दुनिया का सबसे छोटा देश जहाँ रहते हैं महज 27 लोग

दुनिया के सबसे छोटे देश का नाम पूछे जाने पर आपका जवाब भी वेटिकन सिटी ही होता होगा जिसे अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त है और जिसका क्षेत्रफल 0.44 वर्ग किलोमीटर है और यहाँ की जनसँख्या लगभग 800 है। लेकिन अब एक ऐसा देश भी अस्तित्व में आया है जिसकी जनसँख्या महज 27 लोगों की है और इसका क्षेत्रफल एक टेनिस कोर्ट के समान है। दुनिया के इस सबसे छोटे देश का नाम है सीलैंड। यह इंग्लैंड के सफोल्क समुद्री तट से करीब 10 किमी. दूर स्थित सीलैंड खंडहर बन चुके समुद्री किले पर स्थित है।

ऐसा माना जाता है कि दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान ब्रिटेन ने इस स्थान को एंटी एयरक्राफ्ट डिफेंसिव गन प्लेटफार्म का रूप दिया था लेकिन समय-समय पर इस छोटे से देश पर अलग-अलग लोगों का अधिकार रहा और 9 अक्टूबर 2012 को रॉय बेट्स नामक शख्स ने खुद को सीलैंड का राजा घोषित कर दिया। रॉय बेट्स की मृत्यु के बाद उनके बेटे माइकल का शासन सीलैंड पर चलता है।

most-smallest-country1 दुनिया का सबसे छोटा देश जहाँ रहते हैं महज 27 लोग

सीलैंड एक माइक्रो नेशन है, हालाँकि इसे अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता नहीं मिली है और साल 2011 के आंकड़ों के अनुसार यहाँ की जनसंख्या केवल 27 है। इस छोटे से स्थान को देश कहने का कारण ये है कि इस देश का अपना डाक टिकट, करेंसी और पासपोर्ट भी है और करेंसी पर रॉय बेट्स की पत्नी जॉन बेट्स की तस्वीर है और इस देश का अपना एक झंडा भी है जो लाल, सफ़ेद और काले रंग से मिलकर बना है।

इस देश का क्षेत्रफल काफी कम होने के कारण यहाँ के निवासियों के लिए आजीविका के साधन काफी कम थे लेकिन जब ये देश इंटरनेट के ज़रिये दुनिया के सामने आया तो इस छोटे से देश के बारे में जानकर लोग हैरान तो हुए ही, साथ ही उन्होंने इतना डोनेशन भी दिया जिससे सीलैंड के लोगों को काफी आर्थिक सहायता मिल गयी।

आपको यह लेख कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

“दुनिया का सबसे आलसी देश”

शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment