दिमाग को एक्टिव करने के लिए करें ये उपयोगी योग

फरवरी 18, 2018

आजकल हम सभी अपने शरीर को फिट और एक्टिव बनाने के लिए व्यायाम और योग का महत्व समझने लगे हैं और हमने काफी हद तक इसे अपने रोजमर्रा के ज़रूरी कामों में शामिल भी कर लिया है लेकिन दिमाग को एक्टिव करने के लिए हम क्या करते हैं? उम्र बढ़ने के साथ दिमाग के काम करने की गति धीमी होने लगती है और मेमोरी भी कमज़ोर होने लगती है जिसके चलते हम बहुत-सी बातों को भूलने लगते हैं। ऐसे में ये ज़रूरी हो जाता है कि हम दिमाग को एक्टिव और शार्प बनाये रखने के लिए भी योग करें। तो चलिए, आज जानते हैं ऐसे ही कुछ ख़ास योगासनों के बारे में, जो दिमाग को तेज करते हैं–

हठ योग – हठ योग प्राचीन योग पद्दति है। इस योग में सांस पर ध्यान केंद्रित करके आसन किये जाते हैं। ऐसा करने से हर उम्र में दिमाग को दुरुस्त बनाया जा सकता है।

सुखासन – तनाव को दूर करके दिमाग को शांत करने का सरल उपाय है सुखासन योग। इसे करने से शारीरिक और मानसिक थकावट दूर हो जाती है और शान्ति का अहसास होने के साथ-साथ एकाग्रता बढ़ाने में भी मदद मिलती है।

पर्वतासन – ये आसन हमारे दिमाग पर सकारात्मक प्रभाव डालता है। इसे करने से कंधे और जोड़ों का दर्द ठीक होता है, रीढ़ की हड्डी में तनाव कम हो जाता है जिससे तंत्रिकाओं में स्फूर्ति बनी रहती है, मन प्रसन्न रहने लगता है और ध्यान केंद्रित होने लगता है।

पश्चिमोत्तासन – ये आसन ना केवल तनाव को दूर करता है बल्कि मेमोरी भी शार्प करता है। इतना ही नहीं, इस आसान से आसन को करने से रीढ़ की हड्डी और पीठ के निचले हिस्से में भी सुधार होता है। साथ ही पाचन बेहतर बनता है, शरीर की थकान कम होने लगती है और किडनी स्वस्थ रहती हैं। इतने सारे लाभ देने वाले इस आसन को आप ज़रूर करें।

पद्मासन – स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए नियमित रूप से पद्मासन करना चाहिए। ये ध्यान का प्राचीन और सरल रूप है। इस आसन को करने से मन शांत होता है, आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होती है और दिमाग स्थिर और शांत होने से एकाग्रता बढ़ने लगती है।

भुजंगासन – भुजंगासन दिमाग को शांत करने वाला एक और बेहतरीन आसन है जो शरीर के बहुत से भागों को राहत दिलाता है। इसे करने से दिमाग में सकारात्मक विचार आने शुरू हो जाते हैं।

दोस्तों, बढ़ती उम्र को तो हम नहीं रोक सकते लेकिन उम्र के साथ कम होती याददाश्त को ज़रूर बेहतर बनाये रख सकते हैं और इसके लिए आपको क्या करना है, ये अब आप जान चुके हैं इसलिए अपने दिमाग को हर उम्र में तेज़ बनाये रखने के लिए योग का सहयोग लीजिये और हर उम्र में अपनी मेमोरी को शार्प बनाये रखिये।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे।

“गैस और एसिडिटी को दूर करने के लिए योग”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें