ब्लड प्लाज्मा क्या है?

नवम्बर 12, 2018

ये तो आप जानते ही हैं कि ब्लड हमारे शरीर का एक बहुत महत्वपूर्ण भाग है। ये एक तरल संयोजी ऊतक है जो हल्के या गहरे लाल रंग का अपारदर्शी, गाढ़ा, क्षारीय और स्वाद में नमकीन होता है। आज आपको बताते हैं ब्लड प्लाज्मा क्या है।

मानव रक्त को दो भागो में बांटा गया है–

  1. प्लाज्मा – प्लाज्मा आयतन के आधार पर रक्त का लगभग 55 से 60% भाग होता है।
  2. रुधिर कणिकाएँ – आयतन के आधार पर लगभग 40 से 45% भाग होता है।

रुधिर कणिकाओं के बारे में तो आप जरूर जानते होंगे लेकिन प्लाज्मा भी कम महत्वपूर्ण तत्व नहीं होता है इसलिए आज जानते हैं ब्लड प्लाज्मा के बारे में-

प्लाज्मा – प्लाज्मा रक्त का हल्के पीले रंग का तरल होता है। ये थोड़ा क्षारीय होता है। प्लाज्मा साफ, पारदर्शी और आधारभूत तरल (मैट्रिक्स) है। ये रक्त का लगभग 55 से 60% भाग बनाता है। इसमें 90 से 92 प्रतिशत भाग पानी होता है और बाकी 8 से 10% भाग में कई कार्बनिक और अकार्बनिक पदार्थ मौजूद रहते हैं।

प्लाज्मा में पाए जाने वाले कार्बनिक पदार्थ – प्लाज्मा में सबसे ज्यादा मात्रा में प्लाज्मा प्रोटीन पाए जाते हैं जो मुख्य रूप से एल्ब्यूमिन, ग्लोब्यूलिंस, प्रोथ्रोम्बिन और फाइब्रिनोजन से मिलकर बने होते हैं। रक्त के परासरण दाब (ऑस्मोटिक प्रेशर) को निर्धारित करना इनका कार्य होता है।

ग्लोब्यूलिंस – ये एंटीबॉडीज की तरह काम करते हैं और हानिकारक बैक्टीरिया और वायरस को नष्ट करते हैं।

प्रोथ्रॉम्बिन और फाइब्रिनोजन – ये रक्त का थक्का जमाने में सहायता करते हैं।

इनके अलावा हार्मोन्स, विटामिन, शर्करा, एमिनो अम्ल, वसीय अम्ल, एंटीबॉडीज और यूरिक अम्ल भी पाए जाते हैं।

प्लाज्मा में पाए जाने वाले अकार्बनिक पदार्थ – इसमें सबसे ज्यादा मात्रा सोडियम बाइकार्बोनेट और सोडियम क्लोराइड की होती है। इनके अलावा कुछ मात्रा कैल्शियम, मैग्नेशियम, पोटैशियम, आयरन के फॉस्फेट, बाइकार्बोनेट, सल्फेट, क्लोराइड भी मौजूद होते हैं।

गैसें – कार्बनिक और अकार्बनिक पदार्थों के अलावा प्लाज्मा में ऑक्सीजन, कार्बन डाई ऑक्साइड, नाइट्रोजन और अमोनिया आदि गैसें भी घुलित अवस्था में पायी जाती हैं।

“फेनमैन तकनीक क्‍या है?”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें