दुनिया के सबसे जहरीले पौधे

हमारी ये दुनिया अद्भुत रहस्यों से भरी हुई है। यहाँ कई ऐसी चीज़ें मौजूद हैं जिन पर सहसा विश्वास नहीं होता है उदाहरण के लिए पौधे ही हैं जो आमतौर पर मनुष्य के लिए वरदान माने जाते हैं जिससे हमें न सिर्फ प्राणवायु ऑक्सीजन मिलती है, बल्कि यह पृथ्वी के उस पर्यावरणीय संतुलन को बनाये रखने मे महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं जिससे जीवन संभव है। जीवन के लिए इतने महत्वपूर्ण होते हुए भी कुछ जहरीले पौधे मनुष्य के लिए बहुत नुकसानदायक हैं, ये अजीब विरोधाभास है कि जो इतना जीवनोपयोगी हो उससे भी हमारे जीवन पर संकट संभव है पर यही विरोधाभास जीवन की खासियत है। यहां हम ऐसे ही कुछ सबसे जहरीले पौधे के बारे मे जानेगे।

सुसाइड ट्री – यह केरल और आसपास के समुद्र तटीय क्षेत्रों मे पाया जाता है। इसके फल के बीज अत्यंत विषैले होते हैं। इसमें एल्कलॉइड होता है, जो कार्डियो टॉक्सिक है जो ह्रदय और श्वसन तंत्र के लिए हानिकारक है। इससे केरल मे कई मौतें हुई हैं।

विस्टेरिया – यह बैंगनी रंग का फूल हैं जो मुख्य रूप से जापान, संयुक्त राज्य अमेरिका के कुछ हिस्सों के साथ-साथ चीन मे पाया जाता है। इस पौधे के किसी भी हिस्से को खाने से मुख्यतः माइग्रेन या सिरदर्द, कमजोरी, दस्त या बुखार जैसी परेशानियाँ होती हैं।

यूरोपियन यू – यह यूरोप के सर्वाधिक पुराने पेड़ों मे से एक है। यह आम तौर पर धीमी गति से बढ़ते हुए 132 फीट लंबा हो सकता है। पौधे की पत्तियों गहरे-हरे रंग की होती हैं। इससे दिल का दौरा सहित ह्रदय की अन्य बीमारियां होती हैं।

डॉल्स आईज – यह पेड़ उत्तरी कनाडा, जॉर्जिया और अमेरिकी स्टेट मिनसोटा सहित विश्व के कई देशों मे पाया जाता है। इसका फूल सफ़ेद और काला होता है। इसके घटक ज़हर से कार्डिक अटैक आता है। इससे मनुष्यों के अलावा पशु पक्षियों को भी खतरा है।

लकी नट – यह आकर्षक पौधा अमेरिका के उष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों मे पाया जाता है जो 23 फीट तक बढ़ता है और इसमें 12 महीने फूल लगते है। वृक्ष के सभी हिस्से ग्लूकोसाइड के कारण ह्रदय के लिए हानिकारक होते हैं, साथ ही पेट दर्द और दस्त, गले मे जलन जैसी परेशानियाँ भी हो सकती हैं।

कनेर – कनेर भारत सहित अमेरिका पुर्तगाल मोरक्को आदि देशों मे पाया जाता है, इसका बीज विषैला होता है। एक बीज का सेवन भी जान लेने के लिये काफी है। कनेर का जहर डाइगाक्सीन ड्रग की तरह है। डाइगाक्सीन दिल की धड़कन की रफ्तार कम करता है। कनेर का एक बीज डाइगाक्सीन के सौ टैबलेट के बराबर होता है। पहले तो यह दिल की धड़कन को धीमा करता है और आखिरकार एकदम रोक दोता है।

अरंडी – यह भारत के अलावा फ़्रांस, स्पेन, इटली, अमेरिका, लीबिया, तंजानिया, कीनिया आदि देशों में पाया जाता है। इसका बीज बहुत जहरीला होता है जिसमे टोक्सिन नमक प्रोटीन तत्व पाया जाता है जिससे ब्लड प्रेशर के साथ साथ पेट सम्बन्धी समस्याएं भी हो सकती हैं और समय पर इनका इलाज न होने पर मौत भी संभव है।

अगर आप कभी किसी जंगल में या पहाड़ों में भटक जाएं तो कभी भी किसी अनजान पौधे या उसके फल को खाने की गलती ना करें। ये जानकारी आपको इसीलिए दी गयी है जिससे आपको ये पता रहे कि कौन सा पौधा आपके लिए नुकसानदायक है।

आपको यह लेख कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“ये हैं दुनिया के 5 सबसे खतरनाक आइलैंड”

जागरूक यूट्यूब चैनल पर हिन्दी वीडियो देखें