कहीँ आप बहुत ज्यादा इमोशनल तो नहीँ

कहते हैँ कि इंसान वही है जिसमेँ भावनाएँ होँ। बिना इमोशन्स का इंसान वास्तव मेँ मनुष्य नहीँ, बस एक हाड-मांस का पुतला होता है। हंसना, रोना, गुस्सा, दुखी होना और न जाने कितनी ऐसी भावनाएँ हैँ, जिनसे मिलकर मनुष्य बना है। यही भावनाएँ मनुष्य द्वारा खुद को एक्सप्रेस करने का एक जरिया भी हैँ। लेकिन जीवन मेँ हर चीज की अति क्षति का कारण ही बनती है। इसलिए अगर आप जरूरत से ज्यादा भावुक हैँ तो अब सम्भल जाइए। क्योंकि यही भावनाएँ आपके जीवन को नष्ट भी कर सकती हैँ।

आंके खुद को

यह शत-प्रतिशत सही है कि हर मनुष्य भावुक होता है। इसलिए अब आपको सबसे पहले यह देखना है कि आप जरूरत से ज्यादा इमोशनल तो नहीँ है। इसके लिए स्वयँ का मूल्यांकन करना बेहद आवश्यक है। खुद को आंकने के लिए आपको जीवन मेँ अपने द्वारा लिए गए फैसलोँ की ओर ध्यान देना होगा। आप खुद से यह सवाल पूंछे कि क्या आपके द्वारा लिए गए फैसलोँ से आपको जीवन मेँ पछताना पडा? या जब आप कोई फैसला लेते हैँ तो उसमेँ दिल के साथ-साथ दिमाग को भी शामिल करते हैँ? अगर आपका जवाब हाँ है तो फिर आप जरूरत से ज्यादा ही भावुक हैँ।

सुनेँ दूसरोँ की भी

कभी-कभी ऐसा होता है कि हम क्या हैँ, इसका पता लगाना थोडा मुश्किल होता है। ऐसे मेँ दूसरोँ की राय भी आपके काफी काम आ सकती है। अगर आपको कोई कहता है कि यार तू तो बात-बात मेँ सेंटी हो जाता है या फिर कभी-कभी दिल के साथ-साथ दिमाग का भी इस्तेमाल कर लिया कर। तो समझ लीजिए कि यह आपके लिए खतरे की घंटी है।

कैसे करेँ काबू

किसी भी मर्ज का इलाज तभी सम्भव है, जब हमेँ बीमारी का पता हो। अब आपने यह तो जान लिया कि आप बहुत अधिक भावुक हैँ लेकिन इसे कंट्रोल करना भी उतना ही आवश्यक है। इसके लिए आप जब भी कोई फैसला लेँ तो लेने से पहले इसके दूरगामी परिणामोँ के बारे मेँ अवश्य सोचेँ। साथ ही अगर आप डर मेँ कोई काम कर रहे हैँ तो एक बार यह अवश्य सोचेँ कि यदि मैँ ऐसा नहीँ करूंगा तो ज्यादा से ज्यादा क्या होगा। जब आपको उसका जवाब मिल जाए और आप उस एक्स्ट्रीम परिस्थिति का सामना करने के लिए खुद को तैयार कर लेंगे तो यकीनन आप अपने भावोँ पर काबू करके जीवन मेँ सही कदम उठा पाएंगे।

योग का सहारा

जीवन मेँ खुद पर नियंत्रण रखने का एकमात्र व सबसे आसान रास्ता योग है। इसके द्वारा हम अपने मन व भावोँ को नियंत्रित कर सकते हैँ। कुछ देर के लिए मेडिटेशन, अनुलोम-विलोम प्रणायाम व भ्रामरी प्रणायाम करना आपके लिए काफी यकीनन लाभकारी सिद्ध होगा। अगर तब भी आप खुद को स्थिर करने मेँ नाकाम साबित हो रहे हैँ तो बेहतर होगा कि तब आप एक एक्सपर्ट की मदद लेँ।

शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment