ब्राह्मी क्या है और ब्राह्मी के फायदे

दिसम्बर 1, 2018

ब्राह्मी का आयुर्वेद में विशेष महत्त्व रहा है। वर्षों से आयुर्वेदिक दवाओं में इस्तेमाल होने वाली इस जड़ी-बूटी का वैज्ञानिक नाम Bacapa monnieri है और ब्राह्मी के फायदे भी चौंकाने वाले हैं। ऐसे में आज आपको बताते हैं ब्राह्मी के फायदे के बारे में।

स्मरणशक्ति बढ़ाये – ब्राह्मी का लम्बे समय तक सेवन करने से ना केवल स्मरणशक्ति बढ़ती है बल्कि बढ़ती उम्र के साथ याद्दाशत कम होने की समस्या भी दूर होने लगती है।

अल्जाइमर से बचाव – ब्राह्मी में स्मृति बढ़ाने के गुण होने के कारण ब्राह्मी का सेवन करने से डिमेंशिया और अल्जाइमर जैसी न्यूरोड़िजेनरेटिव स्थितियों की रोकथाम संभव हो पाती है।

शरीर स्वस्थ बनाये – एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर ब्राह्मी शरीर को स्वस्थ बनाने में मदद करती है। इसमें मौजूद पोषक तत्व और एंटीऑक्सिडेंट्स शरीर की इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं। ये एंटीऑक्सिडेंट्स फ्री-रेडिकल्स को नष्ट कर देते हैं और कैंसर जैसे घातक रोग के कुछ प्रकारों को रोकने में भी सहायक होते हैं।

तनाव दूर करें – ब्राह्मी में पाए जाने वाले सक्रिय तत्व हार्मोनल संतुलन को बनाये रखते हैं जिससे तनाव हार्मोन कार्टिसोल का स्तर कम हो जाता है और तनाव और चिंता दूर होने लगती है।

सूजन में राहत दिलाये – ब्राह्मी प्रोस्टाग्लैंडीन के उत्पादन को कम करती है जिससे दर्द और सूजन में काफी राहत मिलने लगती है। इसके अलावा पीठ दर्द, सिरदर्द और मांसपेशियों के दर्द को दूर करने में भी ब्राह्मी कारगर साबित होती है।

मिर्गी के इलाज में फायदेमंद – ब्राह्मी ग्लूटामेट और डोपामाइन के लेवल को संतुलित बनाकर मिर्गी के कारण होने वाली सूजन को कम करती है और मिर्गी के दौरों को भी रोकती है।

स्किन और बालों को बेहतर बनाये – त्वचा के घाव और निशान दूर करके, स्वस्थ और चिकनी त्वचा बनाने का गुण ब्राह्मी में मौजूद होता है और बालों की समस्याओं को भी ब्राह्मी आसानी से दूर कर देती है।

पाचन तंत्र को मजबूत बनाये – ब्राह्मी में पाचन तंत्र को स्वस्थ और मजबूत बनाने के गुण भी पाए जाते हैं इसलिए ब्राह्मी के सेवन से अल्सर में भी राहत मिल सकती है।

ब्राह्मी का सेवन दिन में 3 बार किया जा सकता है लेकिन आवश्यकता से अधिक सेवन करने पर हार्ट बीट के कम होने, यूरिनरी इन्फेक्शन होने और अस्थमा होने जैसे साइड इफेक्ट्स भी दिखाई दे सकते हैं इसलिए इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।

“आँख का वजन कितना होता है?”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें