दुकान या ऑफिस में वास्तुशास्त्र के नियम

फरवरी 15, 2018

वास्तुशास्त्र एक ऐसी प्राचीन विधा है जिसका महत्व वर्तमान में बहुत बढ़ गया है। आजकल हर व्यक्ति अपने घर और अपने कामकाज से जुड़े स्थान को वास्तु के अनुकूल बनाता है ताकि उन्हें बेहतर परिणाम मिल सके। ऐसे में अगर आप भी एक दुकानदार या व्यवसायी हैं तो आपके लिए ये जानना फायदेमंद साबित होगा कि दुकान के लिए वास्तु के क्या नियम होते हैं जिनके अनुसार चलकर दुकान जैसे व्यवसाय में तरक्की हो सके। तो चलिए, आज जानते हैं दुकान या ऑफिस में वास्तुशास्त्र के नियम-

अगर दुकान वर्गाकार या आयताकार होती है तो इससे आर्थिक वृद्धि होती है और जिस दुकान का आगे का भाग चौड़ा और पीछे का भाग संकरा होता है वो दुकान बहुत अच्छे परिणाम देने वाली होती है। जबकि दुकान के आगे का भाग अगर कम चौड़ा और पीछे का भाग ज़्यादा चौड़ा होता है तो ऐसी दुकान बेहतर परिणाम नहीं देती है।

दोस्तों, हम सभी अपने-अपने व्यवसाय में तरक्की करना चाहते हैं और अगर अपनी मेहनत और नेक इरादों के साथ-साथ वास्तुशास्त्र का सहयोग भी ले लिया जाए तो हमारे किये गए प्रयासों का सही और बेहतर परिणाम मिलने लगता है इसलिए आप भी अगर दुकान के व्यवसाय से जुड़े हुए हैं तो वास्तु के इन नियमों पर ज़रूर गौर करें ताकि आपको बेहतरीन परिणाम और बरकत मिल सके।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“घर का नक्शा वास्तु शास्त्र के अनुसार ऐसा होना चाहिए”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें