्द का कोई ना कोई अर्थ जरूर होता है। हर दिन डिक्शनरी में कई शब्द जोड़े और घटाए जाते हैं जिनका अपना एक अलग तर्क और मायना होता है। दरअसल भारत में कई विदेशी व्यापारी अपना कारोबार बढ़ाने भारत आये और सभी ने अपने हिसाब से भारत को अपना अलग नाम दिया लेकिन भारत को हिन्दुस्तान और इंडिया जैसे शब्द मिलने के पीछे मुख्य तौर पर ईरानी और यूनानी का हाथ माना जाता है।

आपको बता दें की पहले भारत का नाम सिंधु भी था। ईरानी या पुरानी फ़ारसी में सिंधु शब्द का अर्थ निकला गया “हिंदू” और इसी शब्द से बना हिन्दुस्तान। जबकि यूनानी में ए को इंडो या इंडोस शब्द का रूप मिला और जब ये ए शब्द लेटिन भाषा में पहुंचा तो वहां से ए को बनाया गया इंडिया। लेकिन फिर भी इस शब्द को अपनाने को लेकर एकमत नहीं हुआ और उसके पीछे कारण था की हम किसी और के बनाये शब्दों से अपने देश का नाम क्यों निर्धारित करें। लेकिन जब भारत में अंग्रेजी शासन आया तो उन्होंने इस शब्द को अपना लिया और इस तरह भारत का अंग्रेजी में नाम पड़ा इंडिया।

अंग्रेजों ने इंडिया शब्द का चलन इतना बढ़ा दिया की भारतवासियों ने भी इस शब्द को अपनाना शुरू कर दिया और खुद को इंडियन और देश को इंडियन कहना शुरू कर दिया। लेकिन इस शब्द को पूर्ण मान्यता तब मिली जब आजादी के बाद हमारे सविंधान ने इंडिया शब्द को देश के दूसरे नाम के तौर पर स्वीकार किया।

“भारतीय रेलवे से जुड़े कुछ दिलचस्प तथ्य”
“ये हैं भारत के टॉप 10 मेडिकल कॉलेज”
“भारत की 10 सबसे बड़ी नदियां”

Add a comment