कोलोरेक्टल कैंसर क्‍या है?

नवम्बर 15, 2018

(बृहदान्त्र) कोलोन कैंसर और (मलाशय) रेक्टल कैंसर जब एकसाथ हो जाते हैं तो उसे कोलोरेक्टल कैंसर कहा जाता है। आइये, इसके बारे में जानते हैं।

कोलोरेक्टल कैंसर के प्रकार-

(बृहदान्त्र) कोलन कैंसर – बड़ी आंत का कैंसर

(मलाशय) रेक्टल कैंसर – बड़ी आंत के अंतिम सिरे का कैंसर

कोलोरेक्टल कैंसर के स्टेप्स-

स्टेप 1 – कैंसर कोलोन या रेक्टल के चारों ओर मौजूद झिल्ली में प्रवेश करता है।

स्टेप 2 – कैंसर कोलोन या रेक्टल की भित्तियों (walls) में फैल जाता है।

स्टेप 3 – कैंसर लसिका ग्रंथियों (लिम्फ नोड्स) में फैल जाता है।

स्टेप 4 – कैंसर शरीर के अन्य अंगों जैसे फेफड़ें या लिवर में फैल जाता है।

कोलोरेक्टल कैंसर के संभावित कारण – डॉक्टर्स अभी तक इस कैंसर के निश्चित कारणों को नहीं जान पाए हैं लेकिन उनके द्वारा अनुमानित कुछ कारण ये हैं।

कोलोरेक्टल कैंसर के लक्षण-

कोलोरेक्टल कैंसर से बचाव के लिए कुछ प्रयास किये जा सकते हैं, जैसे-

“फेनमैन तकनीक क्‍या है?”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें