चेक और डिमांड ड्राफ्ट के बीच का अंतर

आजकल ऑनलाइन बैंकिंग का चलन इतना तेज हो गया है कि मनी ट्रांसफर करने के बाकी सारे तरीके पुराने लगने लगे हैं लेकिन अभी भी बहुत सी जगह फण्ड के लिए चेक और डिमांड ड्राफ्ट की जरुरत पड़ती है। ऐसे में आपको भी ये जरुर जानना चाहिए कि चेक और डिमांड ड्राफ्ट में क्या अंतर होता है ताकि इन दोनों ही सुविधाओं का फायदा उठाना आपके लिए आसान हो जाये। तो चलिए, आज बात करते हैं चेक और डीडी के बारे में।

डिमांड ड्राफ्ट या डीडी किसी बैंक अकाउंट में मनी ट्रांसफर करने का एक आसान और सुरक्षित तरीका होता है और कॉलेज फीस जमा कराने जैसे जरुरी कामों के लिए इसी डीडी का इस्तेमाल होता है। डिमांड ड्राफ्ट और चेक के बीच अंतर करना आसान नहीं है क्योंकि अक्सर दोनों को एक ही मान लिया जाता है लेकिन इनमें बहुत अंतर होते हैं।

चेक की सुविधा केवल उस सम्बंधित बैंक में अकाउंट रखने वाले व्यक्ति को ही होती है जबकि डीडी बनवाने के लिए बैंक में अकाउंट होना जरुरी नहीं होता है।

डीडी केवल अकाउंट में ही पे हो सकता है। जिसके नाम पर यह ऑर्डर हो, वो इसे अपने अकाउंट में इनकैश करवा सकता है जबकि चेक अकाउंट में जमा करने के साथ बीयरर द्वारा भी इनकैश करवाया जा सकता है।

डिमांड ड्राफ्ट किसी विशेष संस्था या व्यक्ति के नाम जारी किया जाता है और इसे किसी खास शहर की किसी निश्चित ब्रांच से ही भुनाया जा सकता है जबकि चेक कोई भी पार्टी किसी के भी नाम पर जारी कर सकती है।

अगर अकाउंट में पर्याप्त बैलेंस ना हो तो चेक बाउंस हो जाता है लेकिन डिमांड ड्राफ्ट कभी बाउंस नहीं होता क्योंकि डीडी बनवाने के लिए व्यक्ति द्वारा पहले ही पेमेंट कर दिया जाता है।

चेक खो जाने की स्थिति में इसका ग़लत इस्तेमाल होने का ख़तरा बना रहता है क्योंकि कोई भी व्यक्ति बीयरर बनकर उस चेक को इनकैश करवा सकता है जबकि डीडी खोने पर उसे इनकैश नहीं करवाया जा सकता और ऐसी स्थिति में डीडी को कैंसिल कराया जा सकता है।

कई बार स्टैण्डर्ड चेक से मनी ट्रांसफर करने में कई दिन का समय लग जाता है लेकिन डिमांड ड्राफ्ट से फण्ड को टार्गेटेड अकाउंट में ट्रांसफर करने में एक वर्किंग डे जितना ही समय लगता है।

दोस्तों, हर सुविधा का अपना महत्त्व होता है। फिर चाहे वो डीडी हो, चेक हो या ऑनलाइन ट्रांजेक्शन की सुविधा हो, और अब आप जान गए हैं कि डीडी और चेक के बीच खास अंतर क्या होते हैं इसलिए सही जगह पर फण्ड ट्रांसफर का सही विकल्प चुनिए और फण्ड ट्रांसफर को आसान बना लीजिए।

उम्मीद है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमन्द भी साबित होगी।

“पीने के पानी का टीडीएस कितना होना चाहिए?”