डायबिटीज होने पर इन बातों का ख्याल रखना है बेहद जरुरी

आज के समय भारत में डायबिटीज यानी मधुमेह एक महामारी के रूप में उभर कर आ रही है जिसके लक्षणों का पता आमतौर पर नहीं लगता और धीर धीरे ये बीमारी रोगी को अपने शिकंजे में कस लेती है। शुरूआती दौर में डायबिटीज का पता लगाना मुश्किल होता है ऐसे में हम खुद को स्वस्थ समझते हैं और हम समय पर अपनी बॉडी की जाँच नहीं कराते और फिर इसका पता तब चलता है जब ये भयानक रूप ले लेती है। डायबिटीज होने की सबसे अहम् वजह है आज की बिगड़ी जीवनशैली और खानपान में लापरवाही। डायबिटीज दिल से जुडी बिमारियों की बीच अहम् वजह बनती है इसलिए समय समय पर बॉडी की जांच और खान पान का ख़ास ख्याल रखना बेहद जरुरी है ताकि डायबिटीज की रोकथाम की जा सके। तो आइये जानते हैं डायबिटीज होने पर खुद का ख्याल कैसे रखें ताकि हम स्वस्थ रहें और डायबिटीज जानलेवा रूप ना ले।

जीवनशैली में लाएं सुधार – स्वस्थ रहने के लिए एक बेहतर जीवनशैली बहुत आवश्यक है बिगड़ी लाइफस्टाइल डायबिटीज, मोटापा, दिल की बीमारियों और तनाव जैसी समस्याओं का मुख्य कारण होती है। आज की लाइफस्टाइल ऐसी हो गई है की सभी लोग सिर्फ पैसे कमाने में लगे हैं और ऐसे में तनाव काफी बढ़ गया है लेकिन हमे ये विचार करना चाहिए की स्वस्थ शरीर होने पर ही हम कुछ कर सकते हैं इसलिए शरीर का भी ख्याल रखना उतना ही जरुरी है। इसके लिए नियमित रूप से व्यायाम करें और एक संतुलित और पौष्टिक डाइट लें।

डायबिटीज के मुख्य कारण – आखिर डायबिटीज क्यों हो जाती है इस पर भी विचार करना बेहद जरुरी है, दरअसल डायबिटीज का मुख्य कारण है अत्यधिक तनाव और आलसीपन। भागदौड़ भरी जिंदगी में तनाव काफी बढ़ जाता है और इसके साथ हम व्यायाम को भी समय नहीं देते और साथ ही साथ स्वस्थ खान पान का भी ध्यान नहीं रखते जो की डायबिटीज के मुख्य कारण बनते हैं। इसलिए व्यायाम को अपनी जीवनशैली का हिस्सा बनायें और एक स्वस्थ डाइट लें। अपने आहार में ट्रांसफैट, नमक और चीनी का ज्यादा उपयोग ना करें साथ ही शराब या धूम्रपान की आदत का पूरी तरह से त्याग कर दें।

इनसुलिन की कमी – शरीर में इन्सुलिन ना बनना शूगर, डायबिटीज और कॉरनरी एथेरोसिलेरोसिस जैसी बड़ी बिमारियों के लिए शुरूआती कारण होता है। इससे रक्त धमनियां सख्त हो जाती हैं तंग हो जाती हैं और ऐसे में दिल की मांसपेशियों तक रक्त के माध्यम से पहुँचने वाली ऑक्सीजन में कमी आने लगती है जिस कारण रक्त के थक्के जमने लगते हैं और ये दिल के दौरे का मुख्य कारण भी बनती है।

डायबिटीज रोगी इन बातों का भी रखें ख़ास ख्याल

  • आम लोगों की अपेक्षा डायबिटीज रोगी को दिल के दौरे, कॉर्डियोमायोपैथी और दिल से जुडी बीमारियां होने का खतरा दो से चार गुना ज्यादा बढ़ जाता है।
  • शरीर में ब्लड शुगर लेवल जितना अधिक होगा रोगी को दिल का दौरा होने का खतरा भी उतना ही ज्यादा बढ़ जाता है।
  • डायबिटीज रोगी को अपने स्वास्थ्य का ख़ास ख्याल रखने की जरूरत होती है और ऐसे में समय समय पर अपना इनसुलिन और दिल की दौरे के खतरे की जांच अवश्य करानी चाहिए।
  • नियमित व्यायाम जरूर करें इससे रक्तचाप कम होगा, ब्लड शूगर कम होगा साथ ही वजन भी घटेगा और तनाव से मुक्ति मिलेगी।

“अगर आपके भी हाथ कांपते हैं तो हो सकती हैं यह स्वास्थ्य समस्याएं”
“रोना भी आपके स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक है”
“स्वास्थ्य ही नहीं अन्य कामों में भी चमत्कारी है निम्बू, जानिए कैसे”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

अगर आप किसी विषय के विशेषज्ञ हैं और उस विषय पर अच्छे से लिख सकते हैं तो जागरूक पर जरुर शेयर करें। आप अपने लिखे हुए लेख को info@jagruk.in पर भेज सकते हैं। आपके लेख को आपके नाम, विवरण और फोटो के साथ जागरूक पर प्रकाशित किया जाएगा।
शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment