डीएनए क्या होता है?

जेनेटिक टेस्टिंग में डीएनए टेस्ट भी शामिल होता है और इसके बारे में शायद आपने बहुत सुना भी होगा और शायद इससे जुड़ी थोड़ी जानकारी आपके पास भी हो लेकिन डीएनए के बारे में अच्छे से जानना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है इसलिए आज आपको बताते हैं डीएनए क्या होता है।

इंसान के शरीर की संरचना के बारे में जानकारी देने वाले डीएनए का पूरा नाम Deoxyribonucleic Acid (डीऑक्सीराइबो न्यूक्लिक एसिड) है।

ये संरचना हमारे शरीर की आनुवंशिक संरचना की जानकारी देती है। इसी डीएनए के कारण ही हर इन्सान की संरचना और गुण अलग अलग होते हैं।

डीएनए की संरचना घुमावदार सीढ़ीनुमा होती है।

डीएनए में मानव शरीर की संरचना की पूरी जानकारी कोड के रुप में जमा रहती है।

मानव डीएनए की संरचना के चार भाग होते हैं – न्यूक्लियोटाइड एडेनिन, गुआनिन, थायमिन और सिस्टोसिन।

प्रत्येक मनुष्य के शरीर में मौजूद डीएनए की लगभग 99 प्रतिशत संरचना समान ही होती है और केवल 1 प्रतिशत डीएनए की संरचना अलग होती है और यही 1 प्रतिशत इंसानों को एक-दूसरे से अलग बनाते हैं।

मनुष्य के डीएनए की लगभग 50 प्रतिशत संरचना पत्ता गोभी के डीएनए की संरचना के समान पायी जाती है।

मानव डीएनए की लगभग 98 प्रतिशत संरचना चिम्पैंजी के डीएनए की संरचना के समान पायी जाती है।

किसी माता-पिता और उनके बच्चों में लगभग 99.5 प्रतिशत डीएनए की संरचना समान होती है।

मानव शरीर में मौजूद डीएनए के अणुओं को अगर एक दूसरे के ऊपर रखा जाए तो ये लगभग 600 बार सूर्य तक जाकर वापिस आ सकते हैं।

डीएनए का मॉडल अंग्रेजी वैज्ञानिक जेम्स वाटसन और फ्रांसिस क्रिक ने 1953 में दिया था जिसके लिए उन्हें 1962 में नोबल पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया।

दोस्तों, उम्मीद है कि डीएनए से जुड़ी ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमन्द भी साबित होगी।

“आँख का वजन कितना होता है?”