दुनिया के 10 सबसे ज्यादा शिक्षित देश

पढ़ाई-लिखाई ना केवल एक व्यक्ति के व्यक्तित्व को प्रभावित करती है बल्कि ऐसे शिक्षित लोगों से बनने वाले देश भी अपना प्रभावी व्यक्तित्व रखते हैं और पूरी दुनिया में अपनी शिक्षा और काबिलियत के लिए पहचाने जाते हैं। ऐसे में दुनिया के सबसे ज़्यादा पढ़े-लिखे देशों के बारे में आपको भी जानना चाहिए। तो चलिए, आज जानते हैं दुनिया के ऐसे ख़ास देशों के बारे में, जो अपनी ढ़ेरों खूबियों के साथ-साथ अपने शिक्षा के स्तर के लिए भी जाने जाते हैं। दुनिया के 10 सबसे ज्यादा शिक्षित देश –

1. सिंगापुर – ऑर्गनाइजेशन फॉर इकोनॉमिक को-ऑपरेशन एंड डेवलपमेंट की रिपोर्ट के अनुसार, पूरे विश्व में सिंगापुर वो देश है जिसकी शिक्षा का स्तर सबसे ऊँचा और बेहतरीन है। रिपोर्ट में सिंगापुर ने 6.3 का स्‍कोर प्राप्त किया और ये देश गणित और विज्ञान जैसे विषयों में दुनिया की सबसे बेहतरीन शिक्षा पद्धति के लिए जाना जाता है।

2. फिनलैंड्स – फिनलैंड्स के एजुकेशन सिस्टम से प्रेरणा ली जानी चाहिए क्योंकि यहाँ का हर टीचर देश के टॉप टेन ग्रेजुएट्स में से ही चुना जाता है और टीचर द्वारा पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री लेना भी एक अनिवार्यता ही है। ऐसे में इस देश की शिक्षा का स्तर तो ऊँचा होना ही है। इस देश का स्कोर 6.2 है।

3. नीदरलैंड्स – नीदरलैंड्स का हर तीसरा डच नागरिक यूनिवर्सिटी डिग्री होल्डर होता है। ऐसे में नीदरलैंड्स का स्तर शिक्षा के क्षेत्र में ऊँचा होना स्वाभाविक है और इसलिए इस देश का स्कोर 6.1 है। यहाँ की सरकार द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में काफी प्रयास किये जाते हैं।

4. स्विट्ज़रलैंड – पूरी दुनिया में सबसे खूबसूरत और रोमांटिक जगह के तौर पर पहचाने जाना वाला ये देश पढ़ाई के क्षेत्र में भी काफी आगे है। इस देश का स्कोर 6.0 रहा। यहाँ की कुल जनसँख्या में 25-64 साल के लगभग 86% लोग शिक्षित हैं और यहाँ हर छात्र पर प्रतिवर्ष 17000 डॉलर का खर्च होता है।

5. बेल्जियम – बेल्जियम में शिक्षा और शिक्षकों के महत्व को इस बात से जाना जा सकता है कि यहाँ टीचर्स की तनख़्वाह बहुत ज़्यादा होती है और उन्हें औसतन 74000 डॉलर सैलेरी में मिलते हैं। बेल्जियम के केवल 3 प्रतिशत नागरिक ऐसे होते हैं जो उच्च शिक्षा प्राप्त करने के बाद भी बेरोजगार रह जाते हैं और इसलिए बेल्जियम का स्कोर 6.0 है।

6. डेनमार्क – 5.9 के स्कोर के साथ डेनमार्क छठे नंबर पर रहा है लेकिन अगर शिक्षा पर सबसे ज़्यादा खर्चा करने वाले देशों की बात की जाए तो ऐसे देशों में डेनमार्क शीर्ष पर है। ये देश शिक्षा को कम महत्व देने वाले देशों के लिए एक मिसाल है क्योंकि साल 2008 से 2010 के बीच फाइनेंशियल क्रैश के दिनों में भी इस देश ने अपने नागरिकों की शिक्षा पर खर्च बढ़ाया और ऐसा करने वाले चंद देशों में अपना नाम शुमार कर लिया।

7. नॉर्वे – शिक्षा पर बहुत ज़्यादा पैसा खर्च करने वाला एक और देश है नॉर्वे, जो प्राइमरी एजुकेशन से लेकर टेरिटरी एजुकेशन तक प्रति व्यक्ति लगभग 14,000 डॉलर सालाना खर्च करता है और 5.9 स्कोर के साथ ये देश सातवें स्थान पर है।

8. अमेरिका – अमेरिका का स्कोर भी 5.9 है और इसके साथ अमेरिका आठवें नम्बर पर है। इस देश के लगभग 43% लोगों के पास यूनिवर्सिटी स्तर की डिग्री है जिसके कारण करीब 34 शिक्षित देशों के स्‍तर के बीच ओईसीडी लिस्टिंग में अमेरिका पांचवें स्थान पर है।

9. ऑस्ट्रेलिया – ऑस्ट्रेलिया का स्कोर 5.9 है। यहाँ के 43% छात्र स्कूल पूरा होने के बाद किसी ना किसी टेक्निकल ट्रेनिंग से जुड़ जाते हैं।

10. न्यूजीलैंड – इस देश में भी शिक्षा को विशेष महत्व दिया जाता है और कुछ समय पहले इस देश की सरकार द्वारा ऐसी योजना लायी गयी है जिसके ज़रिये कुछ खास दिनों में स्कूल ना आने के बावजूद छात्रों को उस दिन की शिक्षा ऑनलाइन दी जा सकेगी। इस देश का स्कोर 5.9 रहा।

शिक्षा के महत्व को आप समझते हैं और अब आप ऐसे देशों के बारे में भी जान चुके हैं जो शिक्षा पर ज़ोर देते हैं और नए-नए प्रयासों के ज़रिये शिक्षा के स्तर को ऊँचा उठाना चाहते हैं। ऐसे में शिक्षा के महत्व को लोगों तक पहुंचाने के लिए, कुछ छोटे-छोटे प्रयास तो हम भी कर सकते हैं। तो देर किस बात की, आप अपने स्तर पर शिक्षा के क्षेत्र में जो योगदान दे सकते हैं, उसे देने में झिझकिये मत।

आपको यह लेख कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“जापान के लोगों से सीखें लम्बी उम्र का राज़”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।