भारत में प्रचलित सबसे बड़े झूठ जिन्हें आप मान बैठे हैं सच

19019

आज हम आपको भारत में प्रचलित कुछ ऐसे झूठ बताने जा रहे हैं जिन्हें आप कई वर्षों से सच मान बैठे हैं। इतना ही नहीं इसके बारे में इतना लिखा जा चुका है कि यह झूठ भी आप लोगों को सच ही लगता है। तो चलिए इनके बारे में विस्तार पूर्वक जानते हैं।

यह बात हम अक्सर सुनते हैं कि 1960 के रोम ओलंपिक में 400 मीटर की रेस के दौरान मिल्खा सिंह ने पीछे मुड़कर देखा था जिस वजह से वह हार गए लेकिन इसके पीछे कोई सच्चाई नहीं है। वह इस रेस में पांचवे नंबर पर थे और काफी मशक्कत के बाद 4 स्थान हासिल कर सके थे। ऐसा कभी हुआ ही नहीं कि वह पहले स्थान पर थे और पीछे मुड़कर देखने की वजह से वह हार गए।

हम सालों से यह बात सुनते आ रहे हैं कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु विमान दुर्घटना में हुई थी लेकिन असलियत कुछ और है। सन 1999 में आई मुखर्जी रिपोर्ट के मुताबिक नेता जी की मृत्यु 1945 के दौरान हवाई दुर्घटना में नहीं हुई थी और इस बात का कोई भी सबूत नहीं है कि विमान दुर्घटना में ही नेताजी की मृत्यु हुई थी। हालांकि इस बात का भी कोई प्रमाण नहीं है कि नेता जी की मृत्यु कैसे हुई थी।

हमने सदा से ही गांधी जी का एक वाक्य सुना है कि “एक आंख के बदले आंख पूरी दुनिया को अंधा बना देगा” लेकिन यह वाक्य गांधीजी ने कहा ही नहीं है लेकिन आज के समय में ट्विटर के बेताज बादशाह इस वाक्य को ना जाने कितनी बार पोस्ट करते रहते हैं। यह वाक्य गांधीजी पर बनी फिल्म के दौरान बोला गया था यह मात्र एक डायलॉग है जिसे बेन किंग्सले ने बोला था जो कि गांधीजी की भूमिका निभा रहे थे। इस बात का कहीं भी तक प्रमाण नहीं है कि गांधी जी ने इस प्रकार के वाक्य का उल्लेख किया हो।

बिहार के नेता लालू यादव को कौन नहीं जानता लेकिन अभी कुछ ही दिनों पहले उनकी बेटी मीसा भारती मैं एक तस्वीर facebook पर डाली थी जिसमें वह हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में लोगों को संबोधित कर रही थी। ट्विटर और सोशल मीडिया पर यह तस्वीर साझा की गई थी उसके बाद राजनीतिक दलो में इसको लेकर गहमागहमी बढ़ गई। हालांकि हार्वर्ड के प्रवक्ताओं ने इस बात को स्पष्ट कर दिया कि उन्होंने इस प्रकार का लेक्चर कभी भी अपने यूनिवर्सिटी में संबोधित ही नहीं किया।

यह बात हम बचपन से सुनते आ रहे हैं कि भारत का राष्ट्रीय खेल हॉकी है। लेकिन अभी हाल ही में एक आरटीआई के जवाब में खेल मंत्रालय ने यह स्पष्ट कर दिया कि भारत का राष्ट्रीय खेल हॉकी नहीं है। तथ्य बताते हैं कि हॉकी कभी भी भारत का राष्ट्रीय खेल घोषित नहीं किया गया लेकिन ncert की किताबों में यह बात पढ़ाई जा रही है।

यह बात हम सुनते रहते हैं कि वाराणसी विश्व का सबसे प्राचीनतम शहर है लेकिन आपको बता दें कि 1100 इसा पूर्व मात्र 30 से अधिक शहरों को ही बसाया जा चुका था और इसमें वाराणसी नहीं था। अब इतिहासकार ही इस बात पर संज्ञान लेकर स्थिति को स्पष्ट कर सकते हैं।

जब भी बात भारत की होती है तो एक शब्द हमेशा इसके साथ जोड़ा जाता है वह है धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र लेकिन भारत शुरू से ही धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र नहीं था संविधान को 1976 में संशोधित किया गया था और दूसरे सेक्शन में धर्मनिरपेक्ष राज्य राष्ट्र शब्दों को लाया गया था।

अगर आप यह बात सोच रहे हैं कि हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है ऐसा नहीं है। हमारे देश में 20 से अधिक अधिकारी भाषाएं हैं जिसमें पंजाबी, मराठी, तेलुगू, तमिल, कन्नड़, बंगाली, अंग्रेजी शामिल है। हालांकि सरकार को इस बात पर पूरी छूट है कि वह अपने राज्य में किस भाषा को आधिकारिक तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन देश की कोई आधिकारिक भाषा नहीं है।

आप सभी ने यह तस्वीर तो देखी ही होगी और यह सोशल मीडिया पर काफी वायरल भी हुई थी। लेकिन आपको बता दें कि यह गांधी जी नहीं है या एक ऑस्ट्रेलियाई एक्टर है जिन्होंने गांधी जी की ड्रेस पहनी हुई है और यह मात्र एक भ्रम है कि लोग इन्हें गांधीजी मान बैठे थे।

“हंसने के 5 सबसे बड़े फायदे”
“भारत के 5 सबसे बड़े चोर बाजार”
“दुनिया के 10 सबसे बड़े बंदरगाह”

Add a comment