डालर 72 रूपये के पार, भविष्य?

सितम्बर 11, 2018

रूपये की बढ़ती चाल, क्रूड का बढ़ता भाव देश की आर्थिक स्थिति को प्रभावित कर रहा है। राजकोषीय घाटा जो अथक प्रयासों से कम हुआ वह दुबारा बढ़ने लगा है। रूपये-डालर का भविष्य क्या रहेगा, सबके ज़हन में यह सवाल आ रहा है। रूपये का अवमूल्यन इन दिनों बहुत तेज़ी से हुआ है, फिर भी अगर देखा जाये तो विश्व की अन्य करेंसी के मुकाबले रूपये का अवमूल्यन उतनी नहीं हुआ जितना अन्य देशों की करेंसी का। देश का विदेश भंडार भी लगभग 400 अरब डॉलर हो गया है।

अमरीका की अच्छी होती इकोनोमी के साथ-साथ पूरे विश्व में ट्रेड वार की आशंका रूपये का लगातार अवमूल्यन कर रही है। रूपये के अवमूल्यन के साथ-साथ क्रूड का दाम भी लगातार बढ़कर 80 डॉलर तक पहुँच गया है।

मेरा मानना है कि रूपये की स्थिति आज भी अन्य करेंसी के मुकाबले बहुत अच्छी है। निकट भविष्य में 68-73 के मध्य ही इसके घूमने की संभावना है। 73-74 के भाव पर R.B.I को बहुत Strictly एक्शन लेना होगा।

वर्ल्ड ट्रेड वार का कुछ फायदा भारतीय कंपनी को उठाना चाहिए। Pharma Sector, Export House व IT Sector को अगले कुछ समय बहुत फायदा रहने की संभावना है। सरकार स्थानीय स्तर पर अपने खर्चे में बहुत ज्यादा इज़ाफा कर रही है। सो चुनावों तक रेलवे, सडक पर बहुत ज्यादा खर्चा होगा।

सो रूपये के इस अवमूल्यन पर ज्यादा चिंता की ज़रूरत नहीं है। देश की वर्तमान आर्थिक स्थिति बहुत अच्छी है।

ये लेख फाइनेंशियल एडवाइजर श्री राजेश कुमार सोढानी, सोढानी इंवेस्टमेंट्स, जयपुर द्वारा प्रस्तुत है। फाइनेंशियल प्लानिंग पर आधारित ये लेख आपको कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“S.I.P में देरी की लागत”

शेयर करें