क्या आप जानते है चाय के कितने स्वास्थ्य लाभ है – चाय पीने के फायदे

356

चाय! एक ऐसा पेय जिसका चलन सदियों से चला आ रहा है। भारत ही नहीं बल्कि दुनिया भर में चाय सबसे पसंदीदा पेय माना जाता है। भारत में 90% से ज्यादा लोगों के दिन की शुरुआत चाय से होती है जिसे शहरों में बैड टी के कल्चर के नाम से जाना जाता है। यह कल्चर अब गाँवों तक भी अपनी पहुँच बना चुका है। कई लोग तो चाय के इतने शौकीन होते है की दिन में दो से पाँच या इससे भी ज्यादा चाय पी लेते है। बल्कि यह कहना अनुचित नहीं होगा की चाय हमारी जिंदगी का इतना अहम हिस्सा बन चुकी है की अब चाह कर भी चाय से दूर नहीं रह सकते। गर्मी हो या सर्दी चाय पीने के शौकीन हर मौसम में चाय की चुस्की लेने का बाहाना ढूँढ ही लेते है। आखिर चाय चीज ही ऐसी है। चाय में कैफ़ीन होते हुए भी अगर इसका उचित मात्रा में सेवन किया जाए तो इससे शरीर को बहुत लाभ होता है। चाय ताजगी देने के साथ-साथ अनजाने में स्वास्थ्य लाभ भी बहुत देती है। अगर आप भी चाय को अपने जीवन का अटूट हिस्सा मानते है तो चलिए आज हम आपको चाय पीने के फायदे से अवगत कराएंगे।

जानिए चाय पीने के फायदों को

1. बालों में रखे शाइन – बालों में अच्छी चमक के लिए ग्रीन टी का प्रयोग करे। इसकी उत्पत्ति भी उसी पेड़ से होती है जिससे काली चाय आती है। लेकिन इसे ऑक्सीडाइज नहीं किया जाता जिस कारण इसकी पत्तियों में इलेक्ट्रॉन की संख्या प्रचुर मात्रा में होती है। यही इलेक्ट्रॉन बालों में चमक बनाए रखता है। ग्रीन टी के तीन बैग को उबलते पानी में डालें, पानी ठंडा होने पर उससे बाल धो ले फिर कंडीशनर करे। अगर बाल डार्क चाहिए तो काली चाय का इस्तेमाल करे।

2. आँखों को दे ठंडक – कई बार हार्मोनल चेंज, तनाव, ज्यादा शराब या एलर्जी की वजह से आँखों में सूजन या थकान आ जाती है। ऐसे में इस्तेमाल हुई टी बैग को अपनी दोनों बंद आँखों पर दस मिनट के लिए रखे। आपकी आँखे फ्रेश और थकान रहित फील करेगी।

3. बुढ़ापा दूर रखे – यह सच है कि चाय काली हो, ग्रीन हो या किसी और फ्लेवर की, सभी चाय में एंटीऑक्सीडेंट्स, एंटी कैटेचिन्स और पोलीफेनॉल्स होते है जिससे हमारे शरीर पर सकारात्मक असर पड़ता हैं। इससे उम्र बढ़ने और प्रदूषण के प्रभावों से शरीर की रक्षा होती है।

4. कम कैलोरी – चाय कैलोरी रहित होती है जब तक आप उसमें चीनी या दूध ना मिला दे। अगर आप टेंशन फ्री कैलोरी मुक्त पेय को पीना चाहते है तो चाय एक अच्छा विकल्प है। इसके सेवन से वजन घटने लगता है और स्लिम ट्रीम बनाता है। अधिक थकान या काम के बाद शरीर को हाइड्रेड करने की जरूरत होती है ऐसे में चाय एक बेहतरीन ऑप्‍शन है इससे रीफ़्रेशनेस के साथ-साथ एनर्जी भी मिलेगी। कैफ़ीन होने के कारण दिन में दो चाय स्वास्थ्य के हित में है।

5. कैंसर विरोधी गुण – चाय में एंटीऑक्सीडेंट्स और पोलीफेनॉल्स जैसी प्रोपर्टीज होती है जो कैंसर से लड़ने में सहायता करती है। वैज्ञानिक रिसर्च के अनुसार जो दो-तीन कप चाय पीते है उनमें दूसरों के मुकाबले ब्रेस्ट, माउथ और प्रोस्टेट कैंसर का खतरा कम होता है। यह कहना गलत नहीं होगा की चाय कैंसर विरुद्ध सुरक्षा देती है। अभी चाय पर बहुत सी रिसर्च का सामने आना बाकी है इस विषय में काम चल रहा है।

6. दाँतों को दे मजबूती – सुबह एक कप चाय पीने से दाँतों को मजबूती मिलती है। चाय फ्लोराइड का सबसे अच्छा स्त्रोत है जिससे दाँतों के एनामेल को नष्ट होने से रक्षा मिलती है। इसका एन्टीऑक्सिडेंट गुण जीवाणुओं से लड़ने और मसूड़ों की समस्या से राहत दिलाने में सहायता करता है।

7. सन बर्न से रक्षा – अधिक धूप में रहने के कारण चेहरे पर सनबर्न के मार्क का आना स्वभाविक है। ऐसे में टी बैग को पानी में रखकर ठंडा होने के लिए फ्रिज में रख दे और जहाँ स्किन प्रभावित है वहाँ पर दस मिनट के लिए ठंडे टी बैग को रख दे, असर तुरंत दिखेगा।

8. फैट कम करे – चाय के सेवन से शरीर का मैटाबॉलिज्‍म बढ़ता है। अगर आप ग्रीन टी का सेवन करते है तो 70-80% कैलोरी बर्न होती है और मैटाबॉलिज्‍म रेट बढ़ता है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं की आप व्यायाम और टहलना बंद कर दे।

9. बीमारियों से लड़े – चाय के सेवन से इम्यून सिस्टम को संक्रमण से लड़ने में सहायता मिलती है। सर्दी-जुखाम व सर दर्द जैसी आम समस्या तो चुटकियों में सही हो जाती है। यह धमनियों में खून का थक्का बनने की प्रक्रिया को रोकने और उसके कार्य को सुचारू रूप से चलाने में मदद करती है जिससे शरीर में ब्लड का फ्लो अच्छे से होता है। चाय का सेवन धमनियों मे चिकनाहट और कोलेस्ट्रॉल को जमने नहीं देता जिस कारण दिल का दौरा और स्ट्रोक का खतरा भी बहुत कम हो जाता है। चाय में मौजूद फ्लेवनाइड नाम का एन्टी-ऑक्सिडेंट होता है जो दिल को सभी प्रकार की समस्या से बचा के रखने में मदद करता है। ग्रीन टी के सेवन से किल-मुहाँसे नहीं होते। यह त्वचा में मौजूद बेंजॉइल प्रॉक्साइड को रोकता है जिससे चेहरे को स्पॉट से मुक्ति मिलती है।

10. मेमोरी तेज होती है – कहा जाता है चाय पीने से दिमाग की नशे खुल जाती है और तरोताजगी फील होती है, इसके सेवन से मेमोरी सेल्स एक्टिव हो जाती है। इससे मनोभ्रम और अल्ज़ाइमर रोग का खतरा भी टलता है। शायद इसी लिए बढ़ती उम्र के लोग चाय का सेवन अधिक करते है।

11. हड्डियों को मजबूती – रिसर्च के अनुसार जो लोग लंबे समय से चाय का सेवन कर रहे है उनकी हड्डियाँ उन लोगों से ज्यादा मजबूत पाई गई जो चाय नहीं पीते। शौध के अनुसार चाय पीने वालों की हड्डियाँ – बढ़ती उम्र, मोटापा, व्यायाम में कमी, धूम्रपान और अन्य नुक़सानदायक आदतों के बावजूद भी मजबूत है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं की आप भी ऐसी आदतों के शिकार हो जाओ। यह एक कुछ लोगों पर किया गया अध्ययन है।

कुछ स्वास्थ्यवर्धक चाय के प्रकार और गुण

* काली चाय – इसमे सबसे अधिक कैफीन होता है। अध्ययनों से प्राप्त जानकारी अनुसार काली चाय सिगरेट के धुएं के संपर्क की वजह से फेफड़ों को नुकसान से बचाती है। इतना ही नहीं यह रक्त का थक्का बनने की प्रक्रिया को रोककर धमनियों के कार्य में सहायक बनती है जिससे स्ट्रोक का खतरा कम होता है। एन्टीऑक्सिडेंट के गुण इसमें अधिक होने के कारण यह मुँह और मसूड़ों को जीवाणुओं से रक्षा प्रदान करती है।

* ऊलौंग टी- यह चायना की उत्पत्ति है। यह कैलोरी को बर्न करने के साथ प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने में बहुत सहायता करती है।

* ग्रीन टी – यह वसा को कम करने, दिमागी तनाव को कम करने, अल्जाइमर और पार्किंसंस रोग जैसी मस्तिष्क संबंधी बीमारियों के खतरे को कम करने, कोलोरेक्टल कैंसर को रोकने, धमनियों में खून का थक्का रोकने में, स्ट्रोक का खतरा कम करने, अर्थराइटिस के खतरे को कम करने, कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार करने, हड्डियों को मजबूत बनाने और लीवर की क्षमता को बेहतर बनाने में बहुत मदद करती है। इसके अलावा हरी चाय मूत्राशय, स्तन, फेफड़े, पेट, अग्नाशय के लिए एंटीऑक्सीडेंट का काम करती है। इस चाय को बिना चीनी के दिन में 3-4 बार पीना सेहतमंद माना गया है। अधिक लाभ के लिए इस चाय का उपयोग पत्तियों के रूप में करे टी बैग का नहीं।

अच्छे स्वास्थ्य के लिए कुछ नियम होते है की कब भोजन लेना चाहिए, कब सोना या उठना चाहिए, कब पानी आदि पीना चाहिए या कब व्यायाम करना चाहिए। ठीक उसी तरह चाय पीने का भी उचित समय होता है। अगर आप सुबह खाली पेट चाय पीते है तो आपकी भूख प्रभावित हो सकती है, अगर आप रात को सोते वक्त चाय पीते है तो धीरे-धीरे अनिद्रा की समस्या हो सकती है, अगर आप दोपहर के भोजन के तुरंत बाद चाय का सेवन करते है तो भोजन के रसायन से चाय रिएक्ट कर सकती है। आपको जो भी चाय पसंद हो सुबह के नाश्ते के साथ चाय ले। बैड टी आपकी आदत है तो कुछ खा कर फिर चाय पिए। शाम को 4-5 बजे के बीच आप चाय का सेवन कर सकते है। डॉक्टर के अनुसार दिन में तीन-चार चाय से ज्यादा चाय का सेवन हितकर नहीं है। अगर संभव हो तो बिना दूध और चीनी की चाय का सेवन करे। अधिक चाय से जलन, गैस, एसिडिटी, अल्सर, पेट फूलना आदि कई समस्या हो सकती है। गर्मी हो या सर्दी चाय का नियमित मात्रा में सेवन आपकी सेहत को स्वस्थ रखेगा। किसी भी चीज की अति शरीर को हमेशा क्षति ही पहुँचाती है।

दोस्तों! हमने यह आर्टिकल अपने प्रैक्टिकल अनुभव व ज्ञान के आधार पर आपके साथ शेयर किया है। हमारा यही सुझाव है अच्छी सेहत के लिए चाय का सेवन संतुलित करे और खाली पेट तो चाय का सेवन भूल से भी ना करे। अगर सीमित मात्रा में चाय का सेवन ना किया जाए तो जीतने चाय पीने के फायदे है नुकसान भी उतने ही है। आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“जानिए किस समय दूध पीना होता है सबसे लाभदायक”
“गर्मी में शहतूत खाने के 8 गजब के स्वास्थ्य लाभ”
“इन चीजों को दही में मिलाकर खाएं और आश्चर्यजनक लाभ देखे”

Add a comment