कीमोथेरेपी क्या है?

आज कैंसर जैसा जानलेवा रोग बढ़ता जा रहा है और इसे रोकने के लिए दिया जाने वाला ट्रीटमेंट कीमोथेरेपी कहलाता है जिसमें ऐसी दवाएं दी जाती हैं जो कैंसर के सेल्स को खत्म कर  देती हैं। इस थेरेपी के जरिये ट्यूमर सिकुड़ जाते हैं और कैंसर का फैलाव होने से रुक जाता है। इन दवाओं को एंटी कैंसर ड्रग्स या कीमोथेरेपिक एजेंट्स भी कहा जाता है।

कीमोथेरेपी दो शब्दों से मिलकर बना है, कीमो और थेरेपी जिसमें कीमो का अर्थ है केमिकल और थैरेपी का अर्थ है उपचार यानी केमिकल के जरिये किया जाने वाला उपचार कीमोथेरेपी कहलाता है। कीमोथेरेपी कैंसर के सेल्स को शरीर के दूसरे हिस्से जैसे हड्डियां, लीवर या दिमाग में फैलने नहीं देती।

सामान्य रूप से वेन्स के जरिये दिए जाने वाले ड्रग्स के लिए कीमोथेरेपी की जाती है क्योंकि ज़्यादातर लोग इंटरवेंस इन्फ्यूजन की प्रक्रिया के द्वारा एंटी कैंसर ड्रग्स लेते हैं। इसके लिए एक लिक्विड ड्रग्स से भरे बैग को एक ट्यूब से जोड़ा जाता है जिसे वेन्स से जोड़कर ड्रग्स को मरीज के शरीर में पहुँचाया जाता है।

इन एंटी कैंसर ड्रग्स को दवाओं और इंजेक्शन के जरिये भी लिया जा सकता है। जब कीमोथेरेपी वेन्स के द्वारा दी जाती है तो उन कैंसर सेल्स को खत्म करना आसान हो जाता है जो कैंसर के मूल स्थान से फैल चुके होते हैं। शरीर के बाकी हिस्सों की तुलना में टेस्टिस और दिमाग को कीमोथेरेपी ड्रग्स बहुत कम प्रभावित कर पाते हैं इसलिए इन अंगों के लिए दूसरी तकनीक का इस्तेमाल करने की जरुरत पड़ती है।

कीमोथेरेपी जहाँ कैंसर सेल्स को फैलने से रोकती है वहीं इस थेरेपी से शरीर को कई तकलीफें भी उठानी पड़ सकती है।

ये थेरेपी कैंसर सेल्स को खत्म करते-करते स्वस्थ सेल्स को भी नुकसान पहुंचा सकती है क्योंकि एंटी कैंसर ड्रग्स एक कैंसर सेल से ज्यादा सेल्स को भी प्रभावित करती है जिससे स्वस्थ सेल्स को भी क्षति पहुँचती है इसलिए जिन मरीजों को ये थेरेपी दी जाती है उनके मुँह में घाव, पेट में परेशानी, कमजोरी आना और बालों का झड़ना जैसी समस्याएं होती हैं।

इसके अलावा कीमोथेरेपी की स्थिति में शरीर का इन्फेक्शन से जल्दी प्रभावित होना भी शुरू हो जाता है।

कीमोथेरेपी का एक बड़ा साइड इफेक्ट ये भी है कि ये थेरेपी ऐसे सेल्स को भी प्रभावित कर सकती है जो ब्लड क्लोटिंग करते हैं जिसके कारण खून बहने का ख़तरा भी काफी बढ़ जाता है।

दोस्तों, कैंसर जैसे रोग का इलाज करने के लिए कीमोथेरेपी दी जाती है और ये थेरेपी शरीर में कैंसर को फैलने से रोकती भी है और इसके साइड इफेक्ट्स भी शरीर को झेलने पड़ते हैं। उम्मीद है कि ये जानकारी आपको उपयोगी लगी होगी।

“pH क्या होता है और कितना होना चाहिए इसका स्तर?”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।