डॉक्टर हमेशा खराब हैंडराइटिंग में ही क्यों लिखते हैं प्रिस्क्रिप्शन

दिसम्बर 14, 2016

आप सभी ने अपने जीवन में कभी ना कभी डॉक्टर के पास तो जरूर गए होंगे और जब डॉक्टर दवा के लिए पर्ची लिखते हैं तो उस हैंडराइटिंग को हम समझ नहीं पाते। लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि वह इतनी कठिन और जटिलतम हैंड राइटिंग में क्यों लिखते हैं? शायद किसी ने इस पर गौर नहीं किया होगा लेकिन आज हम आपको खराब हैंडराइटिंग के पीछे जुड़ी जानकारी के बारे में बताते हैं।

एक सर्वे के अनुसार यह बात पाई गई की कुछ लोग इस चिंता में ही मर जाते हैं कि डॉक्टर ने ना जाने उनको पर्ची में क्या लिख कर भेज दिया है। इस टेंशन से मरने वालों की संख्या करीबन 7000 है।

मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के तहत डॉक्टरों को एक गाइडलाइन दी गई है। इस गाइडलाइन में यह बताया गया है कि प्रिस्क्रिप्शन को लिखते समय केपिटल लेटर्स का इस्तेमाल ही किया जाना जरूरी है। यहां तक कि मरीज को पूरी तरह से लिखकर यह समझाना होगा कि आप उसे क्या उपचार दे रहे हैं और उसको पूरी तरह से लिखा गया प्रिस्क्रिप्शन एक्सप्लेन करना जरूरी होगा।

लेकिन कोई भी डॉक्टर इस गाइडलाइन का इस्तेमाल नहीं करता इसके पीछे डॉक्टरों का यह कहना है कि कुछ लोग अपने हिसाब से मेडिकल प्रिस्क्रिप्शन को तोड़-मरोड़ लेते हैं। इसीलिए प्रिस्क्रिप्शन को इस तरीके की लिखावट में लिखा जाता है कि सिर्फ मेडिकल स्टोर वाला ही उसको समझ सके।

डिस्क्रिप्शन लिखते समय डॉक्टर कई बार सिर्फ साल्ट या गोली का नाम इतनी रनिंग हैंडराइटिंग में लिखते हैं कि किसी को समझ ही नहीं आता कि डॉक्टर ने क्या गोली लिखी है। इसके पीछे कई डॉक्टर यह बताते हैं कि वह नहीं चाहते कि उनके पास आया मरीज किस बारे में जाने की उन्होंने किस गोली का नाम लिखा है और कई डॉक्टर का यह कहना है कि उनके पास इतना वक्त नहीं होता कि वह धीरे-धीरे और साफ- साफ यह लिख सकें की गोली का नाम क्या है। अगर देखा जाए तो इसमें कई फायदे और कई नुकसान भी है लेकिन यह फायदे और नुकसान हर व्यक्ति के अनुसार अलग अलग हो सकते हैं।

इसके लिए कई लोगों ने यह प्रोटेस्ट भी किया है कि डॉक्टर को इस चीज में बदलाव लाना चाहिए। इसके चलते सोशल मीडिया से लेकर ट्विटर तक कई लोगों ने अपनी प्रतिक्रियाएं दर्ज कराई है।

“क्यों होती है सीने में जलन और कैसे करें इसका इलाज”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें